Asianet News HindiAsianet News Hindi

Khabar hatke: इस गुफा के गर्भ में छुपा है दुनिया के खत्म होने का राज, जानकर हैरान हो जाएंगे आप

उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जिले में एक गुफा स्थित है जिसका नाम है पाताल भुवनेश्वर गुफा। जिसका जिक्र हमारे पुराणों में भी किया गया है। मान्यता है कि, इस गुफा में दुनिया का ऐसा रहस्य चुपा है जिसे जानकर हर कोई हैरान हो जाएगा।

Khabar hatke Patal Bhuvaneshwar Cave Temple uttrakhand MBT
Author
Delhi, First Published Nov 16, 2021, 1:43 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली। हमारे देश में कई सारे मंदिर हैं, गुफा भी कई हैं, कुछ रहस्यमयी है तो कुछ चमत्कारी। लेकिन आज हम आपको एक ऐसी गुफा के बारे में बताएंगे जिसका रहस्य कोई नहीं जान पाया। वो गुफा है उत्तराखंड (Uttrakhand) के पिथौड़ागढ़ जिले में स्थित पाताल भुवनेश्वर मंदिर (Patal Bhuvneshwar Temple) की। जिसका जिक्र आपको हिंदू पुराणों में भी पढ़ने को मिल जाएगा। ऐसा कहा जाता है कि, इस गुफा में दुनिया के खत्म होने का रहस्य छुपा हुआ है। जिसको जानने के लिए कई लोग इस गुफा में गए, लेकिन उसके बारे में कुछ नहीं पता कर पाए। आज हम आपको इस गुफा से जुड़ी कुछ जरूरी बातें बताएंगे जिसको ध्यान में रखकर आप इसमें प्रवेश कर सकते हैं।

समुद्र तल से 90 फीट गहरा है यह मंदिर

इस गुफा की गहराई समुद्र तल से 90 फीट गहरी है। जिसके कारण इस गुफा में प्रवेश करने के लिए आपको काफी पतले और सकरे रास्ते से गुजरना पड़ता है। जिसमें एक समय पर एक ही व्यक्ति जा सकता है। इसके बाद जब आप गुफा में धीरे-धीरे अंदर जाने लगेंगे, तो रोशनी बिल्कुल कम होती जाएगी। कुछ रास्ते पर ऑक्सीजन भी कम होगी। लेकिन आपको इसके अंदर का नजारा देखकर हैरानी भी काफी होगी। क्योंकि इसमें आपको चट्टानें हाथी की कलाकृति की तरह नजर आएगी।  इसके बाद नागों के राजा अधिशेष की कलाकृति भी इसके चट्टानों में दिखेगी। मान्यता है कि नागों के राजा अधिशेष ने ही दुनिया का भार अपने सिर पर संभाल रखा है।

मंदिर में चार द्वार है मौजूद

इस मंदिर में चार द्वार मौजूद हैं। पुराणों के अनुसार, इसमें से एक रणद्वार, दूसरा पापद्वार, तीसरा धर्मद्वार और चौथा मोक्षद्वार है। ऐसा कहा जाता है कि, जब रावण की मृत्यृ हुई थी तो यहां पर मौजूद पापद्वार का दरवाजा खुद बंद हो गया था। अब इसमें एक ही द्वार खुला है वो मौक्षद्वारा जहां पर भगवान शिव का वास है। सारे देवी-देवता आज भी उनकी आराध्ना करने के लिए वहां आते हैं और उनकी पूजा करते हैं।

सूर्य वंश के राजा ने की थी इस गुफा की खोज

ऐसा कहा जाता है कि, इस गुफा की खोज राजा ऋतुपर्णा ने की थी। इसके बाद पांडवों ने भगवान शिव की पूजा यहां की। लेकिन आज के समय में बहुत कम लोग यहां आते हैं। कुछ लोग दर्शन करने पहुंचते हैं तो कुछ लोग इस रहस्य को जानने आते हैं कि, आखिर दुनिया कब खत्म होगी। अगर आप भी जानना चाहते हैं इस रहस्य के बारे में तो एक बार जरूर जाएं उत्तराखंड के पाताल भुवनेश्वर मंदिर में जहां मिलेंगे आपको भगवान शिव के दर्शन। 

ये भी पढ़ें- 

Government Job: 10वीं पास युवाओं के लिए मौका, HPSEB ने ड्राइर पोस्ट के लिए निकाली भर्ती, इतनी होगी सैलरी

Weird News: क्या कभी देखा है आपने 600 किलो का आलू, खाने की जगह लोगों ने बना लिया आलीशान होटल

UPSC Success Story 2020: पढ़कर क्या करोगी-शादी ही करना है, ऐसी मुश्किलों के बीच अब IAS बनेगी सदफ

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios