Asianet News HindiAsianet News Hindi

उम्र की सीमा नहीं, गुजरात में 2 साल के बच्चे और 100 साल के बुजुर्ग की कैटरेक्ट सर्जरी

गुजरात में दो साल के बच्चे को मोतियाबंद हो गया। एक्सपर्ट की मानें तो दो साल के बच्चे को मोतियाबिंद दस हजार में से तीन  बच्चों में देखने को मिल सकता है। वहीं, सौ साल मनसुख भाई गांधी को भाई मोतियाबिंद था। डाॅक्टर मनीष रावल ने दोनों का सफल ऑपरेशनन किया है। 

gujarat eye specialist manish rawal oprate lakshit and mansukh bhai eye cataract surgery apa
Author
New Delhi, First Published May 14, 2022, 3:16 PM IST

नई दिल्ली। कहा जाता है डॉक्टर भगवान का रूप होते हैं। गुजरात में सूरत के रहने वाले दो साल के लक्षित और अहमदाबाद के रहने वाले सौ साल के मनसुख भाई गांधी, दोनों को आंखों से धुंधला नजर आता था। उनकी कैटरेक्ट में गड़बड़ी थी और इसकी सर्जरी की जरूरत थी। 

अब सफल सर्जरी के बाद उम्मीद बंधती दिख रही है कि दो साल का लक्षित अब आगे बढ़ते हुए भविष्य की ओर देख सकता है, जबकि मनसुख भाई अपनी खुशहाल पिछली जिंदगी को बेहतर तरीके से याद कर पाएंगे। इसके लिए डॉक्टर मनीष रावल के प्रयासों की सराहना की जानी चाहिए। मनीष रावल शहर के मशहूर नेत्र रोग विशेषज्ञ हैं। उन्होंने मनसुख भाई गांधी का सफल ऑपरेशन किया। मनसुख भाई शुगर के मरीज हैं। उन्हें ब्लड प्रेशर और थायराइड भी रहता है। साथ ही, पिछले साल वह कोरोना संक्रमण की चपेट में भी आए थे। 

वहीं, लक्षित की दो में से बाये आंख की सर्जरी हो गई है, जबकि दाये आंख की सर्जरी कुछ महीने बाद होगी। लक्षित भी कैटरेक्ट बीमारी की चपेट में है और यह बीमारी उसकी उम्र में दस हजार में से सिर्फ 3 बच्चों को होने के चांस रहते हैं। असल में कैटरेक्ट यानी मोतियाबिंद का इलाज ऑपरेशन से ही हो सकता है। सर्जरी के लिए डॉक्टर प्राकृतिक लेंस को हटाकर कृत्रिम लेंस लगा देते हैं। इसे इंट्रा ओक्युलर लेंस कहते हैं। 

वैसे ऑपरेशन के बाद मरीज देख सकता है। मगर जिनकी आंखों की रौशनी  पहले से कमजोर है, उन्हें काम करने के लिए या पढ़ने-लिखने के लिए चश्मा लगाने की जरूरत पड़ सकती है। ऑपरेशन के बाद मरीज घर जा सकता है। 

हटके में खबरें और भी हैं..

ढाई फुट के अजीम पीएम मोदी से बोले- दिन को चैन नहीं, रात में नींद नहीं..मेरा ये काम करा दीजिए

सांप को दूध पीते तो बहुत देखा होगा, आज कांच के ग्लास में पानी पीते भी देख लीजिए

'हमारी आंटियां चोरों से कम हैं के' देखिए एक महिला ने पलक झपकते दुकान पर मोबाइल कैसे उड़ाया

बेटी को पालने के लिए मां ने 30 साल तक पुरूष बन कर काम किया, साड़ी-ब्लाउज की जगह पहने लुंगी और शर्ट

 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios