Asianet News Hindi

फोन कर अधिकारियों पर रौब ग़ालिब करता था 'अनपढ़ IPS', एक झटके में उतर गया सारा भूत

हाईस्कूल की परीक्षा दो बार फेल होने के बाद पढ़ाई छोड़ने वाले ट्रक चालक व उसके अनपढ़ चाचा ने अधिकारियों पर रौब ग़ालिब करने का अनोखा तरीका निकाला। ट्रक चालक अपने अनपढ़ चाचा के साथ फर्जी आइपीएस बनकर ठगी करने लगा

police arrested two fake ips officer kpl
Author
Prayagraj, First Published May 26, 2020, 2:41 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

प्रयागराज(Uttar Pradesh). यूपी के प्रयागराज से पुलिस ने दो जालसाजों को गिरफ्तार किया है। हाईस्कूल की परीक्षा दो बार फेल होने के बाद पढ़ाई छोड़ने वाले ट्रक चालक व उसके अनपढ़ चाचा ने अधिकारियों पर रौब ग़ालिब करने का अनोखा तरीका निकाला। ट्रक चालक अपने अनपढ़ चाचा के साथ फर्जी आइपीएस बनकर ठगी करने लगा। हालांकि जल्‍दी ही उनकी पोल खुल गई। कई पुलिस अधिकारियों को फोन करने पर पुलिस उनके पीछे लग गई। जालसाज चाचा-भतीजा को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया।

पुलिस ने बताया कि पकडे गए जालसाज नवाबगंज के टिकरा पियरी उर्फ बिजलीपुर गांव के रहने वाले सिद्धार्थ पांडेय और उसके चाचा भाष्कर पांडेय है। ये लोगों से उनका काम कराने के बदले पैसे लेते थे और फिर फर्जी IPS अफसर बनकर रौब दिखाते थे। लोगों से मुकदमे आदि की पैरवी कराने के नाम पैसे लेना और फिर पुलिस थानों में IPS बनकर फोन करना इनका इनका पेशा था। 

ADG मुकुल गोयल के नाम से बनाई थी फर्जी आईडी 
दोनों जालसाजों ने IPS की फर्जी आईडी कार्ड भी बनवा लिया था। पकड़े गए जालसाज के पास से एक आईडी कार्ड बरामद हुआ है उस पर लिखा हुआ है ADG मुकुल गोयल। दोनों के पास से कई अलग-अलग नामों से फर्जी आईडी कार्ड बरामद हुए हैं। लोगों को अपने जाल में फंसाकर ये आईडी कार्ड दिखाकर ही उन्हें अपना शिकार बनाते थे। आईडी कार्ड को देखकर ही भोले-भाले लोग इनके जाल में फंस जाते थे। 

SSP को फोन कर की थी पैरवी 
पिछले एक महीने में एसएसपी प्रयागराज समेत कई अधिकारियों को फोन कर खुद को एडीजी या आइजी बताकर कभी किसी को छोडऩे की सिफारिश की गई तो कभी किसी मुकदमे में फाइनल रिपोर्ट लगाने या एफआइआर दर्ज करने के लिए कहा। फोन करने वाले की आवाज से ही पकड़ में आ जाता कि वह एडीजी या आइजी नहीं बल्कि कोई जालसाज है। दूसरे जिलों के एसपी के नाम से भी नवाबगंज और सोरांव समेत कई थाना प्रभारियों तथा सीओ को फोन किए गए थे। पुलिस ने जांच की तो मोबाइल नंबर फर्जी आइडी पर लिए गए थे।

पुलिस ने बिछाया जाल और फंस गए जालसाज 
जालसाजों से परेशान पुलिस लगातार इनके नम्बरों को ट्रेस करने में लगी हुई थी। हर बार उन्हें लोकेशन प्रयागराज के नवाबगंज थाना क्षेत्र ही मिलती थी। एसओजी और स्थानीय पुलिस ने उसी क्षेत्र में जाल बिछाया। पुलिस के जाल में दोनों चाचा भतीजे फंस गए। सोमवार दोपहर एसओजी ने पुलिस के साथ घेरकर दो लोगों को हाइवे पर पकड़ लिया जबकि एक भाग निकला। पकड़े गए दोनों लोगों को लालगोपालगंज चौकी ले जाकर तलाशी ली गई तो आइपीएस की दो फर्जी आइडी और पांच सिम व एक मोबाइल मिला। सिम फर्जी आइडी से लिए गए थे। फरार तीसरा जालसाज लव पांडेय प्रतापगढ़ में बाघराय इलाके में दुबेपुर गांव का रहने वाला है। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios