लखनऊ (Uttar Pradesh) । सरकार ने एक और बड़ा फैसला लिया है। जिसके तहत प्रदेश के एक करोड़ 80 लाख छात्र-छात्राओं और उनके अभिभावकों को बड़ी राहत मिलेगी, क्योंकि कोरोना और लॉकडाउन के कारण जितने दिन उनके स्कूल बंद हैं उतने दिन के मिड डे मील का राशन उनके घर उपलब्ध कराया जाएगा। इतना ही नहीं मिड डे मील की कन्वर्शन कॉस्ट यानी उसे पकाने का खर्च भी दिया जाएगा। 

गर्मी की छुट्टियों में भी मिलेगा मिड डे मील
केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने इसे लेकर सभी राज्यों के शिक्षा मंत्रियों साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग की थी। जिसमें उन्होंने कहा है कि केंद्र सरकार गर्मी की छुट्टियों में भी मिड डे मील देने की व्यवस्था कर रही है। ऐसा होने पर गर्मी की छुट्टियों में भी छात्र छात्राओं को मिड डे मील योजना का लाभ मिलेगा।

इस तरह दिया जाएगा लाभ
योजना के तहत कोरोना के चलते जितने दिन स्कूल बंद हैं उतने दिन के लिए प्रति छात्र उसको दिए जाने वाले राशन का हिसाब लगाया जाएगा। इसके बाद प्रति छात्र उसके हिस्से में जितना राशन बनता है वो उसे उपलब्ध कराया जाएगा। साथ में खाना पकाने के लिए एक छात्र पर जो भी खर्च होता है वो रकम भी छुट्टियों के दिन के हिसाब से उनको दी जाएगी। इसके लिए स्कूल खुलने पर अभिभावकों के बैंक खाता नंबर लिए जाएंगे और उनके खाते में पैसा भेजा जाएगा।

(प्रतीकात्मक फोटो)