Asianet News Hindi

उत्तरभारत में बर्फबारी से जोर पकड़ेगी ठंड, दुनिया में सबसे ऊंचाई पर बने कृष्ण मंदिर ने ओढ़ी सफेद चादर

दिसंबर ज्यों-ज्यों आगे बढ़ रहा है उत्तरभारत में ठंड भी जोर पकड़ रही है। दिल्ली और उत्तरभारत में रिकॉर्ड सामान्य से कम तापमान को देखते हुए अनुमान है कि इस साल अधिक ठंड पड़ेगी। मौसम विभाग की मानें तो आने वाले कुछ दिनों में उत्तरप्रदेश, उत्तर-पश्चिम भारत और मध्य-पूर्व भारत में तापमान सामान्य से कम रहेगा। यह तस्वीर हिमाचल प्रदेश के किन्नौर की रोराघाटी स्थित युला कुंडा झील में स्थित कृष्ण मंदिर की है।

Latest weather report in india kpa
Author
Delhi, First Published Dec 5, 2020, 10:32 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

(फोटो क्रेडिट-दैनिक भास्कर)

दिल्ली.  इस साल देश में अधिक ठंड पड़ने का अनुमान है। इसकी वजह ला नीना का प्रभाव बताया जाता है। भारतीय मौसम विभाग (India Meteorological Department) के डीजी डॉ. एम. महापात्रा के अनुसार इस समय प्रशांत महासागर के पूर्व और मध्य में तापमान सामान्य से कम है। यहां ला नीना के हालात हैं। ठंड के अंत तक यहां ऐसी ही स्थिति रहेगी। बता दें कि ला नीना को स्पेनिश भाषा में छोटी बच्ची कहते हैं। इसका उच्चारण‘ला-नीन-युह' है।  इसका दुनियाभर में प्रभाव पड़ता है। ला नीना प्रशांत महासागर के ऊपर हवाओं का एक ठंडा फेज होता है। यानी जब गर्म पानी आगे बढ़ता है, तो ठंडा पानी ऊपर सतह पर आ जाता है। इससे ठंड अधिक पड़ती है। दिल्ली और उत्तरभारत में रिकॉर्ड सामान्य से कम तापमान को देखते हुए अनुमान है कि इस साल अधिक ठंड पड़ेगी। मौसम विभाग की मानें तो आने वाले कुछ दिनों में उत्तरप्रदेश, उत्तर-पश्चिम भारत और मध्य-पूर्व भारत में तापमान सामान्य से कम रहेगा।

देखें यह हाल...
 यह तस्वीर हिमाचल प्रदेश के किन्नौर की रोराघाटी स्थित युला कुंडा झील में स्थित कृष्ण मंदिर की है। यह झील बर्फ में जमी हुई है। यहां तापमान -14 तक पहुंच गया है। झील के बीच में बना कृष्ण मंदिर दुनिया में सबसे ऊंचाई पर बना मंदिर माना जाता है। यह समुद्रतल से करीब 12 हजार फीट की ऊंचाई पर है। यह हिमाचल प्रदेश का सबसे प्राचीन मंदिर माना जाता है। यहां जाने के लिए शिमला से 194 किमी. दूर किन्नौर के टापरी तक आना होता है। यहां से तीन किमी पैदल चलकर बेस कैंप पहुंचा जा सकता है। फिर 9 किमी की ट्रैकिंग के बाद यहां पहुंच सकते हैं। हालांकि बर्फबारी के कारण यह मंदिर कई महीने बंद रहेगा। कहते हैं कि इस झील का पानी औषधीय गुणों से भरपूर है। दावा किया जाता है कि मंदिर की परिक्रमा करने से कई रोग दूर हो जाते हैं।

यह भी पढ़ें-

सुर्खियों में रहीं वर्ष 2020 की ये तस्वीरें, मजबूरी में मीलों पैदल चलना पड़ा..पांव में पड़े छाले

वर्ष 2020 में सोनू सूद ने ऐसा किया कि लोगों के आंसू निकल पड़े, पढ़िए कुछ हैरान करने वाली खबरें

ट्रैक्टर पर निकला दूल्हा, बराती बोले-जय जवान, जय किसान और अब दुल्हन को लेकर किसान आंदोलन में होगा शामिल

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios