Asianet News HindiAsianet News Hindi

पंजाब के तरनतारन में हंगामा: गार्ड को बंधक बनाकर चर्च में की तोड़फोड़, पादरी की कार को भी फूंका

पंजाब के तरनतारन जिले में एक चर्च पर तोड़फोड़ का मामला सामने आया है। घटना ठकरपुर गांव की है। अज्ञात उपद्रवियों के द्वारा पादरी की कार को भी आग के हवाले कर दिया गया है। पुलिस मामले की जांच में कर रही है।

pastors car set on fire church vandalised in  Tarn Taran  pwt
Author
First Published Aug 31, 2022, 1:46 PM IST

चंडीगढ़. पंजाब के तरनतारन जिले में एक चर्च में तोड़फोड़ का मामला सामने आया है। घटना सीसीटीवी में कैद हो गई है। फिलहाल पुलिस इस मामले की जांच में जुटी हुई है। जानकारी के अनुसार, मंगलवार रात कुछ अज्ञात लोगों ने चर्च में घुसकर प्रभु यीशू और मरियम की मूर्ति के साथ-साथ चर्च को नुकसान पहुंचाया है। अज्ञात उपद्रवियों के द्वारा पादरी की कार को भी आग के हवाले कर दिया गया है। 

घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस भी घटनास्थल पर पहुंच गई है और मामले की जांच में कर रही है। मामला तरनतारन जिले के ठकरपुर गांव की है। इससे पहले ईसाई मिशनरियों द्वारा जबरन धर्मांतरण का आरोप लगाया गया था। बता दें कि कि ठकरपुर गांव को धार्मिक एकता के रूप में जाना जाता है। बताया जा रहा है कि करीब 6 से 7 लोगों ने चर्च में घुसकर जबरन हंगामा किया और मूर्तियों को भी तोड़ दिया है। 

गार्ड को बनाया बंधक
उपद्रवियों ने चर्च में घुसने से पहले गार्ड को पिस्तोल दिखाकर बंधक बना लिया इसके बाद वो अंदर दाखिल हुए और फिर तोड़फोड की। बताया जा रहा है कि तोड़फोड़ करने वाले लोग अपने साथ चर्च का कुछ सामान भी ले गए हैं। हालांकि अभी तक उन लोगों की पहचान नहीं हो पाई है जो जिन लोगों ने इस घटना को अंजाम दिया है। 

ईसाइयों ने सड़क पर किया विरोध
घटना के बाद ईसाई सुमदाय के लोगों ने बुधवार सुबह पट्‌टी-खेमकरण राज्य मार्ग को बंद करते हुए विरोध प्रदर्शन किया। प्रदर्शन कर रहे समाज के लोगों की मांग है कि घटना को अंजाम देने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए। सड़क जाम होने के कारण पुलिस मौके पर पहुंची और धरने पर बैठे लोगों को समझाने का प्रयास किया। अधिकारियों ने भरोसा दिया कि इस मामले में जल्द आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। 

निहंगों ने लगाया था धर्मांतरण का आरोप
बता दें कि हाल ही में चर्च पर धर्म परिवर्तन करवाने का आरोप लगा था। निहंग सिखों ने इस मुद्दे को लेकर विरोध भी किया था।  इस मामले में अकाल तख्त ने भी निहंगों का समर्थन किया था और कहा था कि पादरी सिखों को गुमराह कर रहे हैं और उनका धर्मांतरण करवा रहे हैं।

इसे भी पढ़ें-  मूसेवाला हत्याकांड में बड़ी कार्रवाई: विदेश में बैठा लॉरेंस बिश्नोई का भांजा गिरफ्तार, भाई केन्या में ट्रैस

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios