Asianet News HindiAsianet News Hindi

Gujarat में कड़े नियमों के बीच मनाया जाएगा उत्तरायण पर्व, पतंगबाजी और डीजे को लेकर जानिए क्या है नई गाइडलाइन

सामूहिक रूप से पतंगबाजी पर रोक लगा दी गई है। किसी भी सार्वजनिक स्थान, खुले मैदान या सड़कों पर पतंग उड़ाने के लिए लोगों के एकत्रित होने पर रोक रहेगी। इसमें कहा गया है कि छतों पर या आवासीय सोसाइटी के अंदर बड़ी सभाओं पर प्रतिबंध रहेगा।
 

Gujarat Ahmedabad  Makar Sankranti 2022 guidelines for uttarayan stb
Author
Ahmedabad, First Published Jan 11, 2022, 10:09 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

अहमदाबाद : कोरोना संक्रमण को देखते हुए गुजरात (Gujarat) में उत्तरायण पर्व पर कई तरह की पाबंदियां लगा दी गई हैं। राज्य सरकार ने उत्तरायण पर्व के लिए कड़ी गाइडलाइन जारी की है। इसके अनुसार पतंगबाजी के लिए सार्वजनिक स्थानों, सड़कों और खुले मैदानों में लोगों के एकत्र होने पर रोक लगा दी गई है। छत पर या सोसाइटी में डीजे और लाउड स्पीकर बजाने पर भी मनाही की गई है।

क्या है नई गाइडलाइन
गृह विभाग की ओर से जारी गाइडलाइन के मुताबिक, सामूहिक रूप से पतंगबाजी पर रोक लगा दी गई है। किसी भी सार्वजनिक स्थान, खुले मैदान या सड़कों पर पतंग उड़ाने के लिए लोगों के जुटने पर रोक रहेगी। गाइडलाइन में कहा गया है कि छतों पर या सोसाइटी के अंदर बड़ी सभाओं पर प्रतिबंध रहेगा। अन्य जगहों पर रहने वाले मेहमानों, दोस्तों या रिश्तेदारों को समारोह के लिए अन्य आवासीय परिसरों में प्रवेश पर रोक रहेगी। इसके अलावा छतों पर या सोसायटी में डीजे और लाउडस्पीकर भी नहीं बजा सकेंगे।

पतंगबाजी होती है खास
बता दें कि राज्य में इस पर्व पर पतंगबाजी के बड़े आयोजन होते हैं। लोग मकर संक्राति के मौक पर एक साथ इकट्ठा होकर छतों पर पतंगबाजी करते हैं। हालांकि, पतंगबाजी के लिए अहमदाबाद सबकी पंसदीदा जगह है। लेकिन इस बार कोरोना की वजह से राज्य सरकार ने नए दिशा निर्देश जारी कर भीड़ इकट्ठा नहीं करने का आदेश दिया है।

कोरोना संक्रमण के चलते रोक
राज्य में बढ़ते संक्रमण को देखते हुए राज्य सरकार ने यह फैसला लिया है। गुजरात में भी कोरोना संक्रमण तेजी से फैल रहा है। सोमवार को प्रदेश में 6,275 नए केस मिले थे। 8 महीने बाद पहली बार इतना बड़ा आंकड़ा सामने आया। इससे पहले 19 मई को 6,447 मरीज मिले थे। अहमदाबाद (Ahmedabad) और सूरत (surat) की स्थिति सबसे ज्यादा चिंताजनक है। 
सबसे ज्यादा मामले यहीं दर्ज किए गए हैं। इन दोनों जगहों पर कुल मिलाकर 4,498 संक्रमित मिले हैं।

इसे भी पढ़ें-Lohri 2022 : त्योहार एक, नाम अनेक..जानिए देश के अलग-अलग राज्यों में कैसे मनाई जाती है लोहड़ी..

इसे भी पढ़ें-Makar Sankranti 2022: इस बार हरिद्वार और ऋषिकेश की गंगा में नहीं लगा सकेंगे आस्था की डुबकी, जानें क्यों..

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios