Asianet News Hindi

ऐसे होते हैं जिंदादिल इंसान: खौफ के बीच सरदारजी ने बचाई 5 कोरोना मरीजों की जान, आप भी कर सकते हैं ऐसा

झांसी में रोज सैंकड़ों कोरोना की चपेट में आ रहे हैं, जिसमें कई लोग अपनी जान गंवा देते हैं। ऐसे में यहां का जिला प्रशासन और डॉक्टर लोगों से प्लाज्मा दान करने की अपील कर रहे हैं, जिससे  प्लाज्मा थेरेपी से गंभीर रूप से बीमार मरीजों की जान बचाई जा सकती है।

uttar pradesh news good news one corona virus saved five corona patient in jhansi kpr
Author
Jhansi, First Published Apr 21, 2021, 3:07 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

झांसी (उत्तर प्रदेश). पूरे देश में कोरोना सूनामी से हाहाकार मचा हुआ है। सरकार और डॉक्टरों की लाख कोशिशों के बाद भी मरने वालों का सिलसिल थमने का नाम नहीं ले रहा है। हर कोई अपनों को बचाने के लिए दर-दर भटका रहा है। हालांकि, कुछ लोग इंसानियत की मिसाल पेश करते हुए अपनी जान दांव पर लगाकर लोगों की जिंदगी बचाने में जुटे हुए हैं। यूपी के झांसी के रहने वाले सरदार हैप्पी चावला भी उन लोगों में से एक हैं, जिन्होंने पांच कोरोना मरीजों को जीवन दान दिया है।

एक शख्स ने 5 परिवारों को टूटने से बचा लिया
दरअसल, झांसी में रोज सैंकड़ों कोरोना की चपेट में आ रहे हैं, जिसमें कई लोग अपनी जान गंवा देते हैं। ऐसे में यहां का जिला प्रशासन और डॉक्टर लोगों से प्लाज्मा दान करने की अपील कर रहे हैं, जिससे  प्लाज्मा थेरेपी से गंभीर रूप से बीमार मरीजों की जान बचाई जा सकती है। जिला अस्पताल में 5 मरीजों की जान को खतरा था, ऐसे में हैप्पी चावला प्लाज़्मा दान करने के लिए आगे आए। जहां उन्होंने  5 बार प्लाज्मा दानकर 5 लोगों की जिंदगी ही नहीं बचाई, बल्कि उनके पांच परिवारों को टूटने से बचाया है।

सरदार की  65 बार कर चुके हैं रक्तदान 
बता दें कि पिछली बार हैप्पी चावला खुद कोरोना से संक्रमित हुए थे, जहां उन्होंने महामारी को मात देने के बाद दूसरों की जिंदगी बचाने के लिए उतरे हैं। वह अब तक 65 बार रक्तदान कर चुके हैं। उनका कहना है कि पता नहीं कब आपकी सांसे थम जाएं, इसलिए हो सके तो दूसरों की जान बचा लो। ऊपर वाला आपके लिए ऐसे ही कोई मदद के लिए भेज देता है।

सिर्फ ये ही दान कर सकते हैं प्लाज़्मा
प्लाज़्मा सिर्फ वही लोग दान कर सकते हैं जो पहले कोरोना संक्रमित होकर उसे हराकर वापस लौटे हैं। क्योंकि उनके शरीर में एंटीबॉडी विकसित हो जाती हैं। यह एंटीबॉडी जब किसी कोरोना पीड़ित व्यक्ति को मिल जाती है तो उसकी कोरोना से लड़की की झमता बढ़ जाती है। जिसके बाद वह भी जंग जीतकर वापस आ जाता है। सरकार से लेकर प्रशासन ऐसे लोगों से प्लाज़्मा दान करने की अपील कर रहा है ताकि दूसरों की जान बचाई जा सके।
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios