चुनाव में मिली हार के बाद बसपा सुप्रीमो मायावती ने बुलाई समीक्षा बैठक, इन नेताओं पर लिया जा सकता है ऐक्शन

| Mar 27 2022, 10:43 AM IST

चुनाव में मिली हार के बाद बसपा सुप्रीमो मायावती ने बुलाई समीक्षा बैठक, इन नेताओं पर लिया जा सकता है ऐक्शन
चुनाव में मिली हार के बाद बसपा सुप्रीमो मायावती ने बुलाई समीक्षा बैठक, इन नेताओं पर लिया जा सकता है ऐक्शन
Share this Article
  • FB
  • TW
  • Linkdin
  • Email

सार

यूपी चुनाव में बसपा को मिली करारी शिकस्त के बाद समीक्षा बैठकों का दौर जारी है। इसी कड़ी में बसपा सुप्रीमो मायावती ने भी पार्टी के नेताओं और पदाधिकारियों में बैठक बुलाई है। माना जा रहा है कि इस बैठक के बाद कई नेताओं पर ऐक्शन भी लिया जा सकता है। 

लखनऊ: उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों में मिली करारी शिकस्त के बाद बसपा में हार को लेकर मंथन जारी है। इसी कड़ी में सुप्रीमो मायावती ने रविवार 27 मार्च को एक बार फिर समीक्षा को लेकर सभी प्रत्याशियों और पदाधिकारियों को बुलाया है। इस दौरान 403 सीटों पर लड़ने के बाद 402 प्रत्याशियों के हारने को लेकर समीक्षा होगी। 

यूपी विधानसभा चुनाव 2022 के परिणाम सामने आने के बाद बसपा को बड़ा झटका लगा था। कभी प्रदेश में नंबर 1 और 2 पर रहने वाली पार्टी को इस चुनाव में सिर्फ 1 सीट हासिल हुई। जिसके बाद से हार को लेकर लगातार मंथन का दौर जारी है। इसी कड़ी में सुप्रीमो मायावती ने एक बार फिर से बैठक बुलाई है। यह बैठक राजधानी लखनऊ में 27 मार्च को बुलाई गई है। इसमें 403 सीटों में चुनाव लड़ने के बावजूद मिली हार को लेकर समीक्षा होगी। 

Subscribe to get breaking news alerts

2007 के बाद खराब होता जा रहा प्रदर्शन 
यूपी 2007 के चुनाव के बाद बसपा का प्रदर्शन लगातार खराब होता जा रहा है। यहां तक की बसपा का फिक्स वोटबैंक भी लगातार खिसकता जा रहा है। पार्टी के नेताओं को भी अब इसकी चिंता लगातार सता रही है। इसी बीच सुप्रीमो मायावती ने हार के कारणों की समीक्षा को लेकर बैठक बुलाई है। 

फेरबदल के आसार 
इस बैठक में व्यापक स्तर पर फेरबदल के आसार जताए जा रहे हैं। माना जा रहा है कि इस बैठक के बाद पार्टी के खराब प्रदर्शन के लिए जिम्मेदार नेताओं औऱ पदाधिकारियों को साइडलाइन किया जा सकता है। वहीं सक्रिय कार्यकर्ताओं को नई जिम्मेदारी सौंपी जा सकती है। 

चुनाव परिणाम के सामने आने के साथ ही दिखे थे बदलाव 
चुनाव के नतीजे सामने आने के साथ ही मायावती ने लोकसभा सदस्य रितेश पाण्डेय के स्थान पर गिरीश चंद्र जाटव को लोकसभा में पार्टी का नेता बना दिया था। माना जा रहा था कि यह बदलाव चुनाव परिणाम के सामने आने के बाद एक्शन के तौर पर लिया गया है। वहीं संगीता आजाद को चीफ व्हिप बनाया गया था। जबकि पहले गिरीश चंद्र जाटव चीफ व्हिप थे। लेकिन उन्हें रितेश पाण्डेय की जगह दी गई। 

संगीत सोम के खिलाफ अमर्यादित पोस्ट के मामले ने पकड़ा तूल, दी गई ये चेतावनी

जयमाला से पहले सांवला रंग बना वजह और बिना दुल्हन वापस लौटी बारात, दूल्हे ने उठा लिया ये खौफनाक कदम

मवेशियों से लदी चलती ट्रक में लगी आग, तस्करी कर ले जाया जा रहा था बिहार