जी-20 के प्रतिनिधियों को खाने में मिलेगा दाल बाटी चूरमा और जोधपुरी काबुली पुलाव, शाही अंदाज में होगा स्वागत

| Dec 03 2022, 04:50 PM IST

जी-20 के प्रतिनिधियों को खाने में मिलेगा दाल बाटी चूरमा और जोधपुरी काबुली पुलाव, शाही अंदाज में होगा स्वागत

सार

जी20 के प्रतिनिधि रविवार को चार दिन तक चलने वाली बैठक में शामिल होने के लिए रविवार को उदयपुर आएंगे। शाही अंदाज में उनका स्वागत किया जाएगा। खाने में शाही भोजन मिलेगा।

उदयपुर। भारत वर्तमान में जी20 संगठन का अध्यक्ष है। भारत को अध्यक्षता मिलने के बाद जी20 के प्रतिनिधियों की पहली बैठक राजस्थान के जोधपुर में होने वाली है। बैठक में शामिल होने के लिए आने वाले प्रतिनिधियों का शाही ढंग से स्वागत किया जाएगा। उन्हें खाने के लिए शाही भोजन मिलेगा। 

जी20 के प्रतिनिधियों को दाल बाटी चूरमा, जोधपुरी काबुली पुलाव, बीकानेरी घेवर और जोधपुरी मावा कचौरी खाने को मिलेगी। इसके अलावा भी कई स्वादिष्ट व्यंजन उनके लिए तैयार होंगे। खाने में राजस्थानी कल्चर की क्षलक मिले इसका ध्यान रखा जाएगा।जी20 के प्रतिनिधि रविवार को उदयपुर पहुंचेंगे। बैठकें सोमवार और मंगलवार को होंगी। बुधवार को वे राजसमंद में 15वीं सदी के भव्य कुम्भलगढ़ किले और पाली जिले के रणकपुर जैन मंदिर का दर्शन करेंगे।

Subscribe to get breaking news alerts

मिठाई में मिलेगी बीकानेरी घेवर और जोधपुरी मावा कचौरी
उदयपुर पर्यटन उप निदेशक शिखा सक्सेना ने बताया कि चार दिनों के दौरान प्रतिनिधियों को राजस्थानी के अलावा दक्षिण भारतीय, हैदराबादी, गुजराती और पंजाबी व्यंजन परोसे जाएंगे। उन्हें दाल बाटी और चूरमा, गट्टा करी, केर सांगरी और राजस्थानी गट्टा पुलाव भी परोसा जाएगा। मेहमानों को मिठाई में बीकानेरी घेवर, जोधपुरी मावा कचौरी, तीन तरह के श्रीखंड, केसर की खीर, मलाई घेवर, रसगुल्ला और मक्खन बड़ा मिलेगा। इसके साथ ही मोतीचूर, बेसन और मेवे के लड्डू भी मिलेंगे। 

होटल ताज फतेह प्रकाश पैलेस में होगी बैठक
रविवार को होटल लीला पैलेस में दुनियाभर से आए प्रतिनिधियों का भव्य स्वागत किया जाएगा। बैठकें होटल ताज फतेह प्रकाश पैलेस के दरबार हाल में होंगी। बैठक के बाद प्रतिनिधियों को सिटी पैलेस और जगमंदिर का भ्रमण कराया जाएगा। उनके मनोरंजन के लिए सांस्कृतिक कार्यक्रम होंगे। तीन दिन तक चलने वाली जी20 के प्रतिनिधियों की बैठक में त्वरित, समावेशी और लचीला विकास, बहुपक्षवाद, फूड, ईंधन, उर्वरक और महिलाओं के नेतृत्व में विकास जैसे मुद्दों पर बात होगी।