बरेली.  कोरोना (Corona Virus) महामारी के खिलाफ जंग में केंद्र सहित सभी राज्य सरकारें युद्ध स्तर पर जुटी हैं। वहीं दूसरी ओर कुछ वर्ग विशेष के लोग जांच में सहयोग नहीं कर रहे हैं इतना ही नहीं कोरोना से लोगों को बचाने में लगे स्वास्थ्यकर्मियों, पुलिस टीम के साथ बदसलूकी भी कर रहे हैं। ताजा मामला उत्तर प्रदेश के बरेली (Bareilly) का है जहां सर्वै करने गई नर्स पर हमला बोल दिया।  नर्स ने किसी तरह भागकर अपनी जान बचाई। आरोपियों की संख्या 20-5 बताई जा रही है।

बता दें कि इससे पहले मुरादाबाद में मेडिकल टीम पर हमले का ऐसा ही मामला सामने आया था जहां डॉक्टरों समेत कई पुलिसकर्मी घायल हो गए थे। इस हमले के बाद से हेल्थ वर्कर्स को लेकर लोगों की चिंताएं भी बढ़ गई हैं। 

अब फतेहगंज पूर्वी के नवीन प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर तैनात एएनएम मधु चंद्रा सर्वे के लिए ऊंचा फरीदपुर में पहुंची। एएनएम का आरोप है कि वहां रहने वाले तीन परिवार पहले तो अपना नाम और पता बताने में आनाकानी करने लगे। बहुत समझाने पर मनाने और नाम पता बताने पर राजी हो गए।

जैसे ही एएनएम जानकारी लेने के बाद मुहल्‍ले की गली से बाहर निकली तभी उन्‍हें मुहल्‍ले के बाहर भीड की शक्‍ल में एकत्रित हुए लोगों ने रोक लिया और उनसे पूछा कि वह किस हक से मुहल्‍ले में आई है, आई कार्ड भी मांगा। आरोप है कि आई कार्ड दिखाने के बाद लोगों ने उनके हाथ से रजिस्टर छीन लिया और मोबाइल भी झपट लिया। वह किसी तरह वहां से भाग निकली।

एएनएम ने उच्च अधिकारियों को घटना की जानकारी दी। फरीदपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के चिकित्सा अधीक्षक डॉक्टर वासित अली मौके पर पहुंचे। लोगों से जानकारी लेकर रिपोर्ट अफसरों को दी। इसके बाद विभाग की ओर से कुछ अज्ञात लोगों के खिलाफ फरीदपुर थाना कोतवाली में शिकायत दर्ज कराई गई है। घटना अंजाम देने के संदेह में पुलिस ने कुछ लोगों को हिरासत में लिया है, जिन्हें संविदा एएनएम के सामने पेश किया गया, ताकि आरोपितों की शिनाख्त हो सके। पुलिस मामले की जांच में जुटी है।