पिता-चाचा और दादा ने की बेटी की हत्या, दुश्मन को फंसाने के लिए मारे इतने चाकू कि मासूम की आंते निकल आईं बाहर

| Dec 05 2022, 05:00 PM IST

पिता-चाचा और दादा ने की बेटी की हत्या, दुश्मन को फंसाने के लिए मारे इतने चाकू कि मासूम की आंते निकल आईं बाहर

सार

यूपी के पीलीभीत में 10 साल की मासूम की हत्या उसके अपने पिता, चाचा और दादा ने मिलकर की थी। गांव के एक युवक को फंसाने के लिए परिवार के सदस्यों ने अपने घर की मासूम बच्ची की चाकू से हमला कर मौत के घाट उतार दिया था।

पीलीभीत: उत्तर प्रदेश के पीलीभीत जिले में 10 साल की मासूम बच्ची की हत्या कर दी गई थी। आरोपियों का नाम बताने से पहले उसकी मौत हो गई थी। बता दें कि अब पुलिस ने इस मामले का खुलासा कर दिया है। पुलिस ने बताया कि दुश्मन को फंसाने के लिए उसके अपने पिता, चाचा और दादा ने मिलकर मासूम बच्ची की हत्या कर दी। वहीं पुलिस को गुमराह करने के लिए उन्होंने गांव को ही एक युवक पर इसका इल्जाम डाल दिया। जब पुलिस ने मामले की जांच शुरू की तो मामला कुछ औऱ ही निकला। पुलिस ने बताया कि बच्ची ने अपने घरवालों के सामने ही दम तोड़ा था। मासूम के घरवाले उसे इलाज के लिए अस्पताल ले जाने के बजाय उसे तड़पता हुआ देखते रहे और मोबाइल पर वीडियो बनाकर आरोपियों का नाम पूछते रहे। 

पुलिस ने पांचों आरोपियों को किया गिरफ्तार
बताया जा रहा है कि करीब आधे घंटे बाद जब बच्ची की मौत हो गई तब पुलिस को मामले की जानकारी दी गई थी। बता दें कि 10 साल की मासूम अनम गन्ने के खेत में अधमरी हालत में पड़ी मिली थी। अनम के चाचा शादाब ने पुलिस को बताया था कि वह शुक्रवार को बच्ची को मेला दिखाने के लिए ले गए थे। कुछ देर घुमाने के बाद बच्ची संदिग्ध तरीके से एक दुकान के पास से लापता हो गई थी। वहीं मरने से पहले अनम का वीडियो भी सामने आया था। जिसमें वह कुछ बोलने की कोशिश कर रही थी। लेकिन वह कुछ बोल पाती इससे पहले उसकी मौत हो गई थी। मृतक अनम के पिचा अनीस ने गांव निवासी युवक शकील पर पुरानी रंजिश के चलते हत्या का आरोप लगाया था। SP दिनेश पी ने बताया कि बच्ची के पिता अनीस और दादा शहजादे व चाचा सलीम, नसीम और शादाब को गिरफ्तार कर लिया गया है।

Subscribe to get breaking news alerts

आरोपियों ने ऐसे दिया घटना को अंजाम
बच्ची के चाचा शादाब ने शकील नामक युवक के खिलाफ दुष्कर्म का मामला दर्ज कराया था। पुलिस ने बताया कि शकील को फंसाने के लिये शादाब और सलीम ने अपनी ही बेटी की हत्या की साजिश रच डाली। पुलिस अधीक्षक दिनेश पी ने मामले का खुलासा करते हुए कहा कि बच्ची के दादा ने जगह का चुनाव किया था। वहीं पिता अनीस और बाकी आरोपियों ने मिलकर घटना को अंजाम दिया था। बच्ची को मेला घुमाने के बहाने शादाब उसे बाहर लेकर गया। इसके बाद गांव के बाहर पराली में बच्ची को नींद की गोली देकर सुला दिया। इसके बाद मौका पाकर चाचा, पिता और दादा सुबह 4 बजे बच्ची को सोते हुए ही बाग से उठा ले गए। इसके बाद नींद में ही मासूम के पेट में चाकू से ताबड़तोड़ इतने वार किए कि उसकी आंते बाहर निकल आई। हत्या के बाद बच्ची अनम को शकील के खेत में फेंक दिया।

गांव के युवक को फंसाने के लिए की बेटी की हत्या
पुलिस ने बताया कि शकील को फंसाने के लिए खेत में अनम को मरा समझकर छोड़ आए। इसके बाद बच्ची को खोजने का नाटक करने लगे। जब बच्ची बरामद हुई तो लोग परिवार से उसे फौरन अस्पताल ले जाने की बात बोलते रहे, लेकिन आरोपी उसे अनसुना कर कातिल का नाम पूछते रहे। पुलिस के अनुसार, बच्ची के चाचा शादाब ने शकील के परिवार की एक लड़की से ही कुछ समय पहले लव मैरिज की थी। जहां शादाब फकीर समुदाय से आता है तो वहीं शकील अंसारी समाज का है। लव मैरिज के बाद से ही दोनों परिवार के बीच विवाद की जड़ पनप रही थी। वहीं साल 2019 में शकील की पत्नी ने शादाब पर दुष्कर्म का केस करवाया था। इसी का बदला लेने के लिए शादाब लंबे समय से प्लानिंग कर रहा था। पुलिस ने हत्या में उपयोग किए जाने वाले चाकू को भी बरामद कर लिया है।

पीलीभीत में शादी से पहले प्रेमी जोड़े ने लगाई फांसी, लड़के के परिजनों ने घटना को बताया ऑनर किलिंग