Asianet News HindiAsianet News Hindi

6 घंटे में तैयार होता है यूपी की इस जेल का नंबर वन खाना, FSSAI ने दी 5 स्टार रेटिंग

भारतीय खाद्य सुरक्षा मानक प्राधिकरण ने फर्रुखाबाद की फतेहगढ़ जिला जेल में कैदियों को परोसे जाने वाले भोजन की गुणवत्ता के लिए फाइव स्टार रेटिंग जारी की है। फतेहगढ़ जेल यह अचीवमेंट पाने वाली यूपी की पहली जेल बन गई है।

number one food of this jail of UP is prepared in 6 hours FSSAI gave 5 star rating
Author
First Published Sep 2, 2022, 11:28 AM IST

फर्रुखाबाद: उत्तर प्रदेश के फर्रुखाबाद जिले की फतेहगढ़ जेल के खाने को 5 स्टार रेटिंग दी गई है। अक्सर ऐसा माना जाता है कि जेल में मिलने वाला खाना घटिया क्वालिटी का होता है। लेकिन जिला कारागार ने इस बात को पूरी तरह से नकार दिया है। खाने की गुणवत्ता में 5 स्टार पाकर फतेहगढ़ जेल यह अचीवमेंट पाने वाली यूपी की पहली जेल बन गई है। दरअसल, जिला कारागार फतेहगढ़ की रसोई में बने खाने को FSSAI की ओर से फाइव स्टार रेटिंग का सर्टिफिकेट भी दिया गया है।

जिला कारागार रसोई को आधुनिकता से किया लैस
फर्रुखाबाद के जिला कारागार की रसोई को आधुनिक बना दिया गया है। जेल में खाना बनाने के लिए कई आधुनिक मशीनों को लगाया गया है। जिस कारण यहां पर हाथ से खाना बनाने के बजाय मशीनों से खाना बनता है। खाद्य सुरक्षा विभाग की टीम ने जिला जेल फतेहगढ़ की रसोई में बन रहे खाने की गुणवत्ता की जांच की थी। जांच में पाया गया कि कैदियों को परोसा जाने वाला खाना अच्छी गुणवत्ता वाला है। जिसके बाद भोजन की गुणवत्ता के लिए पांच सितारा रेटिंग जारी किया है। 

जेल के खाने को मिली 5 स्टार रेटिंग
अधीक्षक बीएस मुकुंद के अनुसार, जिला जेल के लिए यह गौरव की बात है। यूपी में अभी तक केवल इस जेल को फाइव स्टार रेटिंग मिली है। पिछले दो साल कोरोना महामारी को देखते हुए फतेहगढ़ जिला जेल में नई रसोईघर का निर्माण करवाया गया था। करीब 1100 कैदियों के भोजन के लिए दो शिफ्टों में रसोई में खाना बना कर तैयार किया जाता है। खाना बनाने के लिे कैदियों की मदद ली जाती थी। जिसमें काफी समय लग जाता था। एक वक्त का भोजन तैयार करने के लिए कम से कम 50 कैदियों को जुटना पड़ता था। जेल प्रशासन द्वारा रसोई को आधुनिक बना दिया। जिला कारगार रसोई में दो रोटी मेकर मशीनें, सब्जी कटर और आंटा गूंथने वाली मशीने लगाी गई हैं।  

कम समय में तैयार होता है भोजन
जिला कारागार की रसोई को आधुनिक बनाने के बाद खाना बनाने में भी कम समय लगता है और समय पर खाना भी बनकर तैयार हो जाता है। मशीनों द्वारा खाना बनने पर काम भी कम हो गया है। साथ ही जेल में बंद कैदियों को समय से अच्छी गुणवत्ता वाला भोजन भी मिल रहा है। जेल अफसरों ने बताया कि इतने लोगों की रसोई तैयार करने में करीब छह घंटे का समय लगता है। 5 स्टार रेटिंग मिलने पर डीजी जेल आनंद कुमार ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट कर फतेहगढ़ जेल में तैनात अधिकारियों को बधाई दी।

नशे की हालत में झूमते हुए विद्यालय पहुंचे मास्टर साहब, कपड़े उतारकर बरामदे में की ऐसी हरकत, वीडियो हुआ वायरल

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios