Asianet News HindiAsianet News Hindi

पिता के छोटे-छोटे टुकड़े कर बल्टियों में भरा, आखिरी प्लान से पहले हुआ EXPOSE

हैदराबाद में मर्डर का एक ऐसा मामला सामने आया है, जिसे देखकर लोगों की रूह कांप उठी। कुछ दिनों से लोगों को पड़ोसी के घर से सड़ांध आने लगी थी। जब बदबू बर्दाश्त से बाहर हुई, तो पुलिस को इत्तला की गई। पुलिस घटनास्थल पर पहुंची। जब पड़ोसी के घर की तलाशी ली गई, तो वहां कुछ बाल्टियों में मांस के छोटे-छोटे टुकड़े भरे मिले। इस तरह सामने आई एक शॉकिंग मर्डर मिस्ट्री..

Shocking Murder Mystery in Hyderabad
Author
Hyderabad, First Published Aug 21, 2019, 11:18 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

हैदराबाद. एक घर में रोज-रोज चिक-चिक होती थी। बेटा और बेटी अपने पिता के गुस्से से तंग आ चुके थे। उनकी मां भी आए-दिन मार खाती थी। आखिरकार उन्होंने एक ऐसी घटना को अंजाम दिया, जिसे सुनकर लोगों की रूह कांप उठी।

रोज-रोज की कलह ने घर किया बर्बाद
रेलवे से रिटायर्ड 80 साल के कृष्ण सुधीर मूर्ति कृष्णानगहरा कॉलोनी में अपने फैमिली के साथ रहते थे। फैमिली में उनका बेटा किशन, बेटी प्रफुल्ल और पत्नी थे। उनकी एक बेटी की शादी हो चुकी है, जबकि बड़ा बेटा कई सालों से गायब है। मूर्ति मालगाड़ी में लोको पायलट थे। वे करीब 20 साल पहले महाराष्ट्र से हैदराबाद आकर बस गए थे। मूर्ति शराब पीकर अकसर घर पर कलह करते थे। कुछ दिन पहले वे अचानक गायब  हो गए। रविवार को पड़ोसियों ने उनके घर से भयंकर बदबू महसूस की। पहले तो उन्होंने पूछताछ की। जब कुछ गड़बड़ लगी, तो पुलिस को जानकारी दी गई। मौके पर पहुंची पुलिस ने घर की तलाशी ली। देखा, एक 2-3 बाल्टियों में मांस के टुकड़े भरे थे। यह लाश किसी इंसान की थी। यह देखकर पुलिस हरकत में आई। जब परिजनों से सख्ती से पूछताछ की, तो चौंकाने वाला मामला सामने आया।

चाकू से कर दिए पिता के छोटे-छोटे टुकड़े
बताते हैं कि किशन इस बात से नाराज था कि पिता शराब पीकर रोज घर में कलह करता था। इसलिए एक दिन तंग आकर उसने चाकू घोंपकर उनकी हत्या कर दी। फिर लाश के छोटे-छोटे टुकड़े करके बाल्टियों में भर दिया। वो उन्हें मौका मिलने पर ठिकाने लगाने वाला था। लेकिन बदबू ने सारी योजना फेल कर दी। इस मर्डर में मृतक की बेटी और पत्नी ने भी सहयोग किया। आरोपी एसीपी संदीप ने बताया कि पहले उनकी बेटी और पत्नी ने बेरोजगार किशन पर हत्या का आरोप लगाया था। उनका तर्क था कि शायद पैसों के लिए किशन ने अपने पिता को मार डाला। हालांकि बाद में उन्होंने भी अपना जुर्म कबूल कर लिया।

2 दिन तक बाल्टी में पड़े रहे लाश के टुकड़े
पुलिस की जांच में सामने आया है कि सुधीर की हत्या शुक्रवार को की गई। लेकिन दो दिन तक लाश के टुकड़े बाल्टियों में भरे घर में रखे गए। अगर बदबू न आती, तो शायद अभी भी इस मर्डर मिस्ट्री का खुलासा नहीं हो पाता। मूर्ति की पत्नी ने पुलिस को बताया कि किशन ने उन्हें धमकाया था, इसलिए वे चुप बनी रहीं। किशन फरार है।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios