बाराबंकी (Uttar Pradesh). बीते दिनों तीस हजारी कोर्ट में हुए विवाद का असर ऐसा हुआ कि यूपी के वकीलों ने जज के कार्यालय में घुसकर उनका कॉलर पकड़ अभद्रता की। जज ने इस बदसलूकी के लिए पुलिस अधीक्षक को पत्र लिख केस दर्ज करने के लिए कहा है। 

क्या है पूरा मामला
बाराबंकी में वकील शुक्रवार को काफी संख्या में एकजुट होकर जज सन्दीप जैन के कार्यालय पहुंचे और उत्पात मचाने लगे। सन्दीप जैन मोटर दुर्घटना दावा अभिकरण के पीठासीन अधिकारी हैं। उन्होंने कहा, मैं अपने कार्यालय में बैठकर कुछ जरूरी आदेश आशुलिपिक से लिखवा रहा था। इस बीच 40-50 वकील झुंड बनाकर कार्यालय में घुस आए और मेरा कालर पकड़ अभद्रता करने लगे। उन्होंने कहा कि हड़ताल के दिन काम क्यों करवा रहे हो। मेरे अलावा वकीलों ने आशुलिपिक, गनर और स्टाफ के लोगों के साथ भी गाली गलौज की। वहीं, जज के कार्यालय में क्लर्क के पद पर तैनात रिंकू ने बताया, 50-60 वकील एक साथ साहब के कमरे में आ धमके और गाली गलौच करने लगे। वो काम करने को लेकर विरोध कर रहे थे। 

पुलिस का क्या है कहना
अपर पुलिस अधीक्षक अशोक कुमार शर्मा ने बताया, जज संदीप जैन की तहरीर पर अज्ञात वकीलों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है। जांच में जो भी तथ्य सामने आएंगे उसके अनुसार कार्रवाई की जाएगी। फिलहाल, अभद्रता की बात सामने आई है और सरकारी कार्य में बाधा डालने का अभियोग पंजीकृत किया गया है। सीसीटीवी कैमरे को भी खंगाला जाएगा।