Earning Money  

(Search results - 9)
  • undefined

    Aisa KyunNov 21, 2020, 1:00 PM IST

    विदुर नीति: ये 3 काम करके कमाया गया पैसा हमें और परिवार को हमेशा दुख ही पहुंचाता है

    महाभारत का एक बहुत ही खास अंग है विदुर नीति, इसमें महात्मा विदुरजी ने कई काम की बातें और नीतियां बताई हैं। ये बातें आज के समय में भी प्रासंगिक है। अगर कोई भी इंसान इन बातों को ध्यान रखे तो उसे जीवन की हर सफलता और सुख मिल सकते हैं।

  • <p><strong>बिजनेस डेस्क।</strong> श्लोका मेहता (Shloka Mehta) की शादी मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) और नीता अंबानी (Nita Ambani) के बड़े बेटे आकाश अंबानी (Akash Ambani) से 9 मार्च 2019 को हुई थी। श्लोका मेहता और आकाश अंबानी की बचपन से ही दोस्ती है। अंबानी फैमिली में हुई इस शादी में देश-विदेश की कई दिग्गज हस्तियां शामिल हुई थीं। बॉलीवुड के स्टार्स के अलावा हॉलीवुड से भी सेलिब्रिटीज इस शादी में शरीक होने आए थे। &nbsp;श्लोका मेहता देश के दिग्गज हीरा कारोबारी रशेल मेहता (Russel Mehta) की बेटी हैं। 11 जुलाई 1990 को जन्मी श्लोका मेहता 2014 से रोजी ब्लू फाउंडेशन के डायरेक्टर के तौर पर काम कर रही हैं। इसके साथ ही वे &nbsp;ConnectFor की को-फाउंडर भी हैं। यह एक एनजीओ (NGO) है।&nbsp;</p>

    BusinessNov 18, 2020, 3:45 PM IST

    नीता अंबानी की बड़ी बहू श्लोका मेहता का पैसे कमाने से ज्यादा फोकस है सोशल वर्क पर, जीती हैं लैविश लाइफस्टाइल

    बिजनेस डेस्क। श्लोका मेहता (Shloka Mehta) की शादी मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) और नीता अंबानी (Nita Ambani) के बड़े बेटे आकाश अंबानी (Akash Ambani) से 9 मार्च 2019 को हुई थी। श्लोका मेहता और आकाश अंबानी की बचपन से ही दोस्ती है। अंबानी फैमिली में हुई इस शादी में देश-विदेश की कई दिग्गज हस्तियां शामिल हुई थीं। बॉलीवुड के स्टार्स के अलावा हॉलीवुड से भी सेलिब्रिटीज इस शादी में शरीक होने आए थे।  श्लोका मेहता देश के दिग्गज हीरा कारोबारी रशेल मेहता (Russel Mehta) की बेटी हैं। 11 जुलाई 1990 को जन्मी श्लोका मेहता 2014 से रोजी ब्लू फाउंडेशन के डायरेक्टर के तौर पर काम कर रही हैं। इसके साथ ही वे  ConnectFor की को-फाउंडर भी हैं। यह एक एनजीओ (NGO) है। 

  • <p><strong>बिजनेस डेस्क।&nbsp;</strong>आईटी सर्विस देने वाली कंपनी हैपिएस्ट माइंड्स टेक्नॉलाजीज (Happiest Minds Technologies) का आईपीओ (IPO) आज सब्सक्रिप्शन के लिए खुल गया। इसके खुलते ही रिटेल निवेशकों का इसे जोरदार रिस्पॉन्स मिलााा। कुछ ही घंटों में ही इश्यू करीब 99 फीसदी तक भर गया। रिटेल निवेशक इस आईपीओ में जमकर पैसे लगा रहे हैं। कंपनी की योजना इस इश्यू के जरिए 700 करोड़ रुपए से ज्यादा जुटाने की है। बता दें कि इस इश्यू को सब्सक्राइब करने का मौका 9 सितंबर तक है।&nbsp;<br />
(फाइल फोटो)</p>

<p><br />
&nbsp;</p>

    BusinessSep 7, 2020, 3:49 PM IST

    इस IPO के खुलते ही जम कर शुरू हुआ निवेश, जानें पैसा लगाना सही होगा या नहीं?

    बिजनेस डेस्क। आईटी सर्विस देने वाली कंपनी हैपिएस्ट माइंड्स टेक्नॉलाजीज (Happiest Minds Technologies) का आईपीओ (IPO) आज सब्सक्रिप्शन के लिए खुल गया। इसके खुलते ही रिटेल निवेशकों का इसे जोरदार रिस्पॉन्स मिलााा। कुछ ही घंटों में ही इश्यू करीब 99 फीसदी तक भर गया। रिटेल निवेशक इस आईपीओ में जमकर पैसे लगा रहे हैं। कंपनी की योजना इस इश्यू के जरिए 700 करोड़ रुपए से ज्यादा जुटाने की है। बता दें कि इस इश्यू को सब्सक्राइब करने का मौका 9 सितंबर तक है। 
    (फाइल फोटो)
     

  • undefined

    HatkeSep 6, 2020, 10:05 AM IST

    क्या Amazon पर सामान खरीदने से पहले आप भी पढ़ते हैं रिव्यू? प्रॉडक्ट्स की झूठी रेटिंग कर लोग कमा रहे लाखों रुपए

    हटके डेस्क: ऑनलाइन शॉपिंग की वजह से लोगों की जिंदगी काफी आसान हो गई है। खासकर कोरोना काल में। जब लोग वायरस की वजह से घर में बंद रहने को मजबूर थे और जरुरत की चीजों के लिए उन्हें ऑनलाइन ऑर्डर करना पड़ रहा था। हमारे पास ऑनलाइन ऑर्डर  ऑप्शंस मौजूद हैं। इसमें एमाजॉन को बेहतरीन माना जाता है। लोग ऑनलाइन शॉपिंग से पहले उस प्रोडक्ट की रेटिंग और रिव्युस जरूर देखते हैं। इससे लोगों को फायदा ये होता है कि जो पहले से उस प्रोडक्ट को खरीद चुका है, उसका एक्सपीरियंस लोगों को पता चलता है, जिससे लोगों को उसे खरीदने का फैसला करने में मदद मिलती है। लेकिन क्या आप जानते हैं, इन रिव्युस में भी चीन फर्जीवाड़ा करवा रहा है? जी हां, चीनी कंपनियां अपने प्रोडक्ट्स पर झूठे रिव्यूस के जरिये लोगों को उल्लू बना रही है। साथ ही इन रिव्यूवर्स को अच्छा ख़ासा पेमेंट भी कर रही है। आइये आपको बताते हैं कैसे हुए इस फर्जीवाड़े का खुलासा....  

  • undefined

    Aisa KyunJun 16, 2020, 11:27 AM IST

    पैसा कमाने के बाद जरूर करना चाहिए ये 2 काम, नहीं तो वो धन नष्ट हो जाता है

    आज के समय में हर व्यक्ति धन कमाने में जुटा हुआ है। कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो समय पर अपने पैसे का सदुपयोग नहीं करते और सिर्फ इकट्ठा ही करते रहते हैं।

  • undefined

    RajasthanJun 5, 2020, 2:18 PM IST

    सक्सेस स्टोरी: अपनी बंजर जमीन देखकर कभी रो पड़ता था यह किसान, लेकिन अब खुशहाली की जिदंगी जी रहा

    उदयपुर, राजस्थान। किसी भी नई शुरुआत के लिए हिम्मत सबसे बड़ी बात होती है। लोग छोटी-मोटी नौकरी के पीछे भागकर अपनी जिंदगी खराब कर देते हैं। नौकरी मिल भी जाती है, तो जिंदगीभर पैसे की जोड़-तोड़ में उलझे रहते हैं। लेकिन इस किसान ने दूसरों की मजदूरी करने से बेहतर खुद के लिए कुछ करना उचित समझा। नतीजा, सालभर पहले अपना बंजर और पथरीला खेत देखकर रूंआंसा होने वाला यह किसान आज मजे से जिंदगी गुजार रहा है। खेतों में फल-सब्जियां और अनाज उगाता है। यह किसान हैं उदयपुर से करीब 30 किमी दूर स्थित पई गांव का निचल फलां के रहने वाले शंकरलाल भील। शंकरलाल ने अकेले ही अपने बंजर और पत्थरों से भरे खेत को उपजाऊ बना दिया। यह सब उन्होंने सिर्फ एक साल की मेहनत में किया। कभी-कभी उन्हें जेसीबी की मदद भी लेनी पड़ी, लेकिन हिम्मत कभी नहीं छोड़ी। शंकर के पास 6 बीघा जमीन है। इसमें से 2 बीघा किसी काम की नहीं थी। लेकिन शंकर ने इसे भी उपजाऊ बना दिया। जानिए एक किसान के हौसले की कहानी..

  • undefined

    Aisa KyunApr 29, 2020, 11:50 AM IST

    विदुर नीति: धोखा देकर कमाया और गलत जगह इनवेस्ट किया गया पैसा लंबे समय तक नहीं टिकता

    महाभारत में धृतराष्ट्र और विदुर के संवाद बताए हैं। इन संवादों में विदुर की बातों को ही विदुर नीति कहा जाता है।

  • undefined

    HatkeFeb 26, 2020, 5:32 PM IST

    कैंसर ने छीन लिए पैर तो भी नहीं हारा युवक, बिस्तर पर पड़ने की जगह खुद कमाकर चला रहा घर

    हटके डेस्क: कुछ लोग ऐसी मिट्टी के बने होते हैं कि लाख मुसीबत आए, हार नहीं मानते हैं। ऐसे लोग अपने आत्मविश्वास और किसी भी परिस्थिति में संघर्ष करने की ताकत के बदौलत सफलता हासिल करते हैं और कभी किसी पर बोझ नहीं बनते। कुछ ऐसी ही कहानी है मलेशिया के 19 साल के नवजवान अब्दुल आफ्जा अजीज अब्दुल वहाब की। इस लड़के को सितंबर, 2017 में बोन कैंसर हो गया था। कैंसर के इलाज के दौरान उसका एक पैर काटना पड़ा। उसकी कहानी वायरल हो गई थी। उसे कुछ डोनेशन भी मिले। लेकिन उसकी कैंसर की बीमारी पूरी तरह ठीक नहीं हुई। अब दोबारा वह कैंसर की समस्या से जूझ रहा है। इसका इलाज करवाने में भी काफी खर्चा होता है। अब्दुल वहाब नाम का यह शख्स लोगों से चंदा नहीं लेना चाहता। उसने कैंसर से पीड़ित होने और एक पैर नहीं होने के बावजूद मेवों का व्यापार शुरू कर दिया। इसके लिए उसने फेसबुक का सहारा लिया। जानते हैं उसकी कहानी। 

  • undefined

    BusinessFeb 9, 2020, 3:46 PM IST

    यहां के किसानों को पसंद नहीं आ रही है खेती, अब इन कामों से कमा रहे हैं ज्यादा रुपये

    महाराष्ट्र के नासिक जिले के आसपास के गांवों के किसान परिवारों के बड़ी संख्या में युवा खेती-बाड़ी से ज्यादा इलेक्ट्रीशियन, प्लंबिंग जैसी वैकल्पिक नौकरियों से कहीं अधिक धन कमा रहे हैं