Asianet News HindiAsianet News Hindi

कन्नौज की मासूम को 72 घंटे बाद भी नहीं आया होश, पिता का छलका दर्द, कहा- चंदे के पैसों से है इलाज का सहारा

यूपी के कन्नौज में 12 साल की बच्ची खून से सथपथ हालत में मिली थी। घटना के 48 घंटे बाद भी पुलिस के हाथ खाली हैं। पुलिस को साक्ष्य के तौर पर सीसीटीवी फुटेज मिला है। इस फुटेज में जो युवक बच्ची के साथ दिख रहा है। उसे परिजनों ने पहचानने से इंकार कर दिया है। 

Kannaujs innocent did not regain consciousness even after 72 hours fathers pain spilled said money is support of treatment
Author
First Published Oct 26, 2022, 11:57 AM IST

कन्नौज: उत्तर प्रदेश के कन्नौज जिले में बीते रविवार को डाक बंगला गेस्ट हाउस के पीछे एक 12 साल की बच्ची खून से लथपथ हालत में पड़ी मिली थी। वहीं इस वारदात को 48 घंटे बीत चुके हैं, लेकिन पुलिस अभी तक आरोपी को नहीं पकड़ पाई है। बता दें कि पुलिस के हाथ सबूत के तौर पर एक सीसीटीवी फुटेज मिला है। इसी साक्ष्य के आधार पर आरोपी की तलाश की जा रही है। पीड़िता के माता-पिता का आरोप कि उनकी बेटी के साथ गलत काम करने की कोशिश की गई है। उनका कहना है कि जिसने भी उनकी बेटी का ये हाल किया है, पुलिस उसे जिंदा या मुर्दा पकड़ ले। पीड़िता कानपुर के रीजेंसी अस्पताल के ICU में पिछले दो दिनों से भर्ती है। लेकिन उसे अभी तक होश नहीं आया है। 

बेटी के इलाज के लिए नहीं हैं रुपए
पीड़िता के पिता ने कहा कि इस समय वह बहुत ज्यादा परेशान हैं। उनके पास बेटी का इलाज करने तक के रुपए नहीं हैं। उन्होंने बताया कि कुछ चंदा मिला है, उसी से वह अपनी बेटी का इलाज करवा रहे हैं। पीड़िता के माता-पिता और पूर परिवार उसके जल्दी स्वस्थ होने की कामना कर रहा है। बच्ची की मां ने बताया कि अभी भी पीड़िता की हालत गंभीर बनी हुई है। उनका कहना है कि आरोपियों ने उनकी बेटी के साथ दुष्कर्म करने का प्रयास किया है। इसके बाद हत्या करने के लिए उस पर हमला किया है। आरोपी बच्ची को मरा हुआ समझकर उसे वहां पर छोड़ कर फरार हो गए। पीड़िता की मां ने कहा कि आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए।

शासन-प्रशासन से की मदद की गुहार
बच्ची को बदनीयती से अगवा किया गया। इसके बाद पहचान खुलने के डर से आरोपियों ने उसके सिर पर ईट से हमला कर हत्या करने की कोशिश की। पीड़िता के पिता ने बताया कि वह आर्थिक रूप से काफी कमजोर हैं। बच्ची के इलाज के लिए उनके पास रुपए भी नहीं हैं। उन्होंने कहा कि 2 दिन में ढाईं लाख रुपए खर्च हो गया है। बच्ची के पिता का कहना है कि अगर शासन और प्रशासन उनकी बेटी के इलाज में मदद नहीं करेगी तो उसका इलाज कराना और जान बचाना मुश्किल हो जाएगा। बता दें कि 23 अक्टूबर को कुछ लोगों ने इलाके बच्ची को दर्द से कराहते हुए देखा था। जिसके बाद मामले की सूचना पुलिस को दी गई थी। पीड़िता की हालत गंभीर होने के बाद उसे हैलट अस्पताल रेफर कर दिया गया था। 

आरोपी की पहचान में जुटी पुलिस 
वहीं हैलट अस्पताल में बेहतर इलाज नहीं मिल पाने के कारण पीड़िता तो रीजेंसी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पुलिस के हाथ साक्ष्य के तौर पर जो सीसीटीव फुटेज मिला है उसमें बच्ची एक युवक के साथ बातें करती हुई जाती दिखाई दे रही है। फुटेज मिलते ही पुलिस आरोपी की पहचान करने में जुट गई है। बच्ची के परिजनों को भी वह सीसीटीवी फुटेज दिखाया गया है। परिजनों का कहना है कि वीडियो में दिख रहे युवक को उन्होंने पहले कभी नहीं देखा है। वहीं स्थानीय लोग भी युवक को पहचानने से इंकार कर रहे हैं। 

मर गई इंसानियत! खून से लथपथ लड़की मदद के लिए गिड़गिड़ाती रही, पास में खड़े लोग बनाते रहे VIDEO

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios