Asianet News Hindi

चोरों ने वापस मंदिर में रखी दो सौ वर्ष पुरानी भगवान राम, लक्ष्मण व सीता की मूर्ति, पांच माह पहले चोरी हुई थीं बेशकीमती मूर्तियां

अयोध्या के एक मंदिर से 200 साल पुरानी मूर्ति गायब होने की घटना। 

thieves put  back stolen idols of gods from temple
Author
Ayodhya, First Published Jul 15, 2019, 12:31 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

अयोध्या:  थाना कोतवाली गोसाईगंज इलाके के परमानपुर बोधीपुर गांव के मंदिर से दो सौ वर्ष पुरानी गायब हुई राम लक्ष्मण जानकी की बेशकीमती मूर्तियों को पुलिस ने बरामद कर लिया है। जिसका खुलासा सीओ सदर वीरेंद्र विक्रम ने किया। बताया कि उक्त मूर्ति 10 फरवरी को गायब हुई थी। पुलिस मूर्ति की बरामदगी के लिए लगातार दबिश डाल रही थी।चोरों ने मूर्तियों को 3 जुलाई की रात्रि में किसी समय मन्दिर में रख दिया।इसकी जानकारी पुजारी सेवादास को तब हुई जब वह सुबह चार बजे मन्दिर की साफ सफाई के लिए गये तो देखा कि मूर्ति रखी हुई है।पुजारी ने इसकी जानकारी मन्दिर के स्वामी सहित पुलिस को दी।सूचना पर पहुंची पुलिस ने मूर्ति को अपने कब्जे में ले लिया।पुजारी सेवादास ने मूर्ति की पहचान कर बताया कि यह वही मूर्ति है जो 10 फरवरी को मन्दिर से गायब हुई थी।

 

कुण्डी तोड़ कर चुरा ले गए थे मूर्तियां

गोसाईगंज इलाके के परमानपुर बोधीपुर गांव में अमसिन बाजार के व्यवसायियों द्वारा करीब दो सौ वर्ष पूर्व तीन मंदिरों का निर्माण कराया गया था। 10 फरवरी की रात चोरों ने रामजानकी मंदिर में स्थित राम, जानकी, लक्ष्मण, श्रीकृष्ण, राधा तथा लड्डू गोपाल सहित आठ मूर्तियों को दरवाजे की कुंडी काटकर अंदर घुसकर उठा ले गए थे।मूर्तियों में राम जानकी तथा लक्ष्मण की मूर्ति अष्टधातु की बताई गई थी।जबकि अन्य मूर्तियां पीतल की बताई गई थी।मामले की जानकारी सुबह करीब नौ बजे हुई जब पुजारी सेवादास पूजा करने गए तो कुंढी टूटी देखकर वह अवाक रह गया। जब अंदर देखा तो भगवान की सभी मूर्तियां गायब थी। पुजारी ने इसकी सूचना आसपास के लोगों व बाजार वासियों के साथ इलाकाई पुलिस को दिया था।मौके पर पहुंचे सैकड़ों की संख्या में ग्रामीणों ने घटना पर आक्रोश व्यक्त करते हुए तत्काल मूर्तियों के बरामदगी की मांग करने लगे थे।सूचना पर पहुंची पुलिस ने घटनास्थल का मुआयना किया और दो दिन के अंदर मूर्ति बरामदगी की बात भी कही थी।वहीं मूर्ति बरामद होने तक मंदिर में भगवान की फोटो रखकर पूजा अर्चना जारी रखने का निर्णय पुजारी सहित अन्य लोगों ने लिया था। मामले में पुजारी सेवादास की तहरीर पर अपराध संख्या33/19धारा457,380 के तहत केस दर्ज कर मूर्तियों की बरामदगी एवं चोरों को पकड़ने के लिए टीम को लगा दिया गया था। कागजी खानापूर्ति के बाद मूर्ति मन्दिर के पुजारी को सौप दी गयी।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios