Asianet News HindiAsianet News Hindi

Up News: सतीश चंद्र ने कराया ब्राहम्ण भोज, बोले- राम के साथ सीता का नाम क्यों नहीं लेते कुछ लोग

बीते शुक्रवार को सतीश चंद्र ने वृंदावन पहुंचकर ब्राहम्ण समाज को भोजन कराया। सतीश चंद्र मिश्र ने कहा कि यहां मैं बचपन से आ रहा हूं। भगवान के धाम की यह दुर्दशा देखकर मन विचलित होता रहा। मैं राजनीति में आया तो अपनी राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती से कहा कि ठाकुरजी की इस नगरी का सौंदर्यीकरण करवा दें। उस समय यहां काफी काम हुआ। सतीश मिश्र ने कहा कि कुछ लोग भगवान श्रीराम का नाम लेते हैं, लेकिन सीताजी का नाम भूल जाते हैं।

Satish Chandra Mishra Reached Mathura said that some people take take tha name of ram forget sita
Author
Mathura, First Published Nov 20, 2021, 12:53 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

लखनऊ: यूपी चुनाव 2022 (Up Vidhansabha Chunav 2022) को लेकर सभी पार्टियां जोर-आजमाइस कर रही हैं। ऐसे में बीएसपी(Bahujan Samaj Party)को सक्रिय करने की कमान राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्र ने अपने हाथो में उठाई है। बीते शुक्रवार को सतीश चंद्र वृंदावन ने ब्राहम्ण (Brahmin Voters)समाज को खुश करने के लिए वृंदावन पहुंच कर  एक हजार संतों और धर्माचार्यों का सम्मान कर भोज कराया। उन्होंने स्वयं संतों को भोजन परोसा और आशीर्वाद लिया। हांलाकि उन्होने इस दौरे को गैर राजनीतिक बताया।

राजनीति करना मक्सद नहीं- सतीश चंद्र

सतीश चंद्र मिश्र ने कहा कि यहां मैं बचपन से आ रहा हूं। भगवान के धाम की यह दुर्दशा देखकर मन विचलित होता रहा। मैं राजनीति में आया तो अपनी राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती से कहा कि ठाकुरजी की इस नगरी का सौंदर्यीकरण करवा दें। उस समय यहां काफी काम हुआ। सतीश मिश्र ने कहा कि कुछ लोग भगवान श्रीराम का नाम लेते हैं, लेकिन सीताजी का नाम भूल जाते हैं। उनको सीताराम बोलने में दिक्कत है। उन्होंने कहा कि हमारी फिर सरकार बनी तो सनातन धर्म और ब्रज को आगे बढ़ाने का काम करेंगे।

वृंदावन के विकास के लिए मायावती ने दिए थे 300 करोड़

सतीश चंद्र मिश्रा ने कहा था कि बसपा सरकार में 62 सीट ब्राह्मणों ने जीता। ब्राह्मण समाज के कारण ही बसपा की पूर्ण बहुमत की सरकार आई थी। बसपा सरकार में 2200 ब्राह्मणों को सरकारी वकील बनाया गया था। ब्राह्मण अधिकारी को उचित तैनाती दी गई। मेरा प्रदेश के ब्राह्मणों से आह्वान है कि जितनी ब्राह्मणों की हत्या हुई उससे सबक ले। उन्होंने बताया कि वृंदावन के विकास के लिए मायावती सरकार ने 300 करोड़ रुपये दिए थे। दावा किया कि प्रदेश में अगली सरकार बसपा की ही बनेगी। कार्यक्रम आयोजक मांट से बसपा विधायक पंडित श्याम सुंदर शर्मा ने कहा कि उनकी सरकार आई तो संत सुरक्षा आयोग का गठन कराएंगे।

ब्राह्मणों को साधने अयोध्या भी पहुंचे थे सतीश 

यूपी चुनावों से पहले सक्रिय हुए सतीश चंद्र मिश्र इससे पहले अयोध्‍या में राम मंदिर का दर्शन करने के लिए भी गए थे। वहां उन्‍होंने योगी सरकार पर हमला करते हुए कहा था कि यूपी में 13% ब्राह्मण हैं, फिर भी हाशिये पर हैं। इसका कारण है कि ब्राह्मण एकजुट नहीं हो पा रहा हैं। ब्राह्मणों को एकजुट होना पड़ेगा। असली ताकत तभी मिलेगी, जब ब्राह्मण एकजुट होगा। 13% ब्राह्मण व 23% दलित एक हो जाएगा तो सरकार बनने से कोई नहीं रोक पाएगा। ब्राह्मण समाज बुद्धजीवी समाज है। हाथी नहीं गणेश है, ब्रम्हा विष्णु महेश है।

 

UP POLITICS: मायावती कहती हैं कि ब्राह्मणों पर अत्याचार करने वालों को छोड़ेंगी नहीं, अब ओवैसी की भी सुन लीजिए

 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios