Asianet News HindiAsianet News Hindi

अयोध्या पहुंची रामायण यात्रा की पहली ट्रेन, श्रद्धालुओं ने लगाए जय श्रीराम के नारे, जमकर हुआ स्वागत-सत्कार

रामायण सर्किट ट्रेन 17 दिन में 7500 किमी की यात्रा तय करेगी और भगवान राम से जुड़े धार्मिक स्थलों के दर्शन कराएगी। यात्रा का पहला पड़ाव अयोध्या था, जहां श्रीराम जन्मभूमि मंदिर, श्रीहनुमान मंदिर के दर्शन कराए गए।

UP News Indian Railways IRCTC Shri Ramayana Yatra train reaches Ayodhya station with 132 devotees stb
Author
Ayodhya, First Published Nov 8, 2021, 6:02 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

अयोध्या : IRCTC की ओर से शुरू की गई श्री रामायण यात्रा की पहली ट्रेन सोमवार को उत्तर-प्रदेश (uttar pradesh) के अयोध्या पहुंची। जहां कैंट स्टेशन पर इसमें सवार 132 रामभक्तों का जमकर स्वागत-सत्कार हुआ। सभी श्रद्धालुओं पर फूलों की बारिश की गई। अयोध्या पहुंचते ही सभी यात्रियों ने जय श्रीराम के नारे लगाए। उन्होंने कहा कि अयोध्या आकर हमारा जीवन धन्य हो गया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (narendra modi) के प्रयास से अयोध्या में श्रीराम मंदिर का भव्य निर्माण हो रहा है जो कि देश के लिए बड़े ही सौभाग्य की बात है। 

भगवान राम से संबंधित तीर्थस्थलों को कनेक्ट करेगी ट्रेन 
दिल्‍ली (delhi) के सफदरजंग रेलवे स्टेशन से सोमवार को पहली रामायण सर्किट ट्रेन रवाना होने के बाद अयोध्या पहुंच गई है। अयोध्या के बाद यह ट्रेन 17 दिनों में सीतामढ़ी (Sitamarhi) और चित्रकूट (Chitrakoot) सहित कई प्रमुख जगहों पर जाएगी। बता दें कि भारतीय रेलवे ने भगवान श्री राम के जीवन से जुडे़ कई प्रमुख धार्मिक स्‍थलों के दर्शन के लिए रामायण सर्किट ट्रेन का ऐलान किया था, जिसकी शुरुआत हो गई है। इस ट्रेन की शेड्यूलिंग और फुल बुकिंग काफी पहले हो चुकी थी। IRCTC ने इसके अलावा 4 और रामायण सर्किट ट्रेन चलाने का ऐलान किया है। 16 नवंबर को दूसरी ट्रेन, 25 नवंबर को तीसरी ट्रेन, 27 नवंबर चौथी और 20 जनवरी से पांचवीं ट्रेन चलाई जाएगी।

17 दिन में 7500 किलोमीटर जाएगी ट्रेन
रामायण सर्किट ट्रेन 17 दिन में 7500 किमी की यात्रा तय करेगी और भगवान राम से जुड़े धार्मिक स्थलों के दर्शन कराएगी। यात्रा का पहला पड़ाव अयोध्या था, जहां श्रीराम जन्मभूमि मंदिर, श्रीहनुमान मंदिर के दर्शन कराए गए। अयोध्या से ये ट्रेन सीतामढ़ी जाएगी, जहां जानकी जन्मस्थान और नेपाल (nepal) स्थित राम जानकी मंदिर के दर्शन होंगे। इसके बाद ट्रेन का अगला पड़ाव काशी (kashi) होगा, फिर चित्रकूट और वहां से नासिक (Nashik) पहुंचेगी। नासिक के बाद प्राचीन किष्किन्धा नगरी हम्पी अगला पड़ाव होगा, जहां अंजनी पर्वत स्थित हनुमान जन्मस्थल के दर्शन कराए जाएंगे। इस ट्रेन का आखिरी पड़ाव रामेश्वरम (Rameswaram) होगा। रामेश्वरम से चलकर ये ट्रेन 17वें दिन दिल्ली वापस पहुंचेगी।

अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस है ट्रेन
इस यात्रा के लिए एसी फर्स्ट क्लास की बुकिंग 1,02,095 रुपये और सेकंड क्लास में 82,950 रुपये में हुई है। रामायण सर्किट ट्रेन अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस है। इस ट्रेन में यात्री कोच के अलावा दो रेल डाइनिंग रेस्तरां, एक किचन कार और यात्रियों के लिए फुट मसाजर, मिनी लाइब्रेरी, स्वच्छ शौचालय और शॉवर क्यूबिकल की सुविधा भी है। इसके साथ ही सुरक्षा गार्ड, इलेक्ट्रॉनिक लॉकर और CCTV कैमरे भी हर कोच में उपलब्ध हैं। 

इसे भी पढ़ें-Chhath Puja 2021: यात्रीगण ध्यान दें.. घर जाने का बना रहे प्लान तो देख लीजिए स्पेशल ट्रेनों की लिस्ट

इसे भी पढ़ें-UP: Yogi Aditynath लड़ेंगे विधानसभा चुनाव, CM की बात से अयोध्‍या से उतरने की उम्मीदें बढ़ीं

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios