Asianet News HindiAsianet News Hindi

प्रयागराज में हिंसा से पहले हुई थी मीटिंग, राजनैतिक लोगों के नाम आए सामने, जल्द ही होगी पूछताछ

बवाल की साजिश में करेली व खुल्दाबाद इलाके के कई बेहद प्रभावशाली लोग भी शामिल थे। पुलिस द्वारा हुई पूछताछ में मुख्य आरोपी जावेद मोहम्मद उर्फ जावेद पंप ने इस बात की जिक्र किया है। पुलिस अब ऐसे लोगों से पूछताछ की तैयारी में है। 

UP News Prayagraj The meeting was held before the violence in Prayagraj names of political people came in front will soon be questioned
Author
Prayagraj, First Published Jun 29, 2022, 2:13 PM IST

प्रयागराज: अटाला बवाल में तफ्तीश में चौकाने वाले खुलासे सामने आ रहे हैं। हिंसा में मस्जिद के मौलाना के साथ ही कई राजनैतिक लोगों के भी नाम सामने आए हैं।  उन्हें मालूम था कि जुमे के दिन यानी तीन जून को नमाज के बाद अटाला में बड़े पैमाने पर प्रदर्शन होना है। 

बवाल की साजिश में करेली व खुल्दाबाद इलाके के कई बेहद प्रभावशाली लोग भी शामिल थे। पुलिस द्वारा हुई पूछताछ में मुख्य आरोपी जावेद मोहम्मद उर्फ जावेद पंप ने इस बात की जिक्र किया है। पुलिस अब ऐसे लोगों से पूछताछ की तैयारी में है। 

सूत्रों के मुताबिक, जावेद मोहम्मद से कस्टडी रिमांड में पूछताछ के दौरान कई चौंकाने वाली जानकारी सामने आई। पता चला कि कानपुर दंगों के आरोपियों की पैरवी में आए कानपुर निवासी मुस्लिम संगठन के पदाधिकारी से मुलाकात के बाद करेली इलाके में एक मीटिंग की गई थी। 

हिंसा से पहले हुई थी मीटिंग 
इस मीटिंग में ही यह योजना बनी थी कि 10 जून को जुमे की नमाज के बाद अटाला में प्रदर्शन किया जाना है। खास बात यह है कि इस मीटिंग में करेली व खुल्दाबाद के कई प्रभावशाली लोग भी उपस्थित थे। इनमें करेली स्थित एक मस्जिद का मौलाना भी शामिल था। इसके अलावा कुछ ऐसे लोग भी पहुंचे थे जो राजनीति में सक्रिय हैं और उनकी युवाओं पर अच्छी-खासी पकड़ है।

सूत्रों के मुताबिक जावेद मोहम्मद से कस्टडी रिमांड में हुई पूछताछ के दौरान एक बेहद चौंकाने वाली बात भी सामने आई है। वह यह है कि अटाला में 10 जून को जुमे की नमाज के बाद प्रदर्शन किया जाना है, इस बात की जानकारी एक छात्र संगठन के पदाधिकारी को भी थी। चौंकाने वाली बात यह है कि वह दूसरे समुदाय से है।

संदिग्धों को पूछताछ के लिए जल्द बुलाया जाएगा
पुलिस सूत्रों का कहना है कि जिन लोगों के नाम सामने आए हैं, उन्हें पूछताछ के लिए जल्द ही बुलाया जाएगा। पुलिस उनसे पूछताछ करेगी और बवाल मामले में उनकी संलिप्तता की भी जांच करेगी। अगर उनकी भूमिका संदिग्ध मिलती है तो मुकदमे में उनका नाम शामिल किया जाएगा। 

हालांकि पुलिस अफसर इस मामले में कुछ खुलकर बोलने को तैयार नहीं हैं। एसपी सिटी दिनेश कुमार सिंह का कहना है कि विवेचना चल रही है। जो भी तथ्य सामने आएंगे, उनके आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।

उदयपुर हत्याकांड पर बोले मुस्लिम धर्मगुरु- ऐसी कार्रवाई होनी चाहिए कि दोबारा कोई ऐसा कदम न उठा सके


 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios