Asianet News HindiAsianet News Hindi

अकेले दम पर चुनाव लड़ेगी जनसत्ता दल लोकतांत्रिक पार्टी, दलबदल को लेकर राजा भैया ने कही यह बात

जनसत्ता दल लोकतांत्रिक पार्टी यूपी विधानसभा चुनाव अकेले दम पर लडे़गी। राजभैया ने साफ कर दिया है कि हम अपने प्रत्याशी के दम पर चुनाव लड़ेंगे। किसी भी दल के साथ हमारा अभी कोई गठबंधन नहीं है। 

raja bhaiya party jansatta dal loktantrik up election alliance
Author
Pratapgarh, First Published Jan 21, 2022, 6:23 PM IST

प्रतापगढ़: जनसत्ता दल लोकतांत्रिक पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष व कुंडा के बाहुबली विधायक रघुराज प्रताप उर्फ राजा भैया ने गठबंधन को लेकर पहली बार बड़ा बयान दिया है। राजा भैया ने साफ किया है कि उनकी पार्टी अकेले अपने दम पर 2022 विधानसभा चुनाव लड़ेगी। जनसत्ता दल के प्रत्याशी के दम पर हम चुनाव लड़ेंगे। वही किसी भी पार्टी से गठबंधन को लेकर महीनों से चल रहे कयास को राजा भैया ने सिरे से खारिज कर दिया है। 
इस बयान से साफ हो गया कि अब राजा भैया की पार्टी का सपा,भाजपा से गठबंधन नही होगा। वही राजा भैया के इस ऐलान के बाद राजनीतिक गलियारों में सियासत गर्म हो गयी है। मीडिया से बात करते हुए राजा भैया ने कहा कि जिस भी विधानसभा क्षेत्र में अच्छे और मजबूत प्रत्याशी है वही जनसत्ता दल प्रत्याशी उतार रही है। अभी तक सिर्फ 17 सीटों पर जनसत्ता दल प्रत्याशी घोषित किये है और कई प्रत्याशी पर अभी मंथन पार्टी में चल रहा है,जितने अच्छे प्रत्याशी मिलते जा रहे है वहां के पार्टी पदाधिकारियों और जनता से राय लेकर प्रत्याशी घोषित होगा। वही राजा भैया ने कितने कुल सीटें पर चुनाव पार्टी के लड़ने के सवाल पर कहा कि अभी पार्टी कितने सीटें पर प्रत्याशी उतारेगी ये कह पाना संभव नहीं है,जिस दिन आखिरी प्रत्याशी घोषित होगा उस दिन हम सीटे की पूरी संख्या बताएंगे। 

स्वामी प्रसाद मौर्य,अपर्णा यादव के दलबदल के मुद्दे पर राजा भैया ने दी प्रतिक्रिया
राजा भैया ने दलबदल की राजनीति पर निशाना साधते हुए कहा की बड़े सौभाग्य से जनता के आशीर्वाद से विधानसभा की सदस्यता मिलती है। भाग्य और प्रबल हो तो सत्ता पक्ष में आते है,भाग्य थोड़ा और अच्छा होता है तो मंत्री बनते है। मंत्री के नाते प्रदेश की जनता के लिए अधिक से अधिक सेवा करना चाहिए। चुनाव के समय बड़ी संख्या में लोग दलबदल करते है,पार्टी बदलने वाले एक लाइन ही बोलते है पार्टी अपने सिद्धांतों से भटक गई है मुझको घुटन होने लगी है,अब यहां आकर खुली हवा में सांस ले रहा हूं। जब जब चुनाव होता है तब तब दलबदल के दौर चलता है,जिसकी विचार जिस पार्टी में मिले वो वहां जा सकता है।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios