Emotional News  

(Search results - 55)
  • undefined

    HatkeMar 4, 2021, 10:16 AM IST

    4 बिल्लियों को बचाने बीच समुद्र में कूदा सेना का जवान, लोगों ने की जमकर तारीफ

    हटके डेस्क: इंसानियत से बड़ी कोई चीज नहीं होती। अगर आपमें दिल है तो आपके लिए इंसान और जानवर में भी फर्क नहीं रहेगा। ऐसी ही मिसाल पेश करने वाले थाईलैंड के सैनिकों की फोटोज सामने आई है। ये तस्वीरें थाईलैंड के कोह अडंग आइलैंड के पास ली गई, जहां अचानक बीच समुद्र एक जहाज में आग लग गई। इस जहाज में सवार सभी लोगों को बचा लिया गया। लेकिन आखिर में देखा गया कि इसपर सवार चार बिल्लियां डूब रही हैं। इसके बाद सेना के जवानों ने पानी में कूदकर इन बिल्लियों की जान बचाई। लोग कर रहे जमकर तारीफ... 

  • undefined

    Madhya PradeshFeb 20, 2021, 8:04 PM IST

    मर गई इंसानियत: सड़क पर 2 दिन पड़ा रहा बुजुर्ग का शव, हड्डियां बनीं चूरमा..कपड़े में बांधकर ले जाना पड़ा

    करीब दो दिन तक शव वहीं पड़ा रहा, रातभर पुलिस भी गश्त पर रही, लेकिन इस घटना के बारे में किसी को जानकारी तक नहीं लगी। जब सुबह देखा तो वहां सिर्फ टूटी हुई हड्डियां मांस के टुकड़े और कंबल के साथ कपड़े दिख रहे थे। इतना ही नहीं दूसरे दिन भी कई गाड़ियां ऊपर से निकलती रहीं।

  • undefined

    PunjabJan 30, 2021, 3:44 PM IST

    बड़ी दुखद है 2 बहनों की कहानी, दोनों ने दुल्हन बन चुना एक पति..शादी के बाद दोनों को मिली दर्दनाक मौत

     हैरानी की बात यह है कि पीड़ित परिवार की दोनों बेटियों ने एक ही शख्स से शादी की थी। जहां आरोपी ने एक-एक करके दोनों को मार डाला। मृतक पिता ने कहा कि आरोपी राजिंद्र एक बार फिर मामला दोहराते हुए छोटी बेटी ममता की हत्या कर दी।

  • undefined

    Other StatesNov 18, 2020, 4:00 PM IST

    मैरिज की तैयारियों के बीच मौत ने दिखाई बेरहमी...आधी रात सड़क पर दूर तक सुनाई पड़ीं चीखें

    वडोदरा, गुजरात. बुधवार तड़के करीब 3 बजे मिनी ट्रक और ट्राले के बीच हुए भीषण हादसे में 5 महिलाओं सहित 11 लोगों की मौत हो गई। जबकि 16 लोग गंभीर रूप से घायल हैं। इनमें एक ही परिवार के 5 सदस्य भी शामिल हैं। इनमें पति-पत्नी, उनका बेटा, बेटी और चचेरा भाई भी है। वहीं, मरने वालों में 8 से 12 साल के बच्चे भी हैं। ये लोग सूरत से प्रसिद्ध देवी स्थल पावागढ़ दर्शन करने निकले थे। हादसा नेशनल हाईवे पर वाघोडिया चौक के पास हुआ। हादसे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने दु:ख व्यक्त किया है। घायलों को वडोदरा के एसएसजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। हादसे के बाद घायलों की चीख-पुकार सुनकर आसपड़ोस के लोग मदद को पहुंचे और पुलिस को सूचना दी। हादसे में 9 लोगों की मौके पर ही मौत हो गई थी, जबकि 2 ने अस्पताल में दम तोड़ दिया। मृतकों में तीन मां और उनके इकलौते मासूम बेटे शामिल हैं। आगे पढ़ें दर्दनाक हादसे की कहानी...

  • undefined

    Madhya PradeshNov 18, 2020, 9:13 AM IST

    एक एनकाउंटर में राइट हैंड हुआ कमजोर, फिर भी घायलों को पीठ पर लेकर अस्पताल दौड़ा ASI

    जबलपुर, मध्य प्रदेश. कुछ अपवादों को छोड़ दें, तो किसी भी घटना या दुर्घटना के समय पुलिसवालों को पूरी शिद्दत से अपनी ड्यूटी निभाते देखा जा सकता है। लेकिन ऐसे पुलिसवाले अपने विभाग का सर गर्व से ऊंचा कर देते हैं। यह हैं 57 साल के एएसआई संतोष सेन। बदमाशों से हुई एक मुठभेड़ में इनके राइट हैंड में फ्रैक्चर हो गया था। हाथ ठीक हो गया, लेकिन अब उसमें पहले जैसी ताकत नहीं बची। बावजूद मंगलवार को एक सड़क हादसे में घायलों को अस्पताल के अंदर तक ले जाने के लिए जब स्ट्रेचर नहीं मिला, तो वे पीठ पर लादकर उन्हें ले गए। यह हादसा जिला मुख्यालय जबलपुर से 35 किमी दूर घुघरी गांव के पास हुआ था। एक तेज रफ्तार लोडिंग वाहन के खाई में पलट जाने से 27 मजदूर घायल हो गए थे। गाड़ी में 36 मजदूर सवार थे। चरगवां थाना प्रभारी रितेश पांडे ने बताया कि सभी मजदूर शहपुरा मटर तोड़ने जा रहे थे। सुबह आठ बजे यह हादसा हुआ था। आगे पढ़ें इसी एएसआई की कहानी...
     

  • undefined

    ChhattisgarhSep 16, 2020, 9:57 AM IST

    पापा दरवाजा पीट रहे थे, लेकिन कोई डॉक्टर उन्हें देखने नहीं पहुंचा और वो तड़प-तड़पकर मर गए

    कोरोना संक्रमण के चलते एक बुजुर्ग की मौत के बाद उसके बेटे ने मेडिकल स्टाफ पर आरोप लगाए हैं। वीडियो वायरल करके बेटे ने कहा कि अगर उसके पिता को समय पर इलाज मिल जाता, तो शायद उनकी जान बचाई जा सकती थी। मामला रायपुर एम्स से जुड़ा है। बेटे का आरोप है कि जब उसके पिता की तबीयत बिगड़ी, तो उन्हें देखने कोई नहीं गया। वे दरवाजा पीटते रहे, लेकिन किसी ने उनकी सुध नहीं ली।

  • undefined

    JharkhandSep 3, 2020, 11:05 AM IST

    गर्भवती पत्नी को उदास देखकर पति की आंखें से निकल पड़े आंसू, गरीब होते हुए उठाया यह रिस्क

    गोड्डा, झारखंड. कहते हैं कि एक खुशहाल परिवार की निशानी है कि पति और पत्नी एक-दूसरे का ख्याल रखें। यह पति भी इसी की एक मिसाल है। यह हैं गोड्डा के दुर्गम इलाके के रहने वाले धनंजय कुमार। इनकी पत्नी सोनी हेम्बरम का 11 सितंबर को डीलेड(DLED) एक एग्जाम है। वे गर्भवती हैं। सेंटर है मध्य प्रदेश के ग्वालियर स्थित पद्मा कन्या विद्यालय। धनंजय के गांव गंटा टोला-गोड्डा और ग्वालियर के बीच 1176 किमी की दूरी है। वहां तक जाने का कोई साधन न होने से सोनी उदास हो गईं। धनंजय से पत्नी की उदासी देखी नहीं गई। उन्होंने स्कूटी उठाई... पत्नी के पीछे बैठाया और ग्वालियर के लिए निकल पड़े। धनंजय झारखंड, बिहार और यूपी के रास्ते ग्वालियर पहुंच गए। उन्होंने 1500 रुपए में 10 दिनों के लिए कमरा किराये पर लिया है। एग्जाम के बाद वे स्कूटी से वापस गांव लौटेंगे। पढ़ें इसी कपल की स्टोरी...

  • undefined

    HatkeAug 3, 2020, 11:17 AM IST

    इस शेर-शेरनी ने लिखी प्यार की अनोखी मिसाल, एक-दूसरे के प्यार में पागल जोड़े को मौत भी नहीं कर पाया जुदा

    हटके डेस्क: प्यार एक ऐसी फीलिंग है, जो इंसानों के साथ-साथ जानवरों में भी पाई जाती है। कौन कहता है कि ये प्यार किसी को बदल नहीं सकता। अगर ऐसा होता तो अफ्रीकन शेरों की ये प्रेम-कहानी अमर कैसे होती? हम बात कर रहे हैं लॉस एंजिलिस के चिड़ियाघर में रहने वाले शेरों के जोड़े हबर्ट और कलीसा की। दोनों अब इस दुनिया में नहीं हैं। लेकिन जबतक दोनों जिंदा रहे, उन्होंने एक-दूसरे का साथ नहीं छोड़ा। जब बीमारी ने उन्हें कमजोर करना शुरू किया तब जू ऑफिसर्स ने दोनों को आखिरी वक्त में एक साथ रख दिया। आखिर में उनकी हालत देखने के बाद जो प्रशासन ने दोनों को इंजेक्शन देकर एक साथ मार दिया। 

  • undefined

    Madhya PradeshJul 31, 2020, 11:28 AM IST

    CM शिवराज को 'बहन' ने लिखी इमोशनल चिट्टी, 'प्यारे भैया..रक्षाबंधन पर जीजाजी के लिए दे दो राखी गिफ्ट

    भोपाल. मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमण का कहर लगातार जारी है, रोज रिकॉर्ड तोड़ मामले सामने आ रहे हैं। आम आदमी से लेकर सरकारी कर्मचारियों पर भी कोरोना की मार पड़ रही है। सरकार द्वावारा महामारी के खिलाफ किए जा रहे वित्तीय खर्च के चलते अब प्रदेश के लाखों कर्मचारियों का सरकार ने पहले उनका डीए रोका और अब अब वेतन में काल्पनिक वृद्धि की है। जिसको लेकर एमपी सरकार पर कई तरह के सवाल खड़े हो रहे हैं। इसी बीच रक्षाबंधन के मौके पर एक शासकीय कर्मचारी की पत्नी ने सीएम शिवराज को अपना भैया बताते हुए उनके नाम इमोशनल चिट्टी लिख, राखी पर वेतन वृद्धि  का उपहार मांगा है। 

  • undefined

    HatkeJul 22, 2020, 1:27 PM IST

    रोज छाती से दूध निकाल प्लेन से दिल्ली भेजती है मां, 1 हजार km दूर मौत से लड़ते बेटे को बोतल से पिलाती है नर्स

    हटके डेस्क: मां की ममता की किसी चीज से तुलना नहीं की जा सकती। मां अपने बच्चे के लिए कुछ भी कर गुजरती है। इन दिनों भारत के लेह में रहने वाली एक मां चर्चा में है। ये मां लेह से दिल्ली हर रोज अपना दूध प्लेन से भेजती है। अब आप सोच रहे होंगे कि आखिर ये मां ऐसा क्यों करती है? दरअसल, इस मां का बेटा देश की राजधानी दिल्ली के एक अस्पताल में एडमिट है। वहां उसके नवजात बेटे का के खाने की नली में कुछ समस्या है। इसी का इलाज दिल्ली में चल रहा है। लेकिन चूंकि, बच्चे की मां की सर्जरी हुई  है,इस कारण वो लेह से दिली नहीं आ पाई। बीते एक महीने से बच्चे के लिए प्लेन से हर रोज दूध लेह से दिल्ली पहुंचाया जा रहा है। इस स्टोरी की इन दिनों काफी चर्चा हो रही है। 

  • undefined

    HaryanaJul 17, 2020, 1:30 PM IST

    पत्नी की मौत की खबर सुनकर10 मिनट बाद 82 साल के बुजुर्ग ने भी प्राण त्यागे, एक दिन पहले ही कर दी थी भविष्यवाणी

    शादी के दौरान नव दम्पती मंडप में 7 फेरे लेते हैं। दूसरे धर्मों में रीति-रिवाज अलग हो सकते हैं, लेकिन दम्पती जिंदगीभर एक-दूसरे का साथ देने का वादा जरूर करता है। आमतौर पर दम्पती वादा निभाते भी हैं। लेकिन जैसा वादा 82 साल के बुजुर्ग ने निभाया, वो इनसे जुड़े लोग कभी नहीं भूल पाएंगे। पति के जब खबर मिली कि उनकी पत्नी अब इस दुनिया में नहीं रहीं, तो 10 मिनट बाद उनकी भी मौत हो गई। यह मामला फरीदाबाद जिले के एक गांव का है।

  • undefined

    RajasthanJul 15, 2020, 9:45 AM IST

    बस से उतरकर जाने लगा पिता..तभी किसी ने पीछे से दी आवाज, मुड़कर देखा..तो उसी बस ने बेटे को कुचल दिया था

    चित्तौड़गढ़, राजस्थान. लापरवाही अकसर मौत का कारण बनती है। बहरहाल, मौत कैसे अपनी ओर खींच लेती है, यह एक्सीडेंट यही दिखाता है। रोडवेज बस की टक्कर से बाइक सवार युवक और महिला की मौत हो गई। हैरानी वाली बात यह है कि इसी बस में मृतक का पिता भी बैठा था। हादसे के बारे में उसे पता तक नहीं चला। जब हादसे के बाद बस रुकी, तो पिता आगे जाने लगा। तभी पीछे से किसी ने आवाज दी। उसने मृतक को इसके साथ बाइक पर देखा था। तब पिता को हादसे में बेटे की मौत की खबर लगी। यह हादसा कपासन में मंगलवार को हुआ। 19 साल के हरीश के पिता चमनलाल को कहीं जाना था। हरीश उन्हें बस में बैठाकर घर लौटने लगा। तभी रास्ते में राशमी निवासी सलमा उसे मिली। उसका पति उदयपुर के एक अस्पताल में भर्ती हैं। वो पैसों का इंतजाम करने गांव आई थी। जब उस पता चला कि बस निकल गई है, तो उसने हरीश से मदद मांगी। हरीश उसे बाइक पर बैठाकर वापस बस पकड़ने दौड़ा पड़ा। तभी आगे जाकर बाइक बस की चपेट में आ गई और दोनों की मौत हो गई। लाश देखकर बेहोश हुआ पिता...

  • undefined

    Madhya PradeshJul 10, 2020, 10:34 PM IST

    पिता की गन से बेटे ने उड़ाया सिर, इंस्टाग्राम पर लिखा-जब ज्यादा दर्द मिलता है तो खामोश होना पड़ता है

    भोपाल में 10वीं के छात्र ने पिता की लाइसेंसी रायफल से खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली। मरने से पहले उसने इमोशनल होकर इंस्टाग्राम पर सुसाइड नोट में लिखा ''जिस इंसान को जब हद से ज्यादा दर्द मिलता है तो वह रोता नहीं सीधे खामोश हो जाता है।'' 
     

  • undefined

    RajasthanJul 10, 2020, 9:38 AM IST

    IPS 'सिंघम' का हुआ ट्रांसफर तो रो पड़े लोग, घोड़ी पर बैठाकर बैंड-बाजों के साथ अनोखे अंदाज में दी विदाई


    धौलपुर (राजस्थान). चंबल के बीहड़ों से डकैतों का सफाया करने वाले एसपी राजस्थान के युवा आईपीएस मृदुल कच्छावा का ट्रांसफर हो गया है। लोग उनको धौलपुर के सिंघम के नाम से पुकारते हैं। उनके चाहने वालों ने एसपी साहब को ऐसी विदाई की लोगों की आंखों से आंसू निकल पड़े। उनको अपने शहर से विदाई देते वक्त हर कोई भावुक हो गया। जनता ने उनको रोकने की भरपूर कोशिश की, लेकिन सरकारी सिस्टम के चलते उनका तबादला धौलपुर से करौली कर दिया गया।

  • undefined

    JharkhandJun 12, 2020, 6:09 PM IST

    बहू ने ससुराल में कदम रखते ही अर्थी पर लेटे ससुर के पांव छुए और उनके मुख में गंगाजल डाला, तब मिला सबको चैन

    कहते हैं कि मौतों के बावजूद जिंदगी रुकती नहीं है। भावुक करने वाली यह कहानी भी यही बताती है। आमतौर पर अगर घर में किसी की मौत हो जाए, तो सारे शुभ कार्य रोक दिए जाते हैं। लेकिन अगर मरने वाले की अंतिम इच्छा ही यही हो कि उसकी शुभ कार्य नहीं रुकने चाहिए..तब ऐसा होता है। यह मामला चासनाला का है। पिता की घर में अर्थी सजी रखी थी। बेटा पहले 7 फेरे करके बहू ब्याहकर लाया। इसके बाद पिता को मुखाग्नि दी।