Asianet News Hindi

ऑनर किलिंग: गर्भवती बेटी के बहाने दामाद को बुलाया, फिर सबने मिलकर कर दिया अटैक

हरेश ने गुजरात सरकार की हेल्पलाइन 181 अभयम में लगाई थी सुरक्षा की गुहार। पुलिस की टीम के सामने ससुरालवालों ने बोल दिया था हमला।
 

Honor Killing in Gujarat: Murder of Lover presence in Police
Author
Ahmedabad, First Published Jul 11, 2019, 3:38 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

अहमदाबाद. गुजरात में ऑनर किलिंग का सनसनीखेज मामला सामने आया है। हैरान करने वाली बात यह है कि पुलिस की मौजूदगी में प्रेमिका के घरवालों ने उसके प्रेमी को मौत के घाट उतार दिया। उन्होंने पुलिस की टीम पर भी हमला किया। मृतक ने गुजरात सरकार की हेल्पलाइन 181 अभयम में प्रेमिका की सुरक्षा के लिए गुहार लगाई थी। पुलिस की टीम काउंसिलिंग करने लड़की के घर पहुंची थी, तभी इस हत्याकांड को अंजाम दिया गया। लड़की क्षत्रिय है, जबकि प्रेमी दलित। लड़की के परिजन इस रिश्ते से नाखुश थे। कपल ने 8 महीने पहले भागकर शादी की थी। लड़की गर्भवती थी। 

भागकर की थी शादी

पुलिस के मुताबिक, 23 साल के हरेश सोलंकी अहमदाबाद से करीब 100 किमी दूर मंडल तालुक के वरमोर गांव की रहने वाली उर्मिला(22) से प्रेम करता था। कच्छ के गांधीधाम का रहने वाला हरेश प्राइवेट फर्म में जॉब करता था। शादी के बाद उर्मिला को अपने गांव ले गया था। हालांकि एक महीने बाद उर्मिला के पिता दशरथसिंह झाला ने अपनी पत्नी की बीमारी का बहाना बनाकर उर्मिला को घर बुला लिया। 

डिप्टी SP पीडी मंवार ने बताया, 'उर्मिला को कैद करके रखा गया था। उसे हरेश से बात करने की इजाजत भी नहीं थी। जब हरेश को पता चला कि उर्मिला गर्भवती है, तो उसकी परेशानी बढ़ गई। हरेश को डर था कि ससुरालवाले उसका बच्चा गिरवा सकते हैं। इसलिए उसने अभयम से मदद मांगी थी।

अभयम की काउंसलर भाविका भगोरा ने बताया कि हरेश ने सोमवार को दोपहर 2 बजकर 50 मिनट पर कॉल कर मदद की गुहार लगाई थी। इसके बाद अभयम की एक टीम जिसमें महिला कॉन्स्टेबल, एक ड्राइवर और खुद भाविका शाम पौने छह बजे के करीब मंडल बस स्टॉप पहुंचे। वहां हरेश अपनी मां और रिश्तेदार के साथ इंतजार कर रहे थे। इस दौरान हरेश ने भाविका को बताया कि उनके ससुरालवालों ने मिलने के लिए बुलाया है।
 
काउंसिलिंग के बाद बोला हमला...
पुलिस के मुताबिक, जब अभयम की टीम उर्मिला की काउंसिलिंग कर रही थी, तब हरेश घर के बाहर खड़ा था। करीब 20 मिनट की काउंसिलिंग के बाद जब पुलिस की टीम अपनी गाड़ी में बैठकर जाने को हुई, तभी दशरथ और उसके परिजनों ने हरेश पर हमला बोल दिया। इससे पहले कि पुलिस उसे बचा पाती, उर्मिला के भाई इंद्रजीतसिंह ने हरेश का गला काट दिया। दशरथ ने हरेश के सिर और पेट पर चाकू से वार किया। आरोपियों ने पुलिस टीम पर भी हमला बोल दिया। डीएसपी प्रवीण कुमार मीना ने बताया, आरोपियों पर हत्या, सरकारी कर्मचारियों पर हमला, आपराधिक साजिश और एससी-एसटी एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया है। एक आरोपी गिरफ्तार किया जा चुका है। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios