Asianet News HindiAsianet News Hindi

राजस्थान का एक और लाल हुआ शहीदः दो वीक बाद फंक्शन में आने वाला था घर, ऐसे आएगा किसी को नहीं थी उम्मीद

राजस्थान से एक दुखद खबर सामने आई है। यहां के एक जवान की सड़क हादसे में मौत हो गई। उसकी 6 महीने पहले ही शादी हुई थी। घर में होने वाले जश्न के लिए 15 दिन बाद आने वाला था, पर उससे पहले ही मृत शरीर पहुंचा। गमगीन नजारा देख लोगों की आंखों से आए आंसू।

jodhpur news indian air force soldier of rajasthan state died in road accident asc
Author
First Published Oct 3, 2022, 10:31 AM IST

जोधपुर. वीरों की धरती कहे जाने वाले राजस्थान का एक और लाल देश सेवा में शहीद हो गया है। दरअसल राजस्थान के जोधपुर जिले का रहने  वाले एयरफोर्स जवान धर्मेंद्र विश्नोई की सिलीगुड़ी में सड़क हादसे में मौत हो गई। धर्मेंद्र विश्नोई की करीब 6 महीने पहले ही शादी हुई थी। रविवार देर शाम शहीद की पार्थिव देह गांव पहुंची। जहां आज राजकीय सम्मान के साथ सैनिक का अंतिम संस्कार किया जाएगा।

भाई के साथ ही नौकरी लगी, ज्वाइनिंग के साथ ही की शादी
दरअसल जोधपुर के कोसाना गांव का रहने वाला धर्मेंद्र बिश्नोई 2019 में अपने भाई के साथ ही नौकरी लगा था। धर्मेंद्र के परिवार ने नौकरी लगने के बाद ही उसके लिए लड़की की तलाश करना शुरू कर दी थी। 6 महीने पहले धर्मेंद्र विश्नोई की शादी भी हो गई। हालांकि इस दौरान धर्मेंद्र को ज्यादा छुट्टियां नहीं मिली। ऐसे में वह ड्यूटी करने वापस चला गया।

दीवाली के पहले आने वाला था
इस बार दिवाली के पहले घर में एक बड़ा प्रोग्राम आयोजित होना था। इसी को लेकर 18 अक्टूबर को धर्मेंद्र गांव आने वाला था। लेकिन ड्यूटी के दौरान असम के सिलीगुड़ी में हुए एक सड़क हादसे में धर्मेंद्र शहीद हो गया। देर शाम जब पार्थिव देह गांव पहुंची तो हर किसी की आंख नम थी। लोगों ने दुख में अपने प्रतिष्ठान भी बंद कर दिए।

आज यानि सोमवार के दिन शहीद धर्मेंद्र के गांव में उनके अंतिम संस्कार से पहले तिरंगा यात्रा निकाली जाएगी। जिसमें हजारों की संख्या में कोसाना और आसपास के युवा शामिल होंगे। वहीं अभी तक धर्मेंद्र के परिवार के कई लोगों को इस बात की खबर तक नहीं दी गई है। राजस्थान के जवान का रोड एक्सीडेंट का यह पहला मामला नहीं है इसके पहले भी एक जवान जो राखी के समय घर आया हुआ था उसकी भी सड़क हादसे में जान चली गई थी। बता दे राजस्थान के शेखावटी से सबसे ज्यादा जवान इंडियन आर्मी में भर्ती होते है।

यह भी पढ़े- शहीद को देख पिता ने कहा- एक बाप अपने कंधों पर जवान बेटे को विदा करे, इससे दुखद धरती पर कुछ और नहीं

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios