Asianet News HindiAsianet News Hindi

फैक्ट्री बंद होने पर नहीं दी मजदूरी, पति के साथ भूखे ही 115 KM चली 8 माह की प्रेग्नेंट महिला, इस तरह पहुंची घर

कोरोना वायरस महामारी के प्रसार को रोकने के लिए तीन सप्ताह के लॉक डाउन ने लाखों प्रवासी मजदूरों को बेरोजगार कर दिया। इन मजदूरों को अपना अस्तित्व बचाए रखने के लिए पैदल अपने गांवों को जाने के लिए मजबूर होना पड़ा है। खुद को बनाए रखने के लिए किसी भी तरह की अनुपस्थिति में सैकड़ों किलोमीटर पैदल चलकर अपने गांवों में जाने के लिए मजबूर होना पड़ा।

No wages paid for factory closure, 8 KM pregnant woman went hungry with her husband, reached home like this asa
Author
Meerut, First Published Mar 30, 2020, 5:32 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

मेरठ (Uttar Pradesh) । कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए देशभर में लॉक डाउन किया गया है। फैक्ट्रियों को बंद करने वाले मालिक भी हाथ खड़े कर लिए हैं। इसके कारण मजदूरों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। जिसके कारण भूखे प्यासे मजदूरों को पलायन करने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है। ताजा मामला मेरठ में सामने आया है। जहां सहारनपुर में फैक्ट्री बंद होने के बाद आठ महीने की गर्भवती महिला और अपने पति के साथ बिना खाए, पीए ही अपने घर के लिए चल पड़े। 115 किलोमीटर से ज्यादा की यात्रा करने के बाद दंपति जब मेरठ पहुंचे तो वे बेहाल हो चुके थे। हालांकि यहां लोगों की नजर उनपर पड़ी तो लोगों ने आर्थिक सहायता और एम्बुलेंस की व्यवस्था कर घर बुलंदशहर भेजा।

यह है पूरा मामला
बुलंदशहर जिले के अमरगढ़ निवासी वकील सहारनपुर की एक फैक्ट्री में काम करता था। रहने के लिए कमरा भी दिया था। वकील अपनी पत्नी यास्मीन के साथ रहता था,जो गर्भवती है। आरोप है कि फैक्ट्री के मालिक ने लॉकडाउन की घोषणा के बाद उसने कमरा खाली करने के लिए कहा। साथ ही गांव जाने के लिए कोई भी पैसा देने से इनकार कर दिया।

बिना खाए पीए चले 115 किलोमीटर
पुलिस के मुताबिक यास्मीन ने बताया कि उनके पास कोई विकल्प नहीं बचा था। ऐसे में हम दोनों गुरूवार को सहारनपुर से अपने गांव पहुंचने के लिए पैदल ही चल पड़े। उसने बताया कि राजमार्ग के किनारे रेस्तरां, ढाबे बंद होने के कारण पिछले दो दिनों से उन्होंने अनाज का एक दाना नहीं खाया। 115 किलोमीटर से ज्यादा की यात्रा करने के बाद दंपति जब मेरठ के सोहराब गेट बस अड्डे पर पहुंचे तो बेहाल हो गए। 

मेरठ के लोगों ने दिल खोलकर की मदद
मेरठ निवासी नवीन कुमार और रवींद्र ने दंपति से बातचीत की और उनकी समस्या सुनी। इसके बाद नवीन और रवींद्र ने मेरठ के नौचंदी पुलिस स्टेशन के सब इंस्पेक्टर प्रेमपाल सिंह को सूचित किया। स्थानीय निवासियों ने दंपती को कुछ खाने और कुछ नगद राशि देने के अलावा एम्बुलेंस से उन्हें उनके गांव अमरगढ़ बुलंदशहर के सयाना छोड़ने की व्यवस्था की। 

पुलिस ने कही ये बातें
नौचंदी पुलिस स्टेशन के प्रभारी आशुतोष कुमार ने कहा कि वकील एक कारखाने में कार्यरत था। उसने दो दिनों में अपनी पत्नी के साथ 115 किमी की दूरी तय की।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios