Asianet News HindiAsianet News Hindi

बाढ़ का पानी भी न डिगा सका यूपी पुलिस का जज्बा, घुटने बराबर पानी में खड़े होकर गाया राष्ट्रगान

राष्ट्र प्रेम किसी भी समाज या संगठन के लिए उतना ही आवश्यक है जितना कि उसका खुद का आत्मसम्मान। उत्तर प्रदेश पुलिस ने राष्ट्र प्रेम का अप्रतिम उदाहरण पेश किया है। 

Flood water could not change the spirit of UP Police singing national anthem standing in knee water kpl
Author
Bahraich, First Published Aug 15, 2020, 6:53 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

बहराइच(Uttar Pradesh). राष्ट्र प्रेम किसी भी समाज या संगठन के लिए उतना ही आवश्यक है जितना कि उसका खुद का आत्मसम्मान। उत्तर प्रदेश पुलिस ने राष्ट्र प्रेम का अप्रतिम उदाहरण पेश किया है। यूपी के बहराइच जिले की पुलिस के हौसले को बाढ़ का पानी भी न डिगा सका और पुलिस टीम ने घुटनों पर पानी में खड़े होकर देश के 74वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर तिरंगे को सलामी दी। बहराइच जिले के बौंडी थाना क्षेत्र में बाढ़ के पानी में खड़े होकर पुलिसकर्मियों ने राष्ट्रगान गाते हुए झंडा फहराया।

इन दिनों भारी बारिश के चलते बहराइच में नदियां उफान पर हैं. बहराइच का बौंडी थाना पानी में डूबा हुआ है। चारों तरफ पानी ही पानी नजर आ रहा है। इसके बावजूद इस थाने में तैनात समस्त पुलिसकर्मी अपने सभी दायित्वों का बड़े ही अच्छे ढंग से निर्वहन कर रहे हैं। बहराइच के बौंडी थाना प्रांगण में 20-25 कर्मियों ने राष्ट्रभक्ति व जज्बा दिखाते हुए भीषण बाढ़ में थाना परिसर में तिरंगा फहराकर सलामी दी। यहां घुटने तक भरे बाढ़ के पानी में ही खड़े होकर प्रभारी निरीक्षक थाना बौंडी सुभाषचंद्र सिंह के अगुवाई में तिरंगा फहराया गया। उसके बाद तिरंगे को सलामी दी गई ।

Flood water could not change the spirit of UP Police singing national anthem standing in knee water kpl

एसओ बोले तिरंगे की आन-बान और शान का जिम्मा हम सभी का 
बौडी थाने के प्रभारी निरीक्षक सुभाषचंद्र सिंह ने बताया कि घाघरा नदी के बाढ़ की वजह से थाना परिसर में दो फीट पानी भरा हुआ है। बावजूद इसके समस्त पुलिसकर्मी  ने स्वतंत्रता दिवस के पर्व पर पूरे सम्मान के साथ तिरंगा फहराया गया। तिरंगे की शान के लिए लाखों स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों ने अपने प्राणों की आहुति दे डाली थी तब जाकर के हमको आजादी का यह समय मिला। ऐसे में तिरंगे की आन बान शान की जिम्मेदारी हम सभी के पास है।

महिला आरक्षी बोली गले तक होता पानी तब भी करते राष्ट्रगान 
महिला आरक्षी अर्चना यादव ने मीडिया को बताया कि यहां तो घुटनों तक पानी था, अगर गले तक पानी होता तब भी हम तिरंगे के सम्मान में जान की परवाह न करते हुए ध्वजारोहण करते। महिला आरक्षी सोनी ने बताया सियाचिन पर माइनस डिग्री सेल्सियस में भी हमारे जवान तिरंगे को फहराते हैं और सलामी देते हैं। देश की सीमाओं पर हमारे जवान तिरंगे के सम्मान के लिए अपनी जान गवा देते हैं। हमें उनसे प्रेरणा मिलती है। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios