टेक डेस्क। रिलायंस जियो इन्फोकॉम की पेरेंट कंपनी जियो प्लेटफॉर्म्स के वैल्यूएशन में काफी बड़ा उछाल आ सकता है। यह दावा बैंक ऑफ अमेरिका सिक्योरिटीज (बोफा) ने किया है। इसके मुताबिक, टेलिकॉम कंपनी के प्रति यूजर रेवेन्यू में बढ़ोत्तरी की भूमिका हो सकती है। विश्लेषकों के मुताबिक, इसमें फाइबर ब्राॉडबैंड के जरिए बढ़ते रेवेन्यू, डिजिटल विज्ञापन और सब्सक्रिप्शन बेस बिजनेस का भी योगदान होगा। 

110 अरब डॉलर हो सकती है जियो की वैल्यूएशन
बोफा सिक्योरिटीज का अनुमान है कि जियो का प्रति यूजर मासिक रेवेन्यू वित्त वर्ष 2021-22 में 53 फीसदी बढ़ कर 131 रुपए से 200 रुपए तक पहुंच सकता है। जियो के ऐप्स की लोकप्रियता लगातार बढ़ती जा रही है। इससे जियो की वैल्यूएशन 110 अरब डॉलर तक पहुंच सकती है। 

आ सकती है बाजार की 45 फीसदी हिस्सेदारी
ब्रोकरेज का मानना है कि जियो के आईपीओ से शेयरों की कीमत खुलेगी। जियो प्लेटफॉर्म्स रिलायंस इंडस्ट्रीज की एक इकाई है। बोफा के अनुमान के मुताबिक, 3 कंपनियों की प्रतियोगिता में जियो के पास बाजार की 45 फीसदी हिस्सेदारी आ सकती है। 

ग्राहकों की संख्या हो सकती है 50 करोड़ से ज्यादा
विश्लेषकों का मानना है कि वित्त वर्ष 2021-22 तक जियो के ग्राहकों की संख्या 53.8 करोड़ तक पहुंच सकती है। इसमें 2.5 करोड़ घरेलू ब्रॉडबैंड और 1.1 करोड़ बिजनेस यूजर्स होंगे। जियो ने हाल ही में कई डील्स के जरिए निवेशकों से 1,15,693.95 करोड़ रुपए जुटाए हैं। इनमें फेसबुक, सिल्वर लेक, विस्टा इक्विटी, जनरल अटलांटिक, केकेआर, मुबादाला, अबू धाबी निवेश प्राधिकरण, टीपीजी, एल काटर्टन और पीईएफ शामिल हैं।