Asianet News HindiAsianet News Hindi

बिना एग्जाम दिए ही फर्स्ट डिवीजन से पास हो गए छात्र, वीसी ने कहा-दोषियों पर होगी सख्त कार्रवाई

यूपी के राम मनोहर लोहिया अवध यूनिवर्सिटी में एक चौंकाने वाले मामले का खुलासा हुआ है। यूनिवर्सिटी में कई छात्र बिना परीक्षा दिए ही फर्स्ट क्लास में पास हुए हैं। एमएससी जैसी महत्वपूर्ण क्लास में दर्जनों अनुपस्थित छात्र फिजिक्स, कैमिस्ट्री, बायोलॉजी, बॉटनी, गणित जैसे विषय में बिना परीक्षा दिए फर्स्ट क्लास पास हो गए

students passed from first division without giving exam in avadh university kpl
Author
Ayodhya, First Published Dec 27, 2019, 6:08 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

अयोध्या(Uttar Pradesh ). यूपी के राम मनोहर लोहिया अवध यूनिवर्सिटी में एक चौंकाने वाले मामले का खुलासा हुआ है। यूनिवर्सिटी में कई छात्र बिना परीक्षा दिए ही फर्स्ट क्लास में पास हुए हैं। एमएससी जैसी महत्वपूर्ण क्लास में दर्जनों अनुपस्थित छात्र फिजिक्स, कैमिस्ट्री, बायोलॉजी, बॉटनी, गणित जैसे विषय में बिना परीक्षा दिए फर्स्ट क्लास पास हो गए।आरटीआई से यह चौंकाने वाला खुलासा होने के बाद यूनिवर्सिटी प्रशासन भी स्तब्ध रहा गया है। मामले में वीसी आचार्य मनोज दीक्षित ने जांच कराकर दोषियों के विरूद्ध कड़ी कार्रवाई की बात कही है। 

राम मनोहर लोहिया अवध यूनिवर्सिटी से संबद्ध कॉलेज राम सिंह गुलेरिया महाविद्यालय में बड़ा फर्जीवाड़ा सामने आया है। अयोध्या के श्री राम जानकी महाविद्यालय, रामनगर में एडमिशन लेने वाले एमएससी फाइनल ईयर के छात्रों का सेंटर 2018- 2019 के सत्र में यूनिवर्सिटी से ही संबद्ध कॉलेज श्री राम सिंह गुलेरिया महाविद्यालय में गया था। यहां फिजिक्स, कैमिस्ट्री, बायोलॉजी, बॉटनी, गणित जैसे विषय में जिन छात्रों को एग्जामिनेशन सेंटर यानि राम सिंह गुलेरिया महाविद्यालय ने अनुपस्थित बताया गया, वे सभी छात्र राम मनोहर लोहिया अवध यूनिवर्सिटी से फर्स्ट डिवीजन में पास हो गए।

आरटीआई में हुआ खुलासा 
अयोध्या के मिल्कीपुर क्षेत्र के रहने वाले अधिवक्ता पवन कुमार पांडे ने आरटीआई से एक सूचना मांगी थी। उन्होंने पूंछा था कि राम मनोहर लोहिया अवध यूनिवर्सिटी से 2018-19 सत्र में श्रीराम जानकी महाविद्यालय में अध्ययनरत एमएससी सेकंड ईयर के कितने छात्र परीक्षा में फिजिक्स, कैमिस्ट्री, बायोलॉजी, बॉटनी, गणित जैसे विषय में अनुपस्थित रहे। इस आरटीआई के जवाब में यूनिवर्सिटी ने उक्त जानकारी एग्जामिनेशन सेंटर से प्राप्त करने को कहा। इसके बाद  अधिवक्ता पवन पांडेय द्वारा यह सूचना एग्जामिनेशन सेंटर श्रीराम सिंह गुलेरिया महाविद्यालय से मांगी गई। महाविद्यालय ने जो जानकारी उपलब्ध कराई उससे सामने आए मामले ने इस बड़े फर्जीवाड़े का खुलासा कर दिया। 

वीसी ने कहा कराऊंगा जांच, कोई बख्शा नहीं जाएगा 
इस बारे में अवध यूनिवर्सिटी के वीसी आचार्य मनोज दीक्षित का कहना है कि यह अपने आप में बहुत बड़ा मामला है। इस पूरे मामले की गंभीरता से जांच होगी। इस प्रकरण में जो भी दोषी पाया जाएगा सभी के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाएगी। कोई भी बख्शा नहीं जाएगा। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios