जौनपुर (Uttar Pradesh) । दीवार गिरने से मलबे में दबे और उन्हें अस्पताल ले जा रहे लोगों की मौत हो गई। इस हादसे में भाई-बहन सहित पांच लोगों की जान गई है। मरने वालों में चार लोग एक ही परिवार के हैं। वहीं, सूचना पर पहुंची पुलिस ने सभी शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। बताया जा रहा है कि इनमें तीन लोगों की तो अस्पताल ले जाते समय एक्सीडेंट से मौत हो गई। यह घटना बरसठी थाना क्षेत्र के सरसरा गांव की है।

यह है पूरा मामला

बरसठी थाना क्षेत्र सरसरा गांव निवासी नन्हकू सरोज के पड़ोसी ने दो दिन पहले नई दीवार खड़ी की थी। इसी के ठीक बगल में अपनी भी नई दीवार खड़ी करने के लिए नन्हकू के परिवार के लोग नींव की खुदाई कर रहे थे। आज दोपहर में अचानक से नवनिर्मित दीवार ढह गई। मलबे में दबने से नन्हकू के पुत्र अखिलेश उर्फ बऊ (20), बेटी कपूरा देवी (35) और खुदाई में लगा मजदूर पंकज बिंद (19) जख्मी हो गए। 

अस्पताल में दो ने तोड़ा दम
आनन-फानन में मलबा हटाकर गंभीर रूप से जख्मी अखिलेश और पंकज को नजदीकी अस्पताल पहुंचाया। जहां चिकित्सक ने पंकज को मृत घोषित कर दिया। वहीं, अखिलेश की हालत गंभीर देख परिजन भदोही ले गए, लेकिन उपचार के दौरान उसकी भी मौत हो गई।

इस तरह तीन लोगों की गई जान
इधर इस लक्ष्मण उर्फ लक्ष्मीशंकर (30) पुत्र शीतला प्रसाद अपने बहन कपूरा और ऊषा देवी (32) को बाइक से जिला अस्पताल ले जा जा रहा था।  मियांचक के पास उनकी बाइक विपरीत दिशा से आ रही राशन लदी पिकअप की चपेट में आ गई।