Asianet News HindiAsianet News Hindi

यूपी समेत 12 राज्यों की 'बत्ती गुल' जानिए आखिर क्यों कोयले की कमी से पड़ रहा है जूझना

भीषण गर्मी के चलते राज्य में बिजली की खपत बढ़ती जा रही है। जिसकी वजह से बिजली की कटौती की जा रही है। कोयले की कमी यूपी समेत 12 राज्यों में बिजली कटौती की जा रही है। वहीं प्रदेश में कुल 3400 मेगावट बिजली की कमी है। 

Know the Batti Gul of 12 states including Uttar Pradesh why is battling with shortage of coal
Author
Lucknow, First Published Apr 30, 2022, 4:25 PM IST

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में गर्मी बढ़ने के साथ ही राज्य में बिजली की खपत बढ़ती जा रही है। जिसकी वजह से प्रदेश में कई घंटों तक बिजली की कटौती की जा रही है। कोयले की कमी से यूपी समेत 12 राज्यों में बिजली की कटौती हो रही है। कोयले की कमी और गर्मी के कारण बढ़ती मांग से बिजली का संकट समय के साथ गहराता जा रहा है। 

प्लांटों में इतने टन ही बचा कोयला
देश के 18 राज्यों में 12-12 घंटे बिजली कटौती हो रही। उत्तर प्रदेश के अनपरा विद्युत उत्पादन केंद्र में 6 दिन का कोयला बचा है। अनपरा पावर प्लांट में रोजाना 40,000 टन कोयले की जरूरत होती है। शुक्रवार को 32000 टन कोयले की सप्लाई हुई। वहीं ओबरा विद्युत उत्पादन केंद्र में रोजाना 12,500 टन कोयले की जरूरत होती है लेकिन 7900 टन कोयला ही मिला। यहां पर मात्र चार दिन के लिए कोयला बचा हुआ है। 

हरदुआगंज प्लांट में भी सिर्फ 4 दिन का ही कोयला बचा है। यहां रोजाना 19000 मीट्रिक टन की जरूरत के मुकाबले 3800 टन कोयला सप्लाई हुआ। ऐसे ही पारीक्षा पावर प्लांट में सिर्फ एक दिन का कोयला बचा है। पारीछा पावर प्लांट में 15500 टन कोयले की रोजाना जरूरत है। इसके मुकाबले 15000 टन कोयला ही सप्लाई हुआ। 

राज्य में इतने घंटे हो रही बिलजी कटौती
उत्तर प्रदेश में 22 हजार मेगावाट बिजली की प्रतिदिन मांग है। फिलहाल यूपी में 18600 मेगावाट बिजली की सप्लाई हो रही है। राज्य में अभी कुल 3400 मेगावाट बिजली की कमी है। यूपी के ग्रामीण इलाकों में करीब आठ घंटे की बिजली कटौती जारी है। नगर पंचायतों में भी आठ से 15 घंटे की कटौती जारी है। तो वहीं तहसीलों में 7 घंटे की बिजली कटौती हो रही है।

ऊर्जा मंत्री ने कटौती को लेकर किया दावा
बिजली कटौती से यूपी के लोगों को 1 मई से कुछ राहत मिल सकती है। ऊर्जा मंत्री अरविंद कुमार शर्मा ने कहा है कि 1 मई से 2,000 मेगावॉट अतिरिक्त बिजली का इंतजाम किया गया है। इसमें सिक्किम और हिमाचल प्रदेश से 400 मेगावॉट हाइड्रो पावर ली जाएगी। इसके साथ ही 325 मेगावॉट विद्युत मध्यप्रदेश और 283 मेगावॉट बिजली राजस्थान से मिलने की संभावना है। इसी तरह बिडिंग के जरिए भी 430 से 950 मेगावॉट बिजली की व्यवस्था की जा रही है। ऊर्जा मंत्री ने बताया कि शुक्रवार को केंद्रीय सेक्टर से 332 मेगावॉट, परीक्षा से 118 मेगावॉट और अन्य स्त्रोतों से 331 मेगावॉट बिजली की उपलब्धता बढ़ सकती है। तो वहीं पावर कॉरपोरेशन के अध्यक्ष एम देवराज का कहना है कि बिजली संकट से निपटने के हर संभव प्रयास किए जा रहे है।

भीषण गर्मी के बीच टूटा कई साल पुराना रिकॉर्ड, पहली बार 45 डिग्री सेल्सियस के पार हुआ लखनऊ का तापमान

सहारनपुर को सुरक्षित ठिकाना समझते हैं बांग्लादेशी, स्थानीय पुलिस से लेकर खुफिया विभाग तक को नहीं लगती है भनक

आजम खान के खिलाफ जया प्रदा की याचिका को इलाहाबाद हाईकोर्ट ने किया खारिज, जानिए क्या था पूरा मामला

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios