Naxalism  

(Search results - 11)
  • UP CM Yogi said after rammandir 370 now time to end Naxalism in india live updates

    Bihar ElectionOct 29, 2020, 12:29 PM IST

    सीवान में गरजे यूपी CM योगी, कहा- राममंदिर, तीन तलाक, धारा 370 के बाद अब नक्सलवाद की बारी

    योगी ने आरोप लगाया कि मोदी से पहले कांग्रेस-आरजेडी और कम्युनिस्ट पार्टियां कहती थीं कि इस देश के संसाधनों पर एक मजहब विशेष का पहला हक है। मोदी ने उसे बदला। यह भी कहा कि अब भारत में नक्सलवाद के खात्मे की बारी है। 

  • Pathalgarhi movement: Movement on social media to protest against the arrest of Naxalite Babita Kachhap kpa

    JharkhandJul 27, 2020, 4:04 PM IST

    जिस जुर्म में इस आदिवासी लड़की को किया गया अरेस्ट..उसे सुनकर छिड़ गई सोशल मीडिया पर बहस

    रांची, झारखंड. आदिवासियों को सरकार के खिलाफ हिंसक आंदोलन के लिए उकसाने के आरोप में गुजरात आतंकवाद रोधी दस्ता (STF) द्वारा गिरफ्तार बबिता कच्छप को लेकर सोशल मीडिया पर बहस छिड़ गई है। बबिता पत्थलगढ़ी आंदोलन की लीडर हैं। इन पर झारखंड के आदिवासी बहुल्य गांवों में लोगों को संविधान के खिलाफ खड़ा करने का आरोप है। पत्थलगढ़ी आंदोलन का इतिहास खूनी रहा है। बता दें कि शुक्रवार को बबिता के अलावा दो भाइयों सामू और बिरसा औरेया को पकड़ा गया था। इनकी गिरफ्तारी पर गुजरात के भरुच जिले के झागड़िया से विधायक छोटू वसावा सवाल उठाए हैं। भारतीय ट्राइबल पार्टी (BTP) के प्रमुख वसावा ने कहा कि किसी आदिवासी को नक्सली करार देना..उसे अपने अधिकारों की आवाज न उठाने देना है। हालांकि पुलिस बबिता को सशस्त्र आंदोलन पत्थलगढ़ी की मास्टरमाइंड मानती है। इसे पकड़ने के लिए लंबे समय से पुलिस लगी हुई थी। आगे बढ़ें बबीता और पत्थलगढ़ी आंदोलन की कहानी...
     

  • Jharkhand Naxalites, The shocking story of Babita Kachhap, the mastermind of the dangerous Pathalgarh movement kpa

    JharkhandJul 25, 2020, 5:03 PM IST

    जब यह लेडी मुस्कराती थी, तो तय हो जाता था कि कुछ खतरनाक होने को है...क्या SP और क्या नेता...सबसे लिया पंगा

    रांची, झारखंड. हर खूबसूरत शक्ल के पीछे अच्छी सोच हो, यह जरूरी नहीं। कभी शहरी, तो कभी ग्रामीण परिवेश में नजर आने वाली यह लेडी कोई फिल्मी हीरोइन नहीं है, बल्कि नक्सलियों की लीडर बबीता कच्छप है। यह आदिवासी गांवों में सरकार के खिलाफ खड़े किए गए सशस्त्र आंदोलन पत्थलगढ़ी की मास्टरमाइंड है। इसे पकड़ने के लिए लंबे समय से पुलिस लगी हुई थी, लेकिन पकड़ में नहीं आ रही थी। हैरानी की बात है कि यह लेडी मीडिया के अलावा सोशल मीडिया पर भी बराबर सक्रिय रही। बबीता और दो अन्य नक्सली भाइयों सामू और बिरसा औरेया को गुजरात एटीएस ने महिसागर जिले के संतरामपुर से धर दबोचा है। बबीता रांची-खूंटी के आसपास के आदिवासी गांवों में पत्थलगढ़ी आंदोलन की बागडोर संभाले हुए थे। इसका एक खास साथी यूसूफ पूर्ति अभी फरार है। बबीता की गिरफ्तारी के बाद अब सिर्फ यूसूफ ही संगठन का बड़ा नेता बचा है। बता दें कि जनवरी में पश्चिम सिंहभूम के अति नक्सलप्रभावित गुदड़ी थाना के बुरुगुलीकेरा गांव में पत्थलगढ़ी समर्थकों ने यहां के उपमुखिया जेम्स बुढ सहित 7 लोगों को भरी पंचायत में मौत की सजा सुनाने के बाद बेरहमी से मार दिया था। पत्थलगढ़ी समर्थक नहीं चाहते थे कि गांववाले सरकार की किसी भी योजना का लाभ लें। नक्सलियों ने वोटर आइडी, आधार कार्ड और बाकी कागज छीन लिए थे। आगे बढ़ें बबीता और पत्थलगढ़ी आंदोलन की कहानी...

  • Bijapur Naxalism, Naxalites killed a soldier with arrows kpa

    ChhattisgarhJul 2, 2020, 12:15 PM IST

    नक्सलियों ने घर से खींचकर पुलिसवाले को तीरों से किया छलनी..मां-बाप बचाने दौड़े, तो उन्हें भी कर दिया अधमरा

    यह भयानक तस्वीर छत्तीसगढ़ में जड़ जमाए बैठे नक्सलवाद को दिखाती है। बुधवार रात 60 से ज्यादा नक्सलियों ने बीजापुर जिले के एक गांव में रहने वाले एक जवानी की बेरहमी से हत्या कर दी। जवान मेडिकल लीव पर घर आया हुआ था। नक्सली इसके पुलिस में होने से गुस्से में थे। अपने बेटे को बचाने आए मां-बाप को भी नक्सलियों ने तीरों से घायल कर दिया। इस घटना के बाद इलाके में दहशत का माहौल है। 

  • Chhattisgarh Naxalism, Lady Commando Sunaina gives birth to daughter, read the story of Mardaani kpa

    ChhattisgarhJun 8, 2020, 10:30 AM IST

    रियल मर्दानी: गर्भवती होने पर भी एके-47 लिए नक्सलियों से लोहा लेती रही यह लेडी कमांडो, अब बनी मां

    बस्तर, छत्तीसगढ़. किसी गर्भवती के लिए भारी काम करना भी जोखिम माना जाता है, लेकिन यह लेडी कमांडो कंधे पर एके-47 उठाए दुर्गम जंगलों में घूमती रही। वो उन खतरनाक जंगलों में, जो नक्सलियों के गढ़ माने जाते हैं। ये हैं दंतेश्वरी फाइटर्स की कमांडो सुनैना पटेल। ये अब मां बन गई हैं। सुनैना ने एक बेटी को जन्म दिया है। वे कहती हैं कि उन्होंने पहले भी अपनी ड्यूटी को शिद्दत से निभाया और अब बेटी होने के बाद भी निभाएंगी। बता दें कि गर्भवती होने के बावजूद सुनैना 7 महीने तक गश्त करती रहीं। एसपी डॉ अभिषेक पल्लव ने सुनैना की तारीफ की है। इस कमांडो के ऊपर कोई दबाव नहीं था। हकीकत तो यह है कि पुलिस विभाग को मालूम ही नहीं था कि उसकी जाबांज लेडी कमांडो गर्भवती है। क्योंकि उसने खुद यह जानकारी विभाग को नहीं दी थी। इसके पीछे सिर्फ इतनी सी वजह थी..क्योंकि वो अपनी ड्यूटी से पीछे नहीं हटना चाहती थी। अब जबकि यह मामला सामने आया है, तो पुलिस विभाग ने अपनी लेडी कमांडो के साहस को सैल्यूट करते हुए फील्ड ड्यूटी से अलग किया है। दंतेवाड़ा के SP अभिषेक पल्लव ने asianetnews हिंदी को बताया था कि यही लोग पुलिस की शक्ति हैं। जो हर परिस्थिति में अपनी ड्यूटी निभाते हैं। पढ़िये रियल मर्दानी की कहानी..
     

  • Emotional news related to the martyrdom of 17 policemen in Naxalite attack in Chhattisgarh kpa

    ChhattisgarhMar 23, 2020, 3:48 PM IST

    जो अब कभी घर नहीं लौटेंगे, उनका चेहरा आखिरी बार देखकर फट गई अपनों की छाती

    सुकमा. छत्तीसगढ़. ये तस्वीरें पत्थर दिल को भी रुला सकती हैं। शनिवार को नक्सलियों से लोहा लेने निकले करीब 500 जवानों में से 17 घने और खतरनाक जंगलों से वापस नहीं लौट सके। नक्सलियों ने गश्ती दल पर घात लगाकर हमला किया था। इसमें 17 जवान शहीद हो गए थे। रातभर उनकी लाशें जंगलों में पड़ीं रहीं। अगले दिन रविवार को सर्चिंग के बाद उनके शवों को जंगल से लाया जा सका। सोमवार को जब इन शहीद जवानों को पुलिस लाइन में श्रद्धांजलि दी गई, तो लोग फूट-फूटकर रो पड़े। जो लोग अनजान थे, वे भी खुद के आंसू नहीं रोक पाए थे। इस हमले में 12 जवान घायल हुए थे। उन्हें रायपुर रेफर किया गया है।

  • Emotional news related to martyrdom of 17 soldiers in Naxalite attack in Chhattisgarh kpa

    ChhattisgarhMar 23, 2020, 9:59 AM IST

    बेटे के शहीद होने की खबर सुनकर रोते हुए बोली मां, मेरा कलेजा मजबूत है, दूसरा बेटा भी फोर्स में जाएगा

    सुकमा, छत्तीसगढ़. नक्सली हमले में अपने बेटे के शहीद होने की खबर सुनकर लाजिमी है कि मां फूट-फूटकर रोएगी..लेकिन इस जवान की मां की आंखों में आंसुओं के साथ गर्व भी था। जब इसके शहीद होने की खबर लेकर थाना प्रभारी घर पहुंचे..तो वहां जो देखा-सुना..उससे वो भी रो पड़े। जब उन्होंने इस शहीद की मां से कहा कि खुद का संभालिए..तो जवाब मिला-'मेरा कलेजा बहुत मजबूत है...अब मेरा दूसरा बेटा भी फोर्स में जाकर देशसेवा करेगा!' अपना जवान बेटा खोने वाली एक मां को इस तरह कहते देख..वहां मौजूद लोगों की आंखों में भी आंसू निकल आए। लेकिन उन्हें गर्व भी था कि यह जवान उनके गांव का रहने वाला था। बता दें कि शनिवार को सुकमा में हुए नक्सली हमले में 17 जवान शहीद हो गए थे। इनमें अमरजीत खलखो जशपुर जिले का रहने वाला था। इन जवानों के शहीद होने की खबर अगले दिन यानी रविवार को सर्चिंग के बाद पता चली थी। अमरजीत औरीजोरा हर्राड़ाड के रहने वाले थे। अमरजीत ने 2 साल पहले ही सीएएफ ज्वाइन किया था।  शहीद के पिता अमृत खलखो की 3 साल पहले करंट लगने से मौत हो गई थी। इसके बाद घर की सारी जिम्मेदारी अमरजीत के कंधे पर आ गई थी। घर में मां, छोटा भाई और नानी हैं।
     

  • Mysterious history of Pathalgarhi related to Naxalites, boycott of government papers, a sensational story kpa

    JharkhandFeb 29, 2020, 5:49 PM IST

    यहां की सीमा लांघना..यानी मौत को दावत देना है.. जानिए क्यों सरकारी कागज लौटा रहे यहां के लोग

    रांची, झारखंड. आपको याद दिला दें कि 19 जनवरी को पश्चिम सिंहभूम जिले के अति नक्सल प्रभावित गुदड़ी थाना के बुरुगुलीकेरा गांव में पत्थलगढ़ी समर्थकों ने उपमुखिया जेम्स बुढ सहित 7 लोगों की हत्या कर दी थी। इस घटना का खौफ अभी भी इस इलाके में देखा जा सकता है। इसी बीच अब रांची जिले के तमाड़ विधानसभा में पत्थलगढ़ी से जुड़ी एक चौंकाने वाली खबर सामने आई है। यहां हाल में पत्थलगढ़ी समर्थकों ने 'भारत सरकार कुटुंब परिवार संघ' के बैनर तले आध्यात्मिक आरती सभा का आयोजन किया था। इसमें गांववालों को सरकार के खिलाफ उकसाया गया। पत्थलगढ़ी समर्थकों के कहने पर गांव के करीब 100 परिवारों ने अपने आधार कार्ड, राशन कार्ड और वोटर आईडी उन्हें सौंप दिए। पत्थलगढ़ी समर्थक ऐसे दुर्गम ग्रामीण इलाकों पर फोकस कर रहे हैं, जहां सरकारी महकमा आसान से नहीं नहीं पहुंच सकता। हालांकि जो लोग इस आंदोलन के समर्थक नहीं है, उनके बीच खूनी संघर्ष की स्थितियां बन रही हैं।

  • 24 year old boy  killed by naxalites in kanker kpr

    ChhattisgarhDec 22, 2019, 6:39 PM IST

    युवक को दर्दनाक मौत देकर बीच सड़क फेंक दी लाश, पर्चे में लिखा पुलिस का साथ दिया तो यही अंजाम होगा

    छत्तीसगढ़ में पुलिस और अर्धसैनिक बलों से बौखलाए नक्सलियों ने एक 24 साल के लड़को की हत्या कर दी। इसके बाद उसकी लाश बीच सड़क पर फेंक दी। मृतक के हाथ में एक पर्चा थमा दिया। जिस पर लिखा था-अगर पुलिस का साथ दिया तो यही अंजाम होगा।

  • Jharkhand election 15 out of 20 seats in second phase is naxalite affected area challenge for peaceful voting kpm

    JharkhandDec 5, 2019, 3:56 PM IST

    झारखंड विधानसभा: दूसरे चरण की 20 में से 15 सीटें नक्सल प्रभावित, कैसे होगा शांतिपूर्ण मतदान; चुनौती

    विधानसभा के दूसरे चरण में सात जिले की 20 सीटों पर 7 नवंबर को मतदान होंगे दूसरे चरण की सीटें झारखंड के कोल्हान और दक्षिणी छोटानागपुर जोन इलाके में आती हैं यह इलाका नक्सल प्रभावित मानी जाती हैं, यही वजह है कि दूसरे चरण की 20 में से 15 सीटे गंभीर नक्सल प्रभाव वाले क्षेत्र में हैं

  • u.p ATS arrests naxalide,was kiving with fake i.d in bhopal .

    Uttar PradeshJul 12, 2019, 6:23 PM IST

    कथित नक्सली मनीष को स्पेशल कोर्ट ने पुलिस रिमांड पर भेजा, यूपी ATS ने की थी गिरफ्तारी

    कथित नक्सली मनीष श्रीवास्तव को सीजेएम स्पेशल कोर्ट ने पुलिस रिमांड पर भेज दिया है। यूपी एटीएस ने मनीष और उसकी पत्नी वर्षा को भोपाल से गिरफ्तार किया था।  मनीष अपनी पत्नी वर्षा उर्फ अनीता श्रीवास्तव के साथ पहचान छिपाकर रह रहा था।