Asianet News HindiAsianet News Hindi

अपने स्निफर डॉग की अंतिम विदाई में भावुक हुए यूपी पुलिस के जवान, दिया गया राजकीय सम्मान

पुलिस विभाग में 10 साल से अधिक सेवाएं देने के बाद डॉग वीकॉन को राजकीय सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी गई। उसे विस्फोटक खोजी डॉग नियुक्त किया गया था। रविवार को उसका निधन लंबी बीमारी के बाद हुआ। 

up police goodbye to vicon sniffer dog explosive section
Author
Moradabad, First Published Apr 25, 2022, 9:44 AM IST

मुरादाबाद: यूपी पुलिस विभाग में 10 साल से अधिक समय तक अपनी सेवाएं देने वाले डॉग विकॉन (लैब्राडोर) को राजकीय सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी गई। विकॉन को यूपी पुलिस में विस्फोटक खोजी डॉग के रूप में नियुक्त किया गया था। उसके निधन के पीछे लंबी बीमारी को कारण बताया जा रहा है। विकॉन ने तकरीबन 10 साल और 9 माह तक पुलिस में सेवाएं दी। 

2012 में हुई थी नियुक्ति

विकॉन का जन्म 20 जुलाई 2011 को हुआ था। उसे 20 जून 2012 को विस्फोटक खोजी डॉग के रूप में यूपी पुलिस में नियुक्ति मिली। जैसे ही विकॉन के मौत की खबर मिली तो एसपी सिटी, एसपी ट्रैफिक समेत कई पुलिस के अधिकारी मौके पर पहुंचे. इसी के साथ सिविल लाइंस में राजकीय सम्मान के साथ उसको अंतिम विदाई दी गई। 

वीआईपी मूवमेंट में भी होती थी तैनाती

पुलिस के अधिकारियों के मुताबिक विकॉन की तैनाती डॉग स्क्वॉड में थी। उसे विस्फोटक सामग्री को खोजने में महारथ हासिल थी। कई महत्वपूर्ण मुकदमों में भी उसने पुलिस का काफी सहयोग किया। कोई भी वीआईपी मूवमेंट होता था तो वहां उसकी तैनाती की जाती थी। उसकी मौत से पुलिसकर्मियों में गम का माहौल है। पुलिस के तमाम बड़े अधिकारियों ने पहुंचकर उसे अंतिम विदाई दी। इसी के साथ यह कार्यक्रम राजकीय सम्मान के साथ आयोजित किया गया। पुलिस के अधिकारियों ने इस दौरान बताया कि कई महत्वपूर्ण जगहों पर जिस तरह से वीकॉन ने बहादुरी से काम किया है उसे भुलाया नहीं जा सकता है। 10 साल 9 माह के सेवाकाल के दौरान उनसे अपने महत्वपूर्ण कार्यों से सभी के मन में अपने लिए जगह बनाई है। यही कारण है कि उसके जाने के बाद वह गम मौजूद लोगों के चेहरों पर दिखाई पड़ रहा है। 

गोरखपुर: जेल से जिला अस्पताल लाया गया मुर्तजा, घाव को देख डॉक्टर ने कही ये बात

BJP सांसद साक्षी महाराज ने फेसबुक में दिए सुरक्षा के उपाय, बोले- पुलिस बचाने नहीं आएगी, घर में रखें तीर कमान

लखीमपुर खीरी हिंसा: जेल में बेचैनी से कटी आशीष मिश्रा की पहली रात, पहले 7 दिन इस नियम का करना होगा पालन

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios