रामपुर सीट में 70 सालों में नहीं रहा कोई हिंदू विधायक, मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्र में आकाश सक्सेना ने बनाई पहचान

| Dec 09 2022, 06:10 PM IST

रामपुर सीट में 70 सालों में नहीं रहा कोई हिंदू विधायक, मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्र में आकाश सक्सेना ने बनाई पहचान

सार

यूपी के रामपुर सीट में पिछले 70 सालों में कोई हिंदु विधायक नहीं रहा। ऐसा पहली बार हुआ है कि बीजेपी के उम्मीदवार आकाश सक्सेना ने मुस्लिम बाहुल्य इलाके में अपनी पहचान बनाई। वह पहली बार रामपुर से चुनाव लड़े और अंत में जीत गए।

रामपुर: उत्तर प्रदेश की रामपुर सीट में भारतीय जनता पार्टी के आकाश सक्सेना ने समाजवादी पार्टी को मात दे दी है। रामपुर उपचुनाव 2022 में घटनाओं के मोड़ ने हर किसी को हैरान कर दिया। सुबह से लगातार बढ़त बनाए रखने वाले आसिम रजा आखिरकार चुनाव हार गए। रामपुर उपचुनाव समाजवादी पार्टी के लिए बीस सालों से एक गढ़ सीट थी, जब से आजम खान ने 2002 में विधायक पद जीता था। भारतीय जनता पार्टी कभी भी रामपुर में प्रभुत्व स्थापित करने में सक्षम नहीं रही, जो उत्तर प्रदेश में एक मुस्लिम बहुल क्षेत्र है। आसिम रजा ने आरोप भी लगाया कि लोगों को सपा के पक्ष में वोट डालने से रोका गया, इसलिए वह अंतिम दौर में हार गए।

20 सालों से रामपुर सीट पर थी आजम खान की कमान
रामपुर सीट से चुनाव लड़ने का आकाश सक्सेना का यह पहला प्रयास था और शुरुआती रुझानों में वह आसिम रजा से करीब दस हजार मतों से पीछे चल रहे थे। मगर वोटों की गिनती के आखिरी घंटों में आकाश सक्सेना ने रामपुर सीट से 33,000 वोटों से जीत हासिल की है। रामपुर एक मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्र है और पिछले 70 सालों में कभी भी एक भी हिंदु विधायक नहीं रहा। पिछले बीस सालों से आजम खान इस सीट पर हैं लेकिन हाल ही में उन्हें जेल जाने के बाद अयोग्य घोषित कर दिया गया था, जिसके कारण उपचुनाव हुए थे।

Subscribe to get breaking news alerts

जानिए कौन हैं बीजेपी प्रत्याशी आकाश सक्सेना
आकाश सक्सेना भारतीय जनता पार्टी के सदस्य हैं और उन्होंने पार्टी के इतिहास में रामपुर सीट पर दावा करके पार्टी के लिए एक बड़ी उपलब्धि हासिल की है। आकाश तो कई सालों से भाजपा के सदस्या हैं और पहली बार रामपुर से चुनाव लड़ रहे थे। उन्होंने उच्च शिक्षा प्राप्त नहीं की है और साल 1996 में केवल 12वीं कक्षा पूरी की है। जारी हुई रिपोर्ट के अनुसार उनके पास अब तक पांच करोड़ रुपए की संपत्ति है और कई व्यवसाय हैं। इसके अलावा उनके खिलाफ कोई आपराधिक मामला दर्ज नहीं है।

यूपी के 10 गांवों में कुंवारे बैठे हैं लड़के, शादी के बाद मायके वापस जा रही महिलाएं, जानिए क्या है पूरा मामला

यूपी में एक ही छत के नीचे होंगी सभी अदालतें, सीएम योगी बोले- सुशासन में मिले समय पर न्याय

दूल्हे को वरमाला पहनाते ही दुल्हन की हुई मौत, वजह जानकर बोल उठेंगे-ये हो क्या रहा है?