Asianet News HindiAsianet News Hindi

जवान होती बेटी के 'बहक जाए कदम', तो माता-पिता को भूलकर भी नहीं करना चाहिए ये 2 काम

अक्सर आपने कम उम्र की लड़कियों को गलत कदम उठाने के बारे में सुना होगा। किसी लड़के के साथ गायब हो जाना या फिर सुसाइड जैसे कदम वो उठा लेते हैं। इसके पीछे माता-पिता के वो कदम होते हैं जो उन्हें ऐसा करने के लिए उकसाते हैं। 

parenting teenage girls Parents should not do these 2 things if daughter falls in love at an early age NTP
Author
First Published Sep 12, 2022, 11:53 AM IST

रिलेशनशिप डेस्क. आज के वक्त में लड़कियां कम उम्र में ही बड़ी होने लगती हैं। शारीरिक वजहों के साथ-साथ सामाजिक वजह भी इसके लिए जिम्मेदार होते हैं। हार्मोंस में बदलाव होने की वजह से वो लड़कों की तरफ आकर्षित होती हैं। इसके साथ ही सिनेमा, सीरियल भी इसके लिए उन्हें प्रेरित करते हैं। 14 से 20 उम्र से गुजरती युवतियां अपनी कच्ची आयु में ही प्यार कर बैठती हैं। जब माता-पिता को इसके बारे में पता चलता है तो वो अपनी बेटियों के भविष्य को लेकर चिंतित हो जाते हैं और कुछ ऐसा कदम उठा लेते हैं जो बाद में गलत हो जाता है। अगर पैरेंट्स को ये पता चले कि उनकी बेटी किसी के प्यार में हैं तो उन्हें क्या करना चाहिए और क्या नहीं आइए बताते हैं।

1. बेटी पर सख्ती ना बरतें

माता-पिता को जब पता चलता है कि उनकी कम उम्र की बेटी किसी लड़के को पसंद करती है। तो वो उसपर सख्ती बरतें हैं। कई माता-पिता को उसका स्कूल या कॉलेज जाना बंद कर देते हैं। यहां तक कि कम उम्र में उसकी शादी करने की भी कोशिश करते हैं। जिसकी वजह से लड़की बगावती तेवर अपनाती हैं। वो या तो लड़के के साथ घर छोड़कर चली जाती है। या फिर नासमझी में हिंसक रवैया अपनाती हैं। तो जब माता-पिता को बेटी से जुड़ी ऐसी बातों का पता चलें तो उसपर सख्ती बरतने की बजाय उसे समझाए। जीवन में पढ़ाई की अहमियत समझाए। उसे खुद समझने के लिए वक्त दें।

2. फोन से ना करें दूर

अक्सर माता-पिता को जब बेटी के बारे में इस तरह की बातें पता चलती हैं तो उसका फोन उससे छीन लेते हैं। बाहर निकलना बंद कर देते हैं। ऐसा उन्हें बिल्कुल नहीं करना चाहिए। क्योंकि फिर लड़कियां अंदर से घुटने लगती हैं। जिसकी वजह से वो खुद के साथ गलत कर लेती हैं या फिर माता-पिता के साथ गलत कर बैठती हैं। इस तरह की खबरें आए दिन आप सुनते होंगे। 

मां को बन जाना चाहिए बेटी की दोस्त

कम उम्र में लड़कियों को ये पता नहीं होता है कि क्या सही और क्या गलत हैं। मां बेटी के ज्यादा करीब होती हैं। ऐसे में उन्हें बेटी का दोस्त बन जाना चाहिए। हर दिन दोनों को कुछ वक्त साथ गुजराना चाहिए। मां को अपनी दिल की बात बेटी से शेयर करना चाहिए, ताकि बेटी भी खुद से जुड़ी चीजें उन्हें बता सकें। ये इतना सहज होना चाहिए कि बेटी को लगेगे कि वो कुछ भी अपनी मां को बता सकती है और वो इसे समझेंगी। इस दौरान आप अपनी बेटी को सही और गलत का फर्क भी बताएं। 

पढ़ाई की अहमियत समझाएं

अगर आपकी बेटी ये कहती है कि उसे कोई लड़का पसंद आ गया है तो उसे बेहद ही सहज तरीके से लें। उसे बताएं कि इस उम्र में किसी के प्रति आकर्षित होना लाजमी होता है। ऐसा हार्मोन में बदलाव की वजह से होता है। लेकिन इसे प्यार नहीं मानना चाहिए। ये सिर्फ आकर्षण होता है। वक्त के साथ खत्म हो जाता है। उसे बताए कि अच्छी जिंदगी के लिए प्यार के साथ साथ अच्छा करियर भी जरूरी है। इसलिए पढ़ाई पहले फिर बाकी काम बाद में। डांटने की बजाय जब आप प्यार से बेटी से बात करेंगी तो वो इसपर गौर करेंगी और पढ़ाई पर फोकस करेंगी।

बेटी के दोस्त पर रखें नजर

ये जरूरी नहीं है कि आपकी बेटी सही है तो बाकी भी सही होंगे। इसलिए उसके सोशल मीडिया अकाउंट पर नजर रखें। ये भी गौर करते रहें कि वो ज्यादा देर फोन पर टाइम तो नहीं गुजार रही हैं। उसके कैसे लड़के दोस्त हैं। जब लड़की लड़के के प्रस्ताव को स्वीकार करने से मना करती हैं तो लड़के धमकी देते हैं या फिर उसके साथ गलत हरकत करते हैं। ऐसे में माता-पिता को हर लड़के पर नजर रखने की जरूरत होती है जो उसके बेटी के दोस्त हैं। ताकि अनचाही घटना से बचा जा सके।

और पढ़ें:

मां पर लगा एक साल की बेटी की हड्डियों को तोड़ने का आरोप,लेकिन असली सच बेहद भयानक था

10 साल तक हनीमून पर रहेंगे ये कपल,खर्च निकालने के लिए करते हैं ये हैरान करने वाला काम

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios