Asianet News HindiAsianet News Hindi

उड़ता पंजाब: हरीश रावत की छुट्‌टी की तैयारी, ये रही हटाने की बड़ी वजह..इन्हें मिल सकता है प्रदेश का चार्ज

पंजाब (Punjab) का सियासी पारा चढ़ता ही जा रहा है। विधानसभा चुनाव से पहले उठापटक जारी है। अब खबर सामने आई है कि कांग्रेस हाईकमान उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत की  प्रदेश प्रभारी पद से छुट्‌टी की तैयारी कर ली है। 

Punjab Politics, Harish Chaudhary can replace Harish Rawat as congress chief
Author
Amritsar, First Published Oct 2, 2021, 11:25 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

अमृतसर. पंजाब (Punjab) का सियासी पारा चढ़ता ही जा रहा है। विधानसभा चुनाव से पहले उठापटक जारी है। अब खबर सामने आई है कि कांग्रेस हाईकमान ने उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत (Harish Rawat) की प्रदेश प्रभारी पद से छुट्‌टी की तैयारी कर ली है। जल्द ही उन्हें हटाया जा सकता है। उनकी जगह हरीश चौधरी ( Harish Chaudhary) को राज्य का प्रभारी नियुक्त किया जा सकता है।

रावत को हाटने की यह बड़ी वजह
रावत को हटाने की सबसे बड़ी वजह यह है कि वह पंजाब कांग्रेस के झगड़े को सही से हैंडल नहीं कर पाए। साथ ही बार-बार उनके विवादित बयान से पार्टी में सुलह की वजह कलह बढ़ती गई। राज्य के कई सीनियर नेता उनका विरोध करने लगे। इसे देखते हुए बताया जा रहा है कि हाईकमान रावत को हटाने का फैसला कर सकते हैं। 

सिद्धू को चुनावी चेहरा बताते ही आ गए थे विवादों में रावत
वहीं हरीश रावत एक और बयान के बाद विवादों में आ गए थे। जब अमरिंदर सिंह के इस्तीफे के बाद उन्होंने सिद्धू को 2022 के विधानसभा चुनाव में चेहरा बता दिया था। रावत ने कहा था कि पंजाब में कांग्रेस का चेहरा कौन होगा ये आलाकमान तय करेगा। लेकिन अभी के हालातों को देखते हुए लग रहा है कि सिद्धू की अगुवाई में ही चुनाव लड़ा जाएगा।

सुनील जाखड़ रावत के बयान से हुए थे नाराज
इतना ही नहीं रावत के इस बयान के बाद पंजाब कांगेस के पूर्व अध्यक्ष सुनील जाखड़ भी नाराज हो गए थे और उन्होंने दिल्ली का रुख कर लिया था। उन्होंने अपनी नारजगी सोशल मीडिया पर जाहिर की थी। तभी से रावत पंजाब के तमाम नेताओं के निशाने पर आ गए। अब इसी को देखते हुए लग रहा कि जल्द ही उन्हें प्रदेश प्रभारी पद से हटाया जा सकता है।

कौन हैं नए प्रभारी बनने वाले हरीश चौधरी
बता दें कि हरीश चौधरी अभी राजस्थान सरकार में मंत्री हैं, वह पंजाब कांग्रेस के सह इंचार्ज रह चुके हैं। पिछले कई दिन से चौधरी कांग्रेस के झगड़े को सुलझाने की कोशिश में जुटे हुए हैं। बताया जाता है कि उनकी गिनती राहुल गांधी के सबसे करीबी नेताओं में होती है।


यह भी पढ़ें-UP: बजरंगबली को बंदर बोलता था IAS इफ्तिखारुद्दीन, कहता था- जानवरों की पूजा करते हो, सामने आए ऐसे 65 वीडियो


यह भी पढ़ें-CBI कर सकती है 'कानपुर प्रॉपर्टी डीलर मनीष गुप्ता मर्डर केस' की जांच; पुलिस की क्रूरता का हुआ था शिकार

 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios