Asianet News HindiAsianet News Hindi

कुशीनगर मस्जिद में विस्फोटक रखने वाला मुख्य आरोपी गिरफ्तार, पूरे जिले के धार्मिक स्थानों की जांच शुरू

कुशीनगर जिले के तुर्कपट्टी थाने के गांव बैरागीपट्टी स्थित मस्जिद में बारूद विस्फोट के बाद पुलिस हाई अलर्ट पर है। पुलिस ने मामले के मास्टरमाइंड कुबुद्दीन को गोरखपुर से गिरफ्तार कर लिया है और उससे पूछताछ शुरू कर दी है

kushinagar mosque blast accused arrested by police
Author
Kushinagar, First Published Nov 15, 2019, 3:04 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

गोरखपुर(Uttar Pradesh ).  कुशीनगर जिले के तुर्कपट्टी थाने के गांव बैरागीपट्टी स्थित मस्जिद में बारूद विस्फोट के बाद पुलिस हाई अलर्ट पर है। पुलिस ने मामले के मास्टरमाइंड कुबुद्दीन को गोरखपुर से गिरफ्तार कर लिया है और उससे पूछताछ शुरू कर दी है। इसके अलावा पुलिस ने पूरे जिले के धार्मिक स्थानों को खंगालना शुरू कर दिया है। इसके लिए पुलिस मंदिर-मस्जिदों सभी की सघन जांच कर रही है। 

क्या है पूरा मामला
11 नवंबर को कुशीनगर के तुर्कपट्टी थाना क्षेत्र के बैरागी पट्टी गांव में स्थित मस्जिद में अचानक तेज धमाका हुआ था। विस्फोट इतना तेज था कि मस्जिद के खिड़की-दरवाजे टूट गए थे। और दीवारों में दरारें पड़ गईं थीं। धमाके के बाद मस्जिद के मौलाना अजमुद्दीन ने कहा था कि इन्वर्टर की बैट्री फटने से विस्फोट हुआ। डाग स्क्वायड और फारेंसिक टीम को भी जांच के लिए बुलाया गया था। लेकिन जांच के बाद ये पता चला कि मस्जिद में लो ग्रेड का विस्फोटक रखा गया था जिसके कारण ये विस्फोट हुआ है। मामले में गांव के ही रहने वाले पीडब्ल्यूडी विभाग से रिटायर्ड लिपिक कुतबुद्दीन का नाम सामने आया था। मामले में पुलिस ने मस्जिद के मौलवी सहित सात लोगों पर केस दर्ज किया था।  पुलिस ने मौलवी सहित चार लोगों को गिरफ्तार भी कर लिया है। पुलिस की गिरफ्त में आया मौलवी पश्चिम बंगाल का रहने वाला है। 

मामले के मास्टमाइंड कुतबुद्दीन की कुंडली खंगाल रही पुलिस 
विस्फोट के मामले में पुलिस हाजी कुतुबुद्दीन का नाम आने के बाद पुलिस उसे शिद्दत से तलाश रही थे। जिसे पुलिस ने गोरखपुर से गिरफ्तार कर लिया। 
 अब उसकी कुंडली खंगाली जा रही है। पुलिस के साथ ही खुफिया एजेंसियां उसकी सारी डिटेल जुटाने में जुटी हुई हैं। पूर्व उसके विरुद्ध दर्ज मुकदमों की फाइल भी नए सिरे से खोलने की तैयारी की जा रही है। मस्जिद में 11 नवंबर को हुए विस्फोट के मामले में  हाजी कुतुबुद्दीन के पोते अशफाक का नाम भी प्रकाश में आया है। मस्जिद में बारूद की खेप पहुंचाने में इन दोनों की भूमिका सामने आने के बाद से ही पुलिस और खुफिया एजेंसियों ने उनके बारे में अधिक से अधिक जानकारी जुटानी शुरू कर दी है। 

सामाजिक सौहार्द बिगाड़ने के आरोप में जा चुका है जेल 
हाजी कुतुबुद्दीन काफी समय से गांव में नहीं रहता था। वह परिवार के साथ मऊ में रहता था। लेकिन हर महीने दो से तीन बार वह गांव जरूर आता था। गांव में काफी पहले से वह बेहद विवादित व्यक्ति के रूप जाना जाता था। तुर्कपट्टी थाने में उसके विरुद्ध चार मुकदमें भी दर्ज हैं। इनमें से तीन मुकदमे दूसरे समुदाय लोगों से धार्मिक आधार पर विवाद करने से जुड़े हैं। जिसमे व जेल भी जा चुका है। 

आधा दर्जन मस्जिदों की हुई जांच
कुशीनगर के पुलिस अधीक्षक विनोद कुमार मिश्र ने कहा कि जिले में स्थित मंदिर व मस्जिदों के जांच-पड़ताल के निर्देश दिए गए हैं। नेबुआ नौरंगिया थाना क्षेत्र के पकडिय़ार बाजार, नेबुआ, बलकुडिय़ा आदि जगहों पर स्थित मस्जिदों की जांच पड़ताल की गई। ये जांच पूरे जिले में चलाई जा रही है। किसी भी प्रकार की लापरवाही न हो इसका पूरा ध्यान रखा जा रहा है। 
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios