Asianet News HindiAsianet News Hindi

कांग्रेस द्वारा दी गई बसों की सूची में फर्जीवाड़े का आरोप, प्रियंका के निजी सचिव व यूपी कांग्रेस अध्यक्ष पर FIR

हजरतगंज कोतवाली में मंगलवार रात प्रियंका प्रियंका वाड्रा के निजी सचिव संदीप सिंह और यूपी कांग्रेस के अध्‍यक्ष अजय कुमार लल्‍लू के खिलाफ एफआइआर दर्ज की गई। 

FIR on Priyanka personal secretary and UP Congress president kpl
Author
Lucknow, First Published May 20, 2020, 12:08 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

लखनऊ(Uttar Pradesh).  हजरतगंज कोतवाली में मंगलवार रात प्रियंका प्रियंका वाड्रा के निजी सचिव संदीप सिंह और यूपी कांग्रेस के अध्‍यक्ष अजय कुमार लल्‍लू के खिलाफ एफआइआर दर्ज की गई। तहरीर के मुता‍बिक कांग्रेस पार्टी की ओर से प्रवासी श्रमिकों को घर पहुंचाने के लिए एक हजार बस उपलब्‍ध कराने की बात कही गई थी। शासन ने अनुमति देते हुए उनसे बसों का ब्‍यौरा मांगा था। आरोप है कि आरोपितों की ओर से उपलब्‍ध कराई गई बसों की सूची में फर्जीवाड़ा किया गया है। इस मामले में आरटीओ आरपी त्रिवेदी की तहरीर पर पुलिस ने धोखाधड़ी की रिपोर्ट दर्ज की है।

यूपी की योगी सरकार और कांग्रेस के बीच पिछले 4 दिनों से बसों पर जमकर सियासत चल रही है। कांग्रेस प्रवासी श्रमिकों को उनके घर पहुंचाने के लिए 1000 बसें देने की बात कह रही है। योगी सरकार द्वारा इन बसों की लिस्ट मांगी गई। कांग्रेस द्वारा उन्हें बसों की सूची उपलब्ध भी करवाई गई। अब इस सूची में भी धोखाधड़ी का आरोप लगा है। लखनऊ के आरटीओ आरपी त्रिवेदी की ओर से हजरतगंज थाने में दी गई तहरीर में आरोप लगाया गया है कि कांग्रेस ने जो बसों की सूची उपलब्ध करवाई है उसमे फर्जीवाड़ा किया गया है। शासन ने एनआइसी से इन बसों की जांच कराई तो इनमें करीब 31 वाहनों पर ऑटो व अन्‍य थ्री व्‍हीलर के नंबर अंकित थे।

एम्बुलेंस व स्कूल बसों के भी नम्बर लिस्ट में शामिल 
आरटीओ द्वारा दी गई तहरीर के मुताबिक 69 वाहनों पर एंबुलेंस, स्‍कूल बस, ट्रक, डीसीएम, निजी कार के नंबर थे। वहीं एक ही नंबर की गाड़ी को दो सूचियों में अंकित किया गया था। इसके आलावा 70 वाहनों का डाटा ही उपलब्‍ध नहीं मिला। मामले की गंभीरता को देखते हुए परिवहन विभाग ने जांच रिपोर्ट उच्चाधिकारियों को भेजी, जिसके बाद एफआईआर के निर्देश दिए गए। पुलिस आयुक्‍त सुजीत पांडेय के मुताबिक दो लोगों के खिलाफ एफआइआर दर्ज की गई है। मामले की छानबीन की जाएगी। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios