Asianet News Hindi

क्या पृथ्वी का कोर एकतरफा है? सतह के नीचे बना रहा है एक नया रहस्य

नेचर जियोसाइंस में पब्लिश एक रिपोर्ट के अनुसार, डवलपमेंट (development) अरबों वर्षों से चल रहा है। नेचर जियोसाइंस में पब्लिश एक रिपोर्ट के अनुसार, डवलपमेंट (development) अरबों वर्षों से चल रहा है। वैज्ञानिक पृथ्वी के चुंबकीय क्षेत्र पर इस एकतरफा विकास के प्रभाव के बारे में भी चिंतित हैं, जो बाहरी कोर में तरल लोहे की गति से संचालित होता है। 

Earth core lopsided New mystery brewing under surface pwa
Author
New Delhi, First Published Jun 14, 2021, 2:32 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

ट्रेंडिंग डेस्क. लोहे और निकल (Iron and Nickel) से बना पृथ्वी का एक कोर अज्ञात कारणों से एकतरफा बढ़ रहा है। ठोस लोहे (solid iron) कोर एक तरफ तेजी से बढ़ रहा है, जिससे वैज्ञानिक भी भ्रमित हैं। इस घटना की जानकारी तब हुई जब वैज्ञानिकों (scientists) ने कोर से गुजरने वाली भूकंपीय तरंगों (seismic waves) का विश्लेषण किया।

इसे भी पढ़ें- इस पब की सीलिंग पर लटके हैं 20 लाख डॉलर, नोट असली हैं फिर भी बाजार में नहीं चलते

वेब, जिन्हें भूकंप से उत्पन्न भूमिगत झटके के रूप में भी जाना जाता है। भूमध्य रेखा के पार जाने की तुलना में उत्तरी और दक्षिणी ध्रुवों के बीच यात्रा करते समय कोर तेजी से आगे बढ़ रही हैं। जिसे भूकंपीय अनिसोट्रॉपी के रूप में डब किया गया है। उपलब्ध आंकड़ों की कमी के कारण इस विसंगति को अभी तक समझाया नहीं गया है। नेचर जियोसाइंस में पब्लिश एक रिपोर्ट के अनुसार, डवलपमेंट (development) अरबों वर्षों से चल रहा है, जब से यह पिघले हुए लोहे से जमने लगा है। रिसर्चरस द्वारा इस निष्कर्ष पर पहुंचने के लिए कंप्यूटर सिमुलेशन का उपयोग किया कि आंतरिक कोर एकतरफा तरीके से बढ़ रहा है, जिसमें नए लोहे के क्रिस्टल पश्चिम की तुलना में पूर्व की ओर तेजी से बनते हैं।

इसे भी पढ़ें- फर्श के नीचे मिले 3787 हड्डियों के टुकड़े, 17 लोगों की हत्या की आशंका, ऐसे सामने आया मामला


रिसर्च के प्रमुख लेखक डैनियल फ्रॉस्ट ने लाइवसाइंस को बताया, "बाहरी कोर में तरल लोहे की गति आंतरिक कोर से गर्मी को दूर ले जाती है, जिससे यह जम जाता है।" शोधकर्ताओं ने पाया कि पश्चिम में ब्राजील की तुलना में इंडोनेशिया के तहत गर्मी तेजी से दूर हो रही है और एक तरफ तेजी से ठंडा होने से उस तरफ लोहे के क्रिस्टल और कोर के विकास में तेजी आने की संभावना है। गुरुत्वाकर्षण ने एक गोलाकार प्रकृति को बनाए रखने के लिए कोर के पश्चिमी भाग की ओर नवगठित लोहे के क्रिस्टल को वितरित करके स्थिति को संतुलित करने में अपनी भूमिका निभाई है जो प्रति वर्ष औसतन 1 मिलीमीटर की त्रिज्या में बढ़ रही है।

इसे भी पढ़ें-  कोरोना: डेनमार्क में आज से मास्क लगाने का नियम खत्म, जानें दुनिया का कौन सा देश सबसे पहले हुआ मास्क फ्री

वैज्ञानिक पृथ्वी के चुंबकीय क्षेत्र पर इस एकतरफा विकास के प्रभाव के बारे में भी चिंतित हैं, जो बाहरी कोर में तरल लोहे की गति से संचालित होता है। शोधकर्ता अब नए परिवर्तनों का अध्ययन करने के लिए geomagnetists की एक टीम के साथ सहयोग कर रहे हैं। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios