टेक डेस्क। रिलायंस जियो लॉन्चिंग के सिर्फ 3 साल के बाद ही कस्टमर्स और एजीआर के मामले में देश का पहले नंबर का टेलिकॉम ऑपरेटर बन गया है। 4G के बाद कंपनी 5G के क्षेत्र में भी उतरने की पूरी तैयारी कर रही है। रिलायंस इंडस्ट्रीज की सालाना रिपोर्ट में इसका खुलासा हुआ है। रिलायंस इंडस्ट्रीज ने अपनी सालाना रिपोर्ट में कहा है कि रिलायंस जियो बाजार की गतिशीलता के आधार पर 5जी इको सिस्टम को डेलवप करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा। मोबाइल सर्विसेस के लिए फ्लोर प्राइसेस पर आरआईएल का कहना है कि ऑपरेटर्स द्वारा दिसंबर में टैरिफ की कीमतों में बढ़ोत्तरी से यह साफ जाहिर होता है कि बाजार की गतिशीलता में सुधार हुआ है।

जियो ने इंटरनेट का किया प्रसार
रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने कहा कि जियो ने इंटरनेट को घर-घर तक पहुंचाया। शेयरधारकों को लिखे गए अपने पत्र में मुकेश अंबानी ने कहा है कि अभी भी लाखों लोग 2जी फोन का इस्तेमाल कर रहे हैं। ये लोग इंटरनेट का इस्तेमाल नहीं कर सकते। उन्होंने कहा कि सरकार ने वित्त वर्ष 2020-21 के दौरान स्पेक्ट्रम नीलामी के अगले दौर के संचालन का इरादा जाहिर किया है। ऐसे में, जियो अपने तैयार 5G नेटवर्क और फाइबर एसेट्स के साथ एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के लिए तैयार है।

10 करोड़ फीचर फोन को 4 जी नेटवर्क में बदला
मुकेश अंबानी ने कहा कि पिछले 2 साल में जियो ने 10 करोड़ फीचर फोन (2जी यूजर्स) को 4 जी नेटवर्क में लाने का काम किया है। उन्होंने कहा कि भारत के लिए टेक्नोलॉजी के निर्माण में जियो की सफलता और देश भर में इसके प्रसार की क्षमता ने फेसबुक और माइक्रोसॉफ्ट जैसी ग्लोबल टेक्नोलॉजी लीडर्स को इसमें साझेदारी के लिए आकर्षित किया है। 

रिटेल सेक्टर में भी मौका
मुकेश अंबानी ने कहा कि समायोजित सकल राजस्व (AGR) और कस्टमर्स के लिहाज से जियो देश में नंबर 1 मोबाइल दूरसंचार ऑपरेटर है। ब्रॉडबैंड डाटा बाजार में यह एक प्रमुख कैटेलिस्ट है। रिपोर्ट के मुताबिक, जियो मार्च 2020 तक  JioFiber सर्विसेस के साथ करीब 10 लाख घरों से जुड़ चुका है। मुकेश अंबानी ने कहा कि रिलांयस रिटेल और वॉट्सऐप ने साथ मिल कर कमर्शियल पार्टनरशिप किया है। इसके तहत वॉट्सऐप का इस्तेमाल कर के JioMart प्लेटफॉर्म  पर रिलायंस के रिटेल बिजनेस को आगे बढ़ाया जाएगा।