Asianet News HindiAsianet News Hindi

Gujarat Assembly Elections 2022: गुजरात की भुज विधानसभा सीट, किसका लहराया परचम, क्या है यहां का वोटिंग समीकरण

गुजरात विधानसभा चुनाव 2022 (Gujarat Assembly Elections 2022) की तैयारियां शुरू हो चुकी हैं। गुजरात में कच्छ जिले की भुज विधानसभा सीट के बारे में सब कुछ जानें।
 

Gujarat Assembly Elections 2022 know all about bhuj constituency in Gujarat mda
Author
Bhuj, First Published Jun 27, 2022, 10:16 AM IST

भुज. गुजरात के कच्छ जिले की भुज विधानसभा सीट इस समय भारतीय जनता पार्टी के कब्जे में है। गुजरात विधानसभा चुनाव 2017 के दौरान यहां भाजपा के आचार्य नीमाबेन भावेशभाई ने कांग्रेस के चाकी आदमभाई बुढाभाई को करीब 14 हजार मतों के अंतर से शिकस्त दी थी। यह भी कच्छ लोकसभा सीट के अंतर्गत आता है, जहां से भारतीय जनता पार्टी के विनोद भाई चावडा सांसद हैं। उन्होंने कांग्रेस के नरेश नरनभाई माहेश्वरी को करीब 3 लाख वोटों से करारी शिकस्त दी थी। गुजराता विधानसभा चुनाव 2022 में भी इस सीट से दोनों पार्टियां दावेदारी कर रही हैं। 

विधानसभा चुनाव 2017 में भुज में वोटिंग ट्रेंड
गुजरात विधानसभा चुनाव 2017 के दौरान भुज विधानसभा पर कुल 13 लोग मैदान में थे, जिनमें से 11 प्रत्याशियों की जमानत जब्त हो गई। भुज विधानसभा में कुल 2,55,820 मतदाता पंजीकृत थे। इनमें से 1,69,200 मतदाताओं ने वोट डाले। 2017 में भुज विधानसभा में कुल 66.72 प्रतिशत वोटिंग हुई। आश्चर्य कि बात है इस विधानसभा क्षेत्र में 4 हजार से ज्यादा वोट नोटा पर पड़े जो कि 11 प्रत्याशियों को मिले वोट से ज्यादा रहे। यहां बीजेपी को 86532 वोट मिले जबकि कांग्रेस प्रत्याशी को 72510 वोट मिले। दोनों के बीच हार-जीत का अंतर करीब 14 हजार वोटों का रहा था। 

क्या है भुज विधानसभा का वोटिंग समीकरण
गुजरात विधानसभा चुनाव 2017 में भुज विधानसभा में 50 प्रतिशत से ज्यादा वोट बीजेपी प्रत्याशी को मिले और भाजपा ने यहां लगातार तीसरी बार जीत दर्ज की। जीत की इस हैट्रिक में यहां की सिटिंग विधायक आचार्य नीमाबेन भावेशभाई के कार्यों का बड़ा योगदान है। भुज विधानसभा सीट पर मुस्लिम, दलित व ओबीसी वोट बैंक का बड़ा योगदान होता है। यह गुजरात में कांग्रेस के परंपरागत वोटर रहे हैं लेकिन बीजेपी ने समीकरण साधने में कामयाबी पाई और इस सीट पह लगातार तीसरी बार जीत दर्ज की। 

भुज का विनाशकारी भूकंप
26 जनवरी 2001 को जब भारत अपना 52वां गणतंत्र दिवस मना रहा था तब गुजरात के भुज इलाके में भयानक भूकंप के झटके लगे थे। सुबह करीब 8 बजकर 45 मिनट पर भुज की धरती ऐसे हिली मानों किसी ने झकझोर कर रख दिया हो। इस विनाशकारी भूकंप में भुज में करीब 20 हजार लोगों की जानें चली गई थी। हजारों लोग घायल भी हुए। इस दिन गुजरात में कई स्थानों पर भूकंप के झटके महसूस किए गए लेकिन सबसे ज्यादा तबाही भुज में मची थी। दुनिया भर के देशों ने इस पर अफसोस जाहिर किया था। 

क्यों फेमस है भुज, जानें सब कुछ
दरअसल, कच्छ की राजधानी भुज है। जहां समुद्री तट के अलावा महाराजा का आइना महल, प्राग महल, शरद बाग पैलेस और हमीरसर तालाव मुख्य आकर्षण हैं। भुज से मांडवी इलाके में भी कई दर्शनीय स्थल हैं, जहां पर्यटकों का आना जाना लगा रहता है। भुज में विश्व प्रसिद्ध रण उत्सव का आयोजन किया जाता है। इसमें गांवों के कलाकार अपने हाथों की बनी चीजें बेचते हैं जो विरासत और संस्कृति का खजाना होता है। भुज की छतरियां भी बहुत फेमस हैं। यहां के आकर्षक महल बरबस ही लोगों को अपनी ओर खींच लेते हैं।

यह भी पढ़ें

Gujarat Assembly Elections 2022: गुजरात की मांडवी विधानसभा सीट, हाई प्रोफाइल मुकाबला, जानें ऐतिहासिक शहर को...
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios