राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा में 250 कारीगर हर दिन बनाते हैं 3 से 4 हजार लोगों का खाना, साथ चलती है रसोई

| Dec 07 2022, 02:35 PM IST

 राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा में 250 कारीगर हर दिन बनाते हैं 3 से 4 हजार लोगों का खाना, साथ चलती है रसोई

सार

भारत जोड़ो यात्रा राजस्थान में जारी है। कोटा शहर और ग्रामीण इलाकों में यात्रा का रुट तय कर चुकी है। राहुल गांधी इस यात्रा में लगभग अब तक 2300 किलोमीटर पैदल चल चुके हैं। इस बीच राहुल गांधी की डाइट चार्ट सामने आया है। वह ब्रेकफास्ट से लेकर डिनर तक में क्या खाते हैं और क्या नहीं।

जयपुर, कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा को राजस्थान में प्रवेश किए हुए करीब 2 दिन हो चुके हैं। अब तक यात्रा करीब 40 किलोमीटर से ज्यादा चल चुकी है। यात्रा को लेकर कांग्रेस पार्टी के नेताओं के अलावा इस बार यहां की जनता में भी खासा उत्साह देखने को मिल रहा है। इस यात्रा में रोज राहुल गांधी लगभग करीब 24 किलोमीटर चल रहे हैं। राहुल गांधी इस यात्रा में लगभग अब तक 2300 किलोमीटर पैदल चल चुके हैं।

ब्रेक फास्ट में राहुल गांधी दूध के साथ आमलेट खाते हैं
लेकिन क्या आप जानते हैं कि जितनी एनर्जी राहुल गांधी इस यात्रा में खर्च कर रहे हैं। उतनी एनर्जी वह ले भी रहे हैं। मतलब इस यात्रा के दौरान राहुल गांधी पूरा संतुलित भोजन ही कर रहे हैं। जिससे कि उनके स्वास्थ्य में कोई तकलीफ नहीं हो और यात्रा और लगातार चलती रहे। सबसे पहले राहुल गांधी सुबह दूध के साथ आमलेट खाते हैं। और इसके बाद कोई हल्का फुल्का नाश्ता यहां फूड खाते हैं।

Subscribe to get breaking news alerts

 5 तरीके के फ्रूट्स खाते हैं राहुल गांधी, नॉनवेज आइटम भी होते हैं शामिल
10:00 बजने के साथ ही यात्रा में लंच ब्रेक हो जाता है। राहुल गांधी इस लंच ब्रेक में भी ज्यादा कुछ नहीं बल्कि केवल दो रोटी और हरी सब्जी या फिर दाल चावल ही खाते हैं। इसके साथ ही वह 5 तरीके के फ्रूट्स खाते हैं। हालांकि रात को उनकी डाइट थोड़ी हैवी होती है। इस हैवी डाइट में लोकल हैवी सब्जियां और कुछ नॉनवेज आइटम भी होते हैं लेकिन फिर भी वह दूध पीना नहीं छोड़ते।

रोज 3000 से 4000 हजार लोगों का वेज और नॉनवेज भोजन बनता
राहुल गांधी की इस बार दोनों यात्रा में खाना बनाने वाले लोगों की व्यवस्था के लिए करीब ढाई सौ लोगों की टीम काम कर रही है। खाने के लिए प्रोडक्ट खरीदना और खाना बनाकर उन्हें शुरू करना ही नहीं का काम है। इस यात्रा में रोज करीब 3000 से 4000 हजार लोगों का वेज और नॉनवेज भोजन बनता है। एक कंटेनर को रसोई घर ही बनाया गया है। खाना बनाने के लिए पूरा कच्चा माल ही इसी में रखा गया है। इसके अलावा एक कंटेनर में फ्रूट्स भरे रहते हैं। इसके अलावा यात्रा में रोज करीब 100 लीटर चाय बनती है और करीब 1000 लीटर पानी पिया जाता है।

यह भी पढ़ें-राजस्थान में अब गहलोत पायलट को किसी भी हाल में करनी होगी सुलह, पार्टी के नए प्रदेश प्रभारी ने दिए ये संकेत