विधायक दल की बैठक के लिए नहीं पहुंचा फोन तो शिवपाल यादव के बगावती तेवर आए सामने, उठाने जा रहे ये कदम

| Mar 26 2022, 01:01 PM IST

विधायक दल की बैठक के लिए नहीं पहुंचा फोन तो शिवपाल यादव के बगावती तेवर आए सामने, उठाने जा रहे ये कदम

सार

समाजवादी पार्टी की विधायक दल की बैठक में आमंत्रित न किए जाने के बाद शिवपाल यादव की नाराजगी फिर सामने आई है। उन्होंने कहा कि वह लगातार दो दिनों से फोन का इंतजार कर रहे थे हालांकि ऐसा नहीं हुआ। इसके बाद वह नाराज होकर इटावा जा रहे हैं। 

लखनऊ: उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 में इटावा के जसवंतनगर से चुनाव जीतने के बाद शिवपाल यादव के बगावती तेवर फिर सामने आ रहे हैं। शिवपाल यादव ने ने जानकारी दी कि उन्हें विधायक दल की बैठक में नहीं बुलाया गया है। बुलाए न जाने से नाराज शिवपाल अगला कदम उठाने जा रहे हैं। 

तीखे हुए शिवपाल के तेवर 
शनिवार 26 मार्च को सपा कार्यालय में नव निर्वाचित 111 विधायकों की बैठक है। इस दौरान सभी विधायक अपना नेता चुनेंगे। इस दौरान अखिलेश यादव को विधायक दल का नेता चुने जाने की औपचारिकता को पूरा किया जाएगा। हालांकि इस बीच शिवपाल के वहीं पुराने तेवर सामने आ रहे हैं जो कुछ साल पहले देखे गए थे। 

Subscribe to get breaking news alerts

इटावा जा रहे हैं शिवपाल 
शिवपाल यादव ने बताया कि वह अपने आवास पर लगातार निमंत्रण मिलने का इंतजार कर रहे थे। हालांकि इस बीच उन्हें कार्यालय से कोई फोन नहीं आया। जिसके बाद वह अब इटावा जा रहे हैं। शिवपाल ने बताया कि दो दिनों तक उन्होंने फोन की प्रतीक्षा की, हालांकि जब उन्हें आमंत्रित नहीं किया गया तो उन्होंने सारे कार्यक्रम रद्द कर दिए हैं। शिवपाल यादव ने कहा कि वह पार्टी के विधायक हैं लेकिन उन्हें विधायक दल की बैठक में ही आमंत्रित नहीं किया गया। 

राष्ट्रीय नेतृत्व देगा उत्तर 
शिवपाल यादव ने कहा कि उन्हें इस बैठक में क्यों नहीं बुलाया गया इसका उत्तर राष्ट्रीय नेतृत्व ही दे सकता है। इतना ही नहीं पार्टी को चुनाव में हार क्यों मिली इसकी समीक्षा भी होनी चाहिए। उन्होंने अपने अगले कदम को लेकर कहा कि इसका फैसला जल्द ही सभी के सामने होगा। हालांकि इस बीच उन्होंने यह जरूर साफ किया कि वह बैठक में शामिल होने के लिए नहीं जा रहे हैं। वह लखनऊ से सीधे इटावा जा रहे हैं। 

ज्ञात हो कि शिवपाल यादव यूपी चुनाव 2022 के पहले ही अखिलेश यादव के साथ आए थे। इससे पहले नाराजगी के चलते परिवार में दूरी देखी जा रही थी। हालांकि विधायक दल की बैठक से पहले एक बार फिर से यह नाराजगी सामने आ रही है। 

राज्यपाल आनंदीबेन ने दिलाई रमापति शास्त्री को प्रोटेम स्पीकर पद की शपथ, विधायक 28 और 29 मार्च को करेंगे यह काम

लखनऊ विवि में छात्र राजनीति से इन नेताओं ने की शुरुआत और योगी सरकार 2.0 में मंत्री के पद तक तय किया सफर

केशव प्रसाद मौर्य बीजेपी के लिए मजबूरी या जरूरत, इन वजहों से तय हुआ दोबारा डिप्टी सीएम की कुर्सी तक का सफर

 
Read more Articles on