Asianet News Hindi

मेरा बेटा फिर होगा जिंदा, इस आस में तीन दिनों से चल रही है मृत शरीर की झाड़ फूंक

घटना फर्रुखाबाद की है जहां एक परिवार ने मृत युवक का अंतिम संस्कार करने के बजाय उसे झाड़ फूंक करवा कर जिंदा कराने कि आस में घर पर रखा हुआ है। युवक की मौत सांप काटने की वजह से हुई थी। 

family of a dead man do not cremate him after his death, instead waits for some miracle to happen
Author
Farrukhabad, First Published Jul 26, 2019, 5:16 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

फर्रुखाबाद: यूपी के फर्रुखाबाद से एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। नगला कायमगंज में एक परिवार ने अपने मृत सदस्य के शरीर को तीन दिनों से घर में रखा हुआ है, जहां झाड़ फूंक जारी है। परिवारीजनों को भरोसा है कि मर चुका इंसान फिर से जिंदा हो जाएगा। 

कन्नौज के तंत्र मंत्र से लेकर बंगाली महिला तांत्रिक, कोई नहीं दिखा पाया करिश्मा

नगला कायमगंज के निवासी कुश को तीन दिन पहले खेत में काम करते समय सांप ने काट लिया था। उसके बाद परिजन उसे प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र लेकर गए। जहां हालत गंभीर होने पर उसे राम मनोहर लोहिया अस्पताल रेफर कर दिया गया था। राममनोहर लोहिया अस्पताल में डॉक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया। इसके बाद परिजन शव लेकर घर लौट आए। लेकिन अंतिम संस्कार नहीं किया बल्कि जिंदा करने के लिए झाड़ फूंक तंत्र मंत्र के फेर में पड़ गए। 

एटा, कायमगंज के मितौलीया, रुखिया के तांत्रिकों को बुलाया गया। लेकिन लोग युवक को जीवित नहीं कर सके। फिर भी परिजनों का अंध विश्वास खत्म नहीं हुआ है। मृतक के शव को कन्नौज के अर्जुनपुर लेकर गए लेकिन वहां भी कोई तंत्र मंत्र काम नहीं आया। बुधवार को बंगाली महिला तांत्रिक क्रियाओं के लिए आई लेकिन अंध विश्वास का कोई करिश्मा नहीं दिखा पाई। अंध विश्वास के चलते परिजन अंतिम संस्कार करने को तैयार नहीं है। परिजनों को आस है कि कोई करिश्मा काम आ गया, तो वह जिंदा हो सकता है। मृतक के घर पर देखने वालो की भीड़ जमा है।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios