Asianet News HindiAsianet News Hindi

औरैया: शिक्षक की पिटाई से नहीं बल्कि इस वजह से हुई थी दलित छात्र की मौत, पोस्टमार्टम रिपोर्ट में हुए कई खुलासे

यूपी के औरैया जिले में शिक्षक की पिटाई से दलित छात्र की मौत के मामले पर कई राजनैतिक पार्टियों ने पीड़ित परिवार को न्याय देने की मांग की है। मृतक की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में बताया गया है कि छात्र की मौत सेप्टीसीमिया की वजह से हुई है। 

Auraiya death of Dalit student was not due to teachers beating but because of this many revelations were made in post mortem report
Author
First Published Sep 27, 2022, 4:27 PM IST

औरैया: उत्तर प्रदेश के औरैया जिले में 10वीं के छात्र निखित की मौत पर जमकर सियासत हो रही है। समाजवादी पार्टी और भीम आर्मी के बाद अब बसपा सुप्रीमो मायावती ने भी मृतक छात्र के लिए न्याय की मांग की है। मृतक छात्र के परिजनों ने मांग की थी कि जब तक आरोपी शिक्षक के खिलाफ सख्त कार्रवाई नहीं की जाती तबतक शव का अंतिम संस्कार नहीं किया जाएगा। इसी बीच मृतक की पोस्टमार्टम रिपोर्ट भी सामने आ गई है। इस रिपोर्ट के अनुसार छात्र की मौत सेप्टीसीमिया की वजह से हुई है। बता दें कि रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि उसके शरीर पर इंटरनल या एक्सटर्नल चोट के कोई निशान नहीं मिले हैं।

डीएम और एसपी को भेजी गई पोस्टमार्टम रिपोर्ट
डॉक्टरों ने बिसरा को प्रीजर्व कर लिया है। इसे जांच के लिए लखनऊ भेजा जाएगा। डॉक्टरों के एक पैनल द्वारा शव का पोस्टमार्टम करवाया गया था। इस दौरान सामने आया कि करीब 2 साल पहले छात्र का लखनऊ के पीजीआई में किडनी संक्रमण का इलाज चल रहा था। पोस्टमार्टम रिपोर्ट को औरैया के डीएम और एसपी को भेज दिया गया है। बताया जा रहा था कि बीते 7 सितंबर को स्कूल में सामाजिक विज्ञान का टेस्ट लिया गया था। निखित की टेस्ट कॉपी में कई गलतियां थीं। 

शिक्षक ने की थी छात्र की पिटाई
यह देख शिक्षक अश्वनी सिंह का पारा सातवें आसमान पर पहुंच गया और उन्होंने निखित की लात-घूसों और डंडों से पिटाई कर दी। इस दौरान वह स्कूल में ही बेहोश हो गया। जिसके बाद उसके माता-पिता को सूचना दी गई।  इसके बाद परिजन छात्र को लेकर निजी अस्पताल पहुंचे। जहां पर ड़क्टरों ने गंभीर हालत देखते हुए उसे सैफई मेडिकल कॉलेज रेफर कर दिया। जहां पर समय से भर्ती नहीं हो पाने के कारण उसकी एंबुलेंस में ही मौत हो गई थी। मौत के बाद आरोपी शिक्षक के खिलाफ हले से दर्ज मामले में गैर इरादतन हत्या की धारा बढ़ा दी गई और गिरफ्तारी के लिए टीमें बनाई गईं। उधर मामले की जानकारी होने के बाद विभाग ने भी शिक्षक को सस्पेंड कर दिया। 

उपद्रवियों के खिलाफ की जाएगी सख्त कार्रवाई 
पीड़ित दलित छात्र की मौत के बाद नाराज भीम आर्मी के लोग भारी संख्या में शाम के समय कॉलेज के पास एकत्र हो गए। वहीं भीड़ बढ़ती देख एएसपी, सीओ और एसडीएम कई थानों की फोर्स भी मौके पर पहुंच गई। जब पुलिस ने लोगों को हटाने की कोशिश की तो लोगों ने पथराव करना शुरूकर दिया। इस दौरान मौके पर अफरा-तफरी का माहौल बन गया। बता दें कि एसडीएम बिधूना लवगीत कौर के साथ भी उपद्रवियों ने धक्का-मुक्की की और पुलिस की गाड़ी में आग लगा दी गई। पुलिस ने बताया कि उपद्रवियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। 

औरैया: शिक्षक की पिटाई से छात्र की मौत, पुलिस ने नहीं लिया एक्शन तो पीड़ित परिवार ने SP से लगाई मदद की गुहार

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios