लखनऊ(Uttar Pradesh). भारतीय लोकतंत्र के इतिहास में 25 जून 1975 को काली तारीख के रूप में याद किया जाता है। तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के कहने पर 25 जून 1975 को ही तत्कालीन राष्ट्रपति फखरूद्दीन अली अहमद ने देश में इमरजेंसी यानी आपातकाल का ऐलान किया था।  देश में आपातकाल लागू करने की 45वीं बरसी पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ट्वीट के जरिए कांग्रेस पार्टी पर तीखा हमला बोला है।  उन्होंने आज के दिन को भारतीय इतिहास का सबसे काला दिन बताया है। 

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ट्वीट कर कांग्रेस पार्टी पर निशाना साधते हुए कहा कि आज भारत के इतिहास का सबसे काला दिन है। एक परिवार की राजनीतिक लिप्सा ने 1975 में आज के दिन ही लोकतांत्रिक मूल्यों का गला घोंट, 'आपातकाल' थोप कर मां भारती को बेड़ियों में जकड़ दिया था। सीएम योगी ने ट्वीट करते हुए कहा कि उन महामानवों को नमन, जिनके बलिदान ने लोकतंत्र की पुनः प्राणप्रतिष्ठा कर मां भारती को गौरव भूषित किया।

45 साल पहले आज ही के दिन लगी थी इमरजेंसी 
आपको बता दें कि देश के इतिहास में 25 जून की तारीख इस विवादास्पद फैसले के लिए हमेशा याद की जाती है। आपातकाल के दौरान इंदिरा सरकार का विरोध करने वाले नेताओं को जेल में डाल दिया गया था। इमरजेंसी को स्‍वतंत्र भारत का सबसे विवादास्‍पद और गैर लोकत्रांतिक फैसला माना जाता है।  इंदिरा गांधी को इसकी कीमत चुकानी पड़ी थी। कांग्रेस पार्टी को इमरजेंसी के बाद हुए लोकसभा चुनाव में करारी हार का सामना करना पड़ा था।