Asianet News Hindi

कोरोना वायरस की ऐसी दहशत, शख्स ने इस पक्षी को डंडे से पीट पीटकर मारा डाला

चीन में फैले कोरोना वायरस की दहशत अब भारत में भी फैल चुकी है। इसका शिकार अब मासूम पक्षी को होना पड़ रहा है। यूपी के आगरा में एक शख्स ने चमगादड़ को डंडे से पीट पीटकर मार डाला। जानकारी के मुताबिक, वैज्ञानिकों ने बताया है कि चीन में कोरोना वायरस चमगादड़ का सूप पीने से फैला है।

rearmouse killed in awe of coronavirus KPU
Author
Agra, First Published Feb 3, 2020, 6:17 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

मेरठ (Uttar Pradesh). चीन में फैले कोरोना वायरस की दहशत अब भारत में भी फैल चुकी है। इसका शिकार अब मासूम पक्षी को होना पड़ रहा है। यूपी के आगरा में एक शख्स ने चमगादड़ को डंडे से पीट पीटकर मार डाला। जानकारी के मुताबिक, वैज्ञानिकों ने बताया है कि चीन में कोरोना वायरस चमगादड़ का सूप पीने से फैला है।

क्या है पूरा मामला
गंगानगर थाना क्षेत्र के शिवलोक कॉलोनी में शनिवार शाम एक युवक ने चमगादड़ को डंडे से पीट मार डाला। युवक ने पेड़ पर बैठे चमगादड़ को पहले पत्थर मारकर नीचे गिरा दिया। फिर डंडे से पीट पीटकर उसे मारा डाला। इससे पहले बुधवार को मवाना रोड पर एक शख्स ने फ्लाइंग फॉक्स यानी फ्रूट बैट (चमगादड़) को मार डाला था। 

चमकादड़ के बारे जानें सच्चाई 
लोग भले ही चमगादड़ को मांसाहारी समझते हों, लेकिन ऐसा नहीं है। ये शांत प्राणी है। फल खाकर अपना पेट भरता है। पर्यावरण विशेषज्ञों की मानें तो चमगादड़ को जंगल का किसान भी कहते हैं। यह परागण में अहम भूमिका निभाते हैं। गूलर, अमरूद, कदम आदि के फलों को खाने के बाद ये जंगल में परागण करते हैं। इससे वहां नए पौधे तैयार हो जाते हैं। आपको बता दें, बिहार के वैशाली जिले के सरसई गांव में चमगादड़ों की विशेष पूजा होती है। वहां के लोगों का मानना है कि हजारों की संख्या में गांव में मौजूद चमगादड़ उनकी रक्षा करते हैं।

क्या है कोरोना वायरस, इसके लक्ष्ण और बचाव
कोरोना वायरस (सीओवी) के संक्रमण से जुकाम से लेकर सांस लेने में तकलीफ जैसी समस्या हो सकती है। इसका संक्रमण दिसंबर में चीन के वुहान में शुरू हुआ। डब्लूएचओ के मुताबिक, बुखार, खांसी, सांस लेने में तकलीफ, जुकाम, नाक बहना और गले में खराश जैसी समस्या इसके प्रमुख लक्षण हैं। यह एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है। इससे बचने के लिए हाथों को साबुन से धोना चाहिए। अल्‍कोहल आधारित हैंड रब का इस्‍तेमाल भी किया जा सकता है। खांसते और छीकते समय नाक और मुंह रूमाल या टिश्‍यू पेपर से ढककर रखें। जिन व्‍यक्तियों में कोल्‍ड और फ्लू के लक्षण हों उनसे दूरी बनाकर रखें। अंडे और मांस के सेवन से बचें। जंगली जानवरों के संपर्क में आने से बचें।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios