Asianet News HindiAsianet News Hindi

UP News: मेदांता जैसे अस्पतालों में होगा गरीबों का मुफ्त इलाज, 'SACHIS' कर रहा खास तैयारी

Ayushman Bharat Yojana उत्तर प्रदेश में कुल 2773 अस्पतालों में आयुष्मान योजना के लाभार्थियों को मुफ्त इलाज की सुविधा दी जा रही है। अब इस योजना से बड़े और कॉरपोरेट अस्पतालों को जोड़ने के प्रयास किए जा रहे हैं। जिसके बाद गरीबों को लखनऊ के मेदांता, अपोलो और सहारा जैसे अस्पतालों में मुफ्त में इलाज मिल सकेगा। एक परिवार को एक वर्ष में पांच लाख रुपये तक के इलाज की सुविधा दी जाती है। 

UP News: Hospitals like Medanta will provide free treatment to the poor, 'SACHIS' is making special preparations
Author
Lucknow, First Published Nov 26, 2021, 10:55 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

लखनऊ: उत्तर प्रदेश(uttar pradesh) में अब गरीबों को इलाज के लिए दर बदर भटकना नहीं पड़ेगा। आकस्मित स्थित(emergency) के दौरान उन्हें लखनऊ(lucknow) के मेदांता व अपोलो जैसे कॉरपोरेट अस्पतालों (corporate hospital) में मुफ्त इलाज(free treatment) मिलेगा। इसके लिए स्टेट एजेंसी फार कांप्रिहेंसिव हेल्थ एंड इंटीग्रेटेड सर्विसेज(SACHIS) विशेष तैयारी कर रहा है। जिसके चलते ज्यादा से ज्यादा कारपोरेट अस्पतालों को आयुष्मान भारत योजना (ayushman bharat scheme) से जोड़ने की कोशिश की जा रही है।

योजना के तहत प्रति परिवार वर्ष भर में मिलती है 5 लाख की सुविधा
उत्तर प्रदेश में कुल 2773 अस्पतालों में आयुष्मान योजना के लाभार्थियों को मुफ्त इलाज की सुविधा दी जा रही है। एक परिवार को एक वर्ष में पांच लाख रुपये तक के इलाज की सुविधा दी जाती है। अभी तक कुल साढ़े आठ लाख से अधिक मरीजों के इलाज पर करीब 983 करोड़ रुपये सरकार ने खर्च किए जा चुके हैं।

कॉरपोरेट अस्पतालों को योजना से जोड़ने की कोशिश में लगा SACHIS
स्टेट एजेंसी फार कांप्रिहेंसिव हेल्थ एंड इंटीग्रेटेड सर्विसेज (साचीस) की सीईओ संगीता सिंह ने बताया कि ज्यादा से ज्यादा कारपोरेट अस्पतालों को इस योजना से जोड़ने की कोशिश की जा रही है। कारपोरेट अस्पतालों में गरीब लोगों को बेहतर इलाज मिल सके इस पर जोर दिया जा रहा है। तमाम प्राइवेट अस्पताल इस योजना का लाभ दे रहे हैं। 23 सितंबर 2018 को यह योजना शुरू हुई थी।


अभी तक कुल 1.76 करोड़ लोगों ने बनवाए आयुष्मान कार्ड 
अस्पतालों के 90 प्रतिशत तक क्लेम का भुगतान किया जा चुका है। अंत्योदय के 40 लाख परिवारों को जोडऩे के बाद अब लाभार्थियों की कुल संख्या 7.60 करोड़ है। अब तक 1.76 करोड़ आयुष्मान कार्ड बनाए जा चुके हैं। इस योजना का लाभ उठाने वालों में 57 प्रतिशत पुरुष व 43 प्रतिशत महिलाएं शामिल हैं। इलाज पर होने वाले खर्च का 60 प्रतिशत केंद्र सरकार व 40 प्रतिशत हिस्सा राज्य सरकार देती है।

योजना का लाभ लेने के लिए कार्ड होना जरूरी
आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के तहत लोगों को सालाना पांच लाख रुपये तक मुफ्त इलाज मिलता है। इस योजना का फायदा उठाने के लिए कार्ड बनवाना जरूरी है। कार्ड को बनवाने के लिए जरूरी पात्रता भी निर्धारित की गई है। योजना का लाभ लेने के लिए प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना की आधिकारिक वेबसाइट mera.pmjay.gov.in पर जरूरी गडॉक्यूमेंट अपलोड करने होते हैं। यदि आप इस योजना के लिए पात्र हैं तो आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना की ओर से आयुष्मान कार्ड जारी कर दिया जाएगा।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios