लखनऊ (Uttar Pradesh) । वाराणसी और आजमगढ़ जिले में बीती देर रात पुलिस की मुठभेड़ हुई। इस दौरान दो बड़े बदमाशों का एनकाउंट पुलिस ने कर दिया। जिनपर एक-एक लाख रुपए का ईनाम था। पुलिस के मुताबिक वाराणसी में जैतपुरा थाना क्षेत्र के सरैयां इलाके में रौशन गुप्ता उर्फ किट्टू मारा गया। मुठभेड़ के दौरान उसे सिर में गोली लगी। मुठभेड़ के दौरान क्राइम ब्रांच के दारोगा विनय तिवारी व एक सिपाही जितेंद्र सिंह भी हाथ में गोली लगने से घायल हो गए। जबकि, एक लाख का इनामी मनीष सिंह उर्फ सोनू अंधेरे में भाग निकला। वहीं, आजमगढ़ में सरायमीर थाना क्षेत्र के शेरवां गांव के निकट सूर्यांश दुबे मारा गया। जबकि एसओजी के एक दारोगा एवं सिपाही को गोली लगी है।

प्रधान सत्यमेय जयते मर्डर केस का था मुख्य आरोपी
आजमगढ़ के डीआइजी सुभाष चंद्र दुबे ने देर रात सूर्यांश दुबे के मारे जाने की पुष्टि की है। उन्होंने कहा कि सूर्यांश अपने मूल निवास बांसगांव के ग्राम प्रधान सत्यमेव जयते के मर्डर में मुख्य आरोपी था। उसके खिलाफ हत्या के दो, लूट के एक दर्जन व जानेलवा हमले के कई मुकदमें उसके खिलाफ दर्ज थे। उसकी मऊ पुलिस को भी तलाश थी। डीआईडी ने बताया कि मौके से एक पिस्टल व एक रिवाल्वर बरामद हुई है। 

किट्टू का वायरल हुआ था 50 लाख रंगदारी मांगते वीडियो
बता दें कि बीते दिनों बड़ी पियरी क्षेत्र निवासी इनामी किट्टू ने रेशम कटरा के एक व्यवसायी के सिर पर पिस्टल सटाकर 50 लाख रुपये रंगदारी की मांग की थी। इसका वीडियो भी इंटरनेट मीडिया पर खूब वायरल हुआ था। 

दो लाख रुपए ईनाम की घोषणा
वाराणसी में मारे गए किट्टू के कब्जे से एक पिस्टल .30 बोर , एक पिस्टल .32 बोर, एक पैशन मोटरसाइकिल, भारी मात्रा में कारतूस (एके47, .30 बोर ,.32 बोर ) बरामद हुआ है। किट्टू के खिलाफ वाराणसी, गाजीपुर में दो दर्जन से अधिक संगीन मामले दर्ज हैं। बदमाश के मारे जाने के बाद सराफा व्यवसायियों ने राहत की सांस ली है। शासन ने पुलिस टीम को दो लाख रुपए का इनाम देने की घोषणा की है।