Asianet News HindiAsianet News Hindi

जालौर मामले में बैकफुट पर गहलोत सरकार: कांग्रेस ने की बड़ी घोषणा, राहुल-सोनिया के निर्देश के बाद एक्शन

दलित नेता और दलित संगठनों से जुड़े लोगों की मांग है कि सरकार पीड़ित परिवार को 50 लाख रुपस दे और साथ ही परिवार के दो लोगों को सरकारी नौकरी भी दे। बीजेपी सांसद किरोडी लाल मीणा की भी यही मांग है। 

Jalore Dalit student death case Congress will give 20 lakh rupees to the victim family pwt
Author
Jaipur, First Published Aug 17, 2022, 8:59 AM IST

जयपुर. राजस्थान के जालौर में दलित छात्र की पिटाई के बाद मौत के मामले में कांग्रेस की गहलोच सरकार बैकफुट पर आती दिख रही है। भाजपा, रालोपा और दलित संगठनों और उसके बाद अपनी ही पार्टी नेताओं के निशाने पर आने के बाद कांग्रेस की तरफ से बड़ी घोषणा की गई है। सरकार ने दलित परिवार के बच्चे को पांच लाख रुपए की मदद का वादा किया था। लेकिन अब इस रकम को बढ़ाने का फैसला किया जा सकता है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने जानकारी देते हुए कहा- सरकार की तरफ से 5 लाख रुपए दिए गए हैं अब राजस्थान कांग्रेस कमेटी की तरफ से 20 लाख रुपए देने की तैयारी की जा रही है। 

सोनिया गांधी और राहुल गांधी के निर्देशों के बाद दिया जा रहा पैसा 
प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा कि कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी और पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी इस पूरे मामले की जानकारी ली है और उन्होंने निर्देश दिए हैं कि सहायता की जाने वाली रकम को बढ़ाया जाए। इसके साथ ही पीड़ित परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी भी दी जाए। दोनों मांगों के बारे में परिवार को भी जानकारी दे दी गई है। डोटासरा का कहना है कि उम्मीद है कि जल्द ही अब मामला शांत हो जाएगा । 

दलित संगठनों और नेताओं की पचास लाख एवं दो सरकारी नौकरी की मांग
वहीं, दूसरी तरफ दलित नेता और दलित संगठनों से जुड़े लोगों की मांग है कि सरकार पीड़ित परिवार को 50 लाख रुपस दे और साथ ही परिवार के दो लोगों को सरकारी नौकरी भी दे। दो लोगों की नौकरी और पचास लाख रुपए की मांग पूरा कराने के लिए जयपुर में एक छात्र नेता ने आमरण अनशन शुरु कर दिया है। उधर, बीजेपी सांसद किरोडी लाल मीणा समेत अन्य कुछ नेता जालोर में ही हैं। उनकी भी यही मांग है। विधानसभा के नजदीक जयपुर में टंकी पर चढ़े चार छात्र नेताओं को देर रात नीचे उतार लिया है। उनकी भी यही मांग है कि सरकार 50 लाख रुपए और दो लोगों को सरकारी नौकरी दे।

क्या है मामला
दरअसल, राजस्थान के जालौर जिले में एक टीचर द्वारा तीसरी क्लास के बच्चे की बेहरमी से पिटाई की गई थी जिसकी इलाज के दौरान मौत हो गई। छात्र ने उस मटकी से पानी पी लिया था जिस  मटकी से स्कूल के शिक्षक पानी पीते थे। इसी बात से नाराज टीचर ने पिटाई कर दी थी।

इसे भी पढ़ें-  जालौर में दलित बच्चे की हत्या का मामलाः बवाल के बीच भाजपा के इस MLA ने दिया समझदारी वाला बयान

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios